Friday, 30 September 2016

कविता. ९५९. बहारों के साथ जीवन।

                                           बहारों के साथ जीवन।
बहारों के साथ जीवन कि धारा को समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन को हर मौके पर कई किस्सों के साथ जीवन मे हर मौके पर कहती है जो बहारों को परखकर जीवन कि धारा को फूलों को समझकर परख लेने कि जरुरत होती है।
बहारों के साथ मुलायम एहसास को समझ लेने कि जरुरत हर मौके पर रहती है जो बहारों को अलग तरह कि समझ और प्यास देकर आगे बढती है जो बहारों को परखकर ही हवाओं कि ताकद को कई बार कई दिशाओं मे ले जाने से अक्सर होती है।
बहारों के साथ मुलायम एहसास को समझकर दुनिया उनको कई किस्सों मे समझ लेती है जिसे धीमे से परख लेने पर ही तो दुनिया कि कहानी आगे बढती जाती है जो जीवन को कोई अलग तरह का मकसद हर बार देकर हर पल चलने कि जरुरत होती है।
बहारों के साथ मुलायम फूलों कि जरुरत रहती है जो जीवन मे फूलों को कई हिस्सों मे अलग तरह के मकसद देकर आगे बढती रहती है बहारों को जीवन मे हर मौके पर समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर बार किसी कोने मे आगे लेकर जाती है जिसकी जरुरत होती है।
बहारों के साथ कई एहसासों को परखकर ही तो दुनिया कई बार अलग कहानी देकर आगे चलती है जो बहारों को समझ ले वही दिशा हर मोड पर अक्सर सही लगती है जो जीवन को अलग तरह कि समझ देकर आगे बढती है जिसे समझ लेने कि जरुरत होती है।
बहारों के साथ कई दिशाए हर पल मे आगे बढती है जो हर मौके पर जीवन को बदलाव देकर चलती है जो बहारों मे कई कदमों के साथ आगे बढती है जो बहारों को समझ लेने कि ताकद जीवन को अक्सर देकर चलती है जिसमे खुशियाँ होती है।
बहारों के साथ कई किस्सों मे जीवन कि कहानी लिखी जाती है जो जीवन को कई मौकों पर आगे लेकर चलती रहती है जो बहारों को कई हिस्सों मे नई कहानी देकर चलती है जो जीवन को कई किस्सों मे आगे लेकर हर बार धीमे से बढती है जिसमे आगे बढने कि समझ होती है।
बहारों के साथ कई कहानियाँ जीवन को अलग रंगों मे परखकर चलती है जिन्हे समझ लेने से ही तो जीवन मे खुशियाँ मिलती है जो जीवन को अलग तरह कि समझ देकर आगे चलती रहती है जिसकी जरुरत होती है।
बहारों के साथ कई किस्सों मे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर पल कहती है कि हमे कभी कभी किसी हिस्से मे खुशियाँ ढूँढनी पडती है जो जीवन मे बहारों को परख लेने कि जरुरत हर मौके पर अलग तरह कि रोशनी जिन्दा होती है।
बहारों के साथ कई हिस्सों मे अलग तरह कि प्यास रहती है जो बहारों के अंदर कोई अलग किसम कि समझ देती रहती है जो जीवन मे हर एक मौके मे अलग तरह कि सोच देकर हर बार अलग मतलब देकर आगे बढते रहने कि जरुरत होती है।

कविता. ९५८. रफ्तार जीवन कि।

                                                      रफ्तार जीवन कि।
रफ्तार ही तो जीवन कि सच्चाई होती है जब जीवन को जल्दी से आगे बढना अहम लगता है तब अक्सर रफ्तार तो जीवन अपने आप आगे लेकर जाती है जो जीवन कि कहानी को अलग हकिकत देकर हर बार आगे बढती चली जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि सोच देकर चलती है क्योंकि रफ्तार को ही तो हर लम्हे मे आगे लेकर जाना होता है क्योंकि जीवन को कई हिस्सों मे समझ लेना हर बार जरुरी होता है क्योंकि रफ्तार से ही तो जीवन कि कहानी को एक अलग मकसद देकर जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि धारा को बहना सिखाती है हमे उससे सही दिशा मिलती जाती है क्योंकि रफ्तार ही तो जीवन कि कहानी को मतलब देकर आगे चलती जाती है क्योंकि रफ्तार ही तो बिना कोशिश कि वक्त से आती है जिन्दगी उसके साथ बढती जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि समझ हर बार देकर चलती रहती है क्योंकि रफ्तार को समझ लेने कि जरुरत हर किनारे पर रहती है रफ्तार के साथ ही तो दुनिया आगे बढते जाने कि अहमियत होती है हर बार जीवन मे जो राह जरुरी है उसकी समझ अपने आप नही आ जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि कहानी धीमे से समझाती है क्योंकि रफ्तार के अंदर ही तो असली बाते बनती है क्योंकि रफ्तार के बजह से ही तो आगे बढते जाने कि जरुरत जीवन मे पैदा होती है क्योंकि वक्त से ही तो कहानी आगे बढती जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि धारा को बदलाव देकर चलती रहती है जो जीवन को अलग तरह के किस्सों मे भरती है क्योंकि रफ्तार के बजह से ही तो जीवन को कई हिस्सों मे कुछ अलग बाते कहती है जीवन कि रफ्तार को बदलकर जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि ताकद बनती है क्योंकि जीवन मे उसकी जरुरत हर बार रहती है जो जीवन को अलग अलग किनारों से आगे लेकर चलती है जो जीवन मे कई तरह कि प्यास को कई तरह के मतलब देकर आगे चलती जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि तलाश होती है क्योंकि रफ्तार के अंदर जीवन कि कई धाराओं को समझ लेने कि जरुरत होती है रफ्तार के संग कई किस्सों मे समझ लेना जरुरत हर बार अलग एहसासों मे अक्सर समझ आ जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि धारा को बदलाव देकर आगे बढती रहती है क्योंकि हर बार रफ्तार को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर मोड पर पडती है जो रफ्तार को कई किस्सों मे आगे लेकर चलती रहती है जो हमे आगे लेकर जाती है।
रफ्तार ही तो जीवन कि दिशा को समझ अलगसी दे जाती है क्योंकि जीवन मे रफ्तार तो हर बार रहती है जो जीवन को कई किस्सों मे समझकर परख लेने कि जरुरत हर बार रहती है क्योंकि रफ्तार के अंदर ही तो जीवन कि कहानी हर मौके पर आगे जाती है पर दिशाए तो हर हमारे समझ से ही आगे जाती है।

Thursday, 29 September 2016

कविता. ९५७. हर मौके मे हरीयाली।

                                                 हर मौके मे हरीयाली।
हर मौके मे हरीयाली को समझ लेने कि जरुरत हर बार मिलती जाती है जो हरीयाली के साथ हमेशा असर अलगसा दे जाता है जो हरीयाली को कई किस्सों मे समझ देकर आगे बढता जाता है जो हरीयाली के अंदर एक नई ताकद लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को परख लेने कि जरुरत हर बार जीवन को अलग एहसास देकर आगे कई कहानियाँ देकर चलता जाता है जो हरीयाली को अलग तरह का मकसद देकर आगे बढता जाता है जो हरीयाली को समझ अलगसी देकर आगे लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को कई किस्सों मे समझ लेने का मजा बहोत आता है जो हरीयाली को समझ लेती है उस हरीयाली मे ही कई चीजों का मतलब आता है जो हर मौके पर जीवन मे हरीयाली के एहसासों को हर बार समझकर आगे लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को कई किस्सों मे समझ लेना जीवन मे रोशनी देकर जाता है हरीयाली के एहसासों को परखकर ही तो दुनिया को नई सुबह कि किरणों का असर मिल जाता है जो हरीयाली को समझ दे जाये उसका अलग असर रोशनी लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को परख लेने पर जीवन का अलग एहसास रहता है जो जीवन को कई मौकों पर अलग तरह कि प्यास देकर बढता जाता है जो हरीयाली के अंदर अलग तरह का एहसास देकर आगे बढने कि उम्मीदे हर पल लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को समझ लेना बडा काम आता है जो हर बार हरीयाली को समझ ले उसमे अलग तरह का मकसद हर बार नजर आता है जो हरीयाली को कई किस्सों मे बार बार समझ लेता है वही तो रोशनी लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को परख लेना जरुरी लगता है क्योंकि हरीयाली हर बार मौसम से तय नही होती है मौसम का बदलाव हरीयाली को रंग दे जाता है पर सच्ची हरीयाली को मन तो अक्सर अंदर से चुपके से लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को परख लेना जीवन मे जरुरी लगता है जो हमे हरीयाली का एहसास दे जाये वह कहानी को अलग समझ दे जाता है हरीयाली के अंदर का एहसास जीवन को बदल जाता है जो जीवन मे रोशनी लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को समझ लेना ही तो दुनिया को खुशियाँ दे जाता है मन से जो हरीयाली दे जाये वही एहसास हर पल को सही लगता है हर मौके मे जीवन हर पल राह बदलकर कई अलग तरह ही दिशा से आगे लाता है।
हर मौके मे हरीयाली को परख लेना जीवन को बदलाव देकर जाता है जो हर मोड पर दुनिया को समझ लेने कि जरुरत हर बार रखता जाता है जो हर मौके पर जीवन को कई किस्सों मे समझकर मन कि खुशियों को लाता है।

कविता. ९५६. हर शमा रोशनी दे जाये।

                                                             हर शमा रोशनी दे जाये।   
हर शमा रोशनी दे जाये यह जरुरी होती है कुछ शमा के जलने से घरोंदा  जलता है हर तेज रोशनी खुशियों का आना नही होता है शमा के हर एहसास के संग जीवन को अलग अलग हिस्सों मे पहचान लेना हर बार अहम होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये यह जीवन मुमकिन नही होता है कुछ हिस्सों को अँधियारे से लढना हर बार जरुरी होता है पर कुछ हिस्सों का असर देकर आगे बढते जाना ही तो जीवन का अहम किस्सा बनता है जिसे आगे लेकर चलना होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये यह जीवन मे काफी नही होता है जीवन मे रोशनी का अलग अलग किनारों पर कितने तरह का असर होता है जो जीवन को मतलब देकर जाता है जो जीवन मे शमा कि रोशनी को अलग तरह कि उम्मीदों के संग रहकर होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये वह ताकद कहाँ होती है शमा तो कुछ पल मे ही एहसास बदलकर चलती है उस शमा को रोकना आसान नही होता है क्योंकि आगे जो बन जाये उसका कोई अपना पराया अक्सर नही होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये वह जीवन मे आसान नही हो पाता है जीवन मे शमा कि ताकद को समझ लेना जीवन को मतलब सही नही दे पाता है जीवन मे शमा को समझ लेना ही सबसे अहम नजर आता है शमा को परखकर जीवन कई हिस्सों मे आगे लेकर जाता है शमा को परख लेना ही तो जरुरी होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये उसमे उजाला देने कि ताकद नही होती है क्योंकि शमा के भीतर जीवन अलग अलग एहसास देकर चलता है शमा के अंदर उम्मीदे तो होती है पर अगर संभलकर ना ले जाये तो जीवन उस से जलता नजर आता है शमा के अंदर कई एहसासों का जिन्दा रहना होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये हर शमा के अंदर पर धीमे धीमे शमा का असर बदलता चला जाता है शमा को समझकर ही तो जीवन मे उसे इस्तमाल करना होता है शमा के हर बदलाव संग जीवन बदलता जाता है शमा के अंदर के एहसासों के संग ही तो जीवन अपना रंग बदलता नजर आता है क्योंकि शमा को बदलना होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये हर बार ऐसा नही होता है शमा के अंदर कई किसम कि सोच का असर रहता है शमा कभी रोशनी देती है तो कभी कभी उस से घर भी जलता है पर उसे समझ लेना आसान नही होता है तो फिर जाने क्यूँ इन्सान शमा के साथ हर पल खेलता है जब के उसे काबू मे रखना इन्सान से नही होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये हर बार आसान नही होता है कभी कभी शमा को समझ लेना अहम बनता नजर आता है क्योंकि शमा मे ही वह अपनी जरुरत पाता है जो उसके जीवन को रोशनी हर पल देकर आगे बढती चली जाती है पर हर बार शमा को वह समझ नही पाता है जिसे समझ लेना जरुरी होता है।
हर शमा रोशनी दे जाये यह होता नही है क्योंकि उसका समझ लेना जरुरी होता है जब जीवन मे रोशनी हो तो वह सही तरीके से आगे बढ जाये तो असर करता रहता है क्योंकि शमा को समझ लेना हर बार अहम होता है जो जीवन को शमा के एहसास से हर पल देता है जिसे समझ लेना जरुरी होता है। 

Wednesday, 28 September 2016

कविता. ९५५. अक्सर दोहराना।

                                                   अक्सर दोहराना।
किसी बात को दोहराना अक्सर हमे आता है जो जीवन को समझ ले वह किनारा बडा प्यारा नजर आता है जो जीवन को अलग तरह का मकसद हर पल मे दे जाता है जो जीवन कि कहानी मे बदलाव का सहारा हर बार लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन कि कहानी को मतलब अलग देकर आगे जाता है जो जीवन को आगे बढना अहम नजर आता है हर किनारा जीवन के हर पंक्ती के साथ आगे चलता जाता है जो कहानियों मे रोशनी लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन कि धारा को कई किस्सों मे कहता जाता है जो जीवन को अलग तरह के किस्सों मे मकसद दे जाता है मौकों के संग अलग तरह कि सोच को परखकर जीवन आगे लेकर जाता है रोशनी लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन कि हर हकिकत बदलता जाता है जो जीवन मे हर मौके को अलग किसम कि समझ और ताकद देकर आगे बढता जाता है बात को दोहराना अलग तरह का एहसास देकर आगे ले जाता है जीवन को आगे लेकर आता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन कि कहानी को अलग तरीके से समझ कुछ ऐसी दे जाता है जिसे समझ लेना ही तो जीवन को कई कहानियों को अलग एहसास दे जाता है जो जीवन को बात को समझ लेने का एहसास अलगसा देकर रोशनी लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन को अलग तरह कि बाते समझाकर आगे बढता जाता है जो बातों को बार बार कहते रहने कि जरुरत जीवन कभी कभी पाता है जो जीवन को समझाकर आगे बढती है वह उम्मीद तो जीवन देकर आगे लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन को रोशनी दे जाता है उन एहसासों के संग ही तो जीवन कई तरह कि ताकद हर पल देकर आगे बढती जाती है क्योंकि बातों मे हर बार कुछ हिस्सों मे हकिकत छुपी रहती है जो जीवन मे खुशियाँ लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर जीवन को अलग समझ देकर आगे चलते हुए बढता जाता है जिसे बार बार दोहराने कि जरुरत होती है उस बात को कई किस्सों मे समझ लेना हर बार समझकर आगे बढते हुए जाना ही हर पल रोशनी लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर कई किस्सों कि ताकद हर बार दे जाता है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जो बात के मतलब देकर आगे बढता हुआ जाता है जो जीवन मे कई दिशाओं को हर पल कि उम्मीदे देकर आगे लाता है।
किसी बात को दोहराना अक्सर किनारों को जरुरत होती है तो वह बाते अक्सर दोहराई जाती है क्योंकि बातों मे ही तो हर मोड पर दुनिया जिन्दा रहती है जो बात बार बार कही जाये उस बात को समझ लेना हमे जीवन मे आगे लाता है।

कविता. ९५४. अंदर का मकसद।

                                                     अंदर का मकसद।
जीवन के अंदर का मकसद हर बार रोशनी तय करता जाता है जो जीवन को कई इशारों मे धीमे से समझता जाता है जो जीवन को मकसद देता है वही खयाल सही हो तो ही जीवन को कई तरह के मकसद मे समझ लेना अहम नजर आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर बार अलग एहसास देकर चलता है जो जीवन को अलग तरह कि समझ दे जाता है वह मकसद देकर आगे बढता जाता है जो जीवन को नया एहसास देकर चलता जाता है जो ताकद लेकर आता है।
जीवन के अंदर का मकसद से हर बार जीवन को समझ अलग तरह कि आती है जो जीवन को सोच अलगसी दे जाती है जो जीवन मे हर मकसद को एक प्यास देकर चलती है एहसास ही तो जीवन कि धारा को मतलब देकर आगे बढता आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर पल जीवन को समझ लेना ही तो जीवन को मतलब देकर जाता है क्योंकि मकसद ही जीवन कि दिशाए बनाता है हर मकसद ही तो जीवन को अलग एहसास देकर हर बार आगे लेकर चलता हुआ आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर मोड को परखकर आगे चलता हुआ जाता है क्योंकि जीवन ही तो मकसद देकर आगे बढता जाता है जो जीवन मे मकसद देकर कई मौकों पर जीवन कि प्यास को कई किसम कि धारा मे बदलता हुआ आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर पल अलगसा एहसास देकर चलता है जो जीवन मे प्यास कि शुरुआत देकर जाता है जो मकसद के अंदर कई किनारों को समझ लेना जीवन कि जरुरत बन जाती है जो जीवन को मकसद देकर आगे चलता हुआ आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर बार कुछ तो कहता रहता है क्योंकि मकसद ही तो जीवन को अलग किसम का एहसास देकर आगे बढता हुआ जाता है जो मकसद कि दिशाए हर मोड पर बदलता हुआ हर बार आगे बढता हुआ आता है।
जीवन के अंदर का मकसद हर पल हमारे जीवन को अलग तलाश देकर चलता हुआ हर मोड पर जाता है हर मौके पर जीवन को अलग सोच कि जरुरत मकसद ही तो देता है वही तो जीवन कि तलाश बनकर आगे चलती जाती है क्योंकि मकसद ही तो जीवन मे अहम नजर आता है।
जीवन को अंदर का मकसद साँसे देकर आगे चलता जाता है जो जीवन को कई किस्सों के साथ आगे लेकर चलता है क्योंकि मकसद ही तो हमारा जीवन बनाता रहता है मकसद के साथ ही तो अक्सर हर पल धीमे से समझ आता है।
जीवन को अंदर का मकसद दिशाए कई हर पल देकर जाता है जो जीवन मे कई कदमों पर मकसद कि सोच देकर आगे चलता जाता है जो मकसद को परख लेना अहम बताता है वही जीवन मे कई किसम के मकसद देकर आगे आता है जो सोचकर उम्मीदे देकर आगे बढकर आता है।

Tuesday, 27 September 2016

कविता. ९५३. मौके के अंदर कि कहानी।

                                                            मौके के अंदर कि कहानी।
हर मौके के अंदर जीवन को अलग एहसास मिलता है जो जीवन कि धारा को अलग समझ देकर चलता है जब जीवन मे हर मौका आगे बढता है तब हर एक पल मे जीवन को अलग समझ देकर आगे चलता है जो एहसास दे जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को कई कहानियों कि सौगाद मिलती है जो जीवन मे हर एक कदम पर अलग तरह कि आस देती है जो जीवन को अलगसा जसबा देकर हर मोड पर आगे बढती रहती है जो मौकों को ताकद दे जाती है।
हर मौके के अंदर जीवन को कई किस्सों कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन मे कहानी को अलग समझ और जस्बात देकर आगे बढती है जो जीवन को हर बार अलग तरह कि ताकद देकर आगे बढती है मौकों मे ही तो उसे जाना जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को कई हिस्सों कि आस मिलती है जो जीवन को अलग तरह कि आदत हर बार देकर चलती है जो मौकों को अलग तरह का एहसास दे जाती है जो जीवन मे हर एक मौके के अंदर अलगसी प्यास देकर जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को कई किनारों को समझकर आगे बढते जाने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जिसमे हमारी दुनिया जिन्दा रहती है जो दुनिया को अलग तरह कि समझ देकर आगे चलती है जो जीवन को जस्बात देकर आगे जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को सतरंगी सोच नजर आती है जिसे समझकर धीमे धीमे से आगे बढते जाने कि जरुरत जीवन मे होती है जो मौकों को हर बार साँसे दे जाती है जिन्हे समझ लेने कि चाहत मन मे हर बार जिन्दा हो जाती है जिसके सहारे जीवन आगे जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को अलग तरह के एहसासों कि खुशबू नजर आती है जो जीवन कि कहानी को कई तरह के मकसद देकर चलती जाती है जो जीवन को अलग तरह कि प्यास देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को मकसद दे जाता है।
हर मौके के अंदर जीवन को कई किनारों को समझ लेने कि जरुरत हर बार नजारों मे रहती है जो जीवन मे हर एक पल मे जो मतलब दे जाती है जो मौकों को समझ देकर आगे बढती जाती है जो जीवन मे हर मौका जीवन कि बजह बन जाता है।
हर मौके के अंदर कई खयालों कि हकिकत जिन्दा होती रहती है जो जीवन को कितने मौकों मे आगे लेकर चलती है क्योंकि मौकों मे ही तो कदमों को एहसास देकर जाने कि सोच अक्सर जिन्दा रहती है क्योंकि वह सोच तो मौका ही देकर जाता है।
हर मौके के अंदर कई किनारों कि ताकद जीवन मे समझ लेने कि जरुरत अक्सर होती है जो जीवन मे कई मौकों मे और कई कदमों के अंदर जिन्दा रहती है जो जीवन को मौकों के अंदर समझ देती है जो मौकों से ही कदमों कि ताकद देकर जाता है।

कविता. ९५२. जब सोच को कई किसम के खयाल।

                                                        जब सोच को कई किसम के खयाल।
जब सोच को कई किसम के खयाल से जीवन मे आगे चलता हुआ आगे चलता है हर खयाल के अंदर जीवन को समझ लेना जरुरी नजर आता है हर बार खयाल के सहारे जीवन का अलग एहसास हर सोच मे जिन्दा रहता है क्योंकि हर खयाल मे ही जीवन छुपा होता है।
जब सोच को कई किसम के किनारों कि ताकद के साथ समझ लेना अहम लगता है जो जीवन को कई किनारों के साथ आगे लेकर चलता है सोच के अंदर के खयाल को परख लेना हर सोच मे जरुरी होता है जो जीवन मे कई खयालों को समझ लेना जरुरी हर पल होता है।
जब सोच को कई किसम के मौके का असर नजर आता है हर सोच को समझकर ही जीवन के अंदर अलग तरह का असर लाता है जो जीवन मे खयालों कई तरह कि समझ  देकर आगे चलता जाता है जो सोच को कई खयालों से जोडता हुआ आगे बढता है वही सही किनारा होता है।
जब सोच को कई किसम के खयालों से जोडे उस सोच का भी एक खयाल होता है उसका भी अपना किनारा होता है जो जीवन को कई इशारों मे अक्सर समझाता रहता है कि सोच को परख लेना जीवन मे जरुरी होता है क्योंकि जब उसे परख लेते है तो ही जीवन का इरादा जिन्दा होता है।
जब सोच को कई किसम के राहों मे समझले वही सही इरादा होता है जो जीवन को कई किस्सों जिन्दा कर ले वही जीवन का अलग तरह का किनारा होता है जो जीवन को दिशाए देता है जीवन के हर एक मतलब का सहारा बनता है जो ताकद देकर उम्मीदे देने का इशारा होता है।
जब सोच को कई किसम के दिशाओ मे समझले उस सोच को अलग दिशा का सहारा होता है जो दिशाओ मे ही जीवन को अलग अलग तरह के मतलब देकर चलता है जो जीवन मे उम्मीदों का सहारा बनता है जो जीवन कि ताकद का एक अलग इरादा अक्सर होता है।
जब सोच को कई किसम कि राहों मे परख ले उसका एक अलग असर होता है जिसे समझ लेने से ही तो जीवन अलग दिशाओं को अलग तरह कि समझ देता है उस सोच को समझ लेना ही जीवन मे अहम होता है क्योंकि उस सोच के अंदर ही जीवन कि कहानी का सच होता है।
जब॒ सोच को कई  किसम के तरीकों से समझले उसका जीवन खुशियों से भरता है क्योंकि सोच को कई बार कई किस्सों मे समझकर ही तो जीवन का किस्सा बनता है जो जीवन को ताकद देकर चलता है जीवन को सोच के सहारे परख लेना अहम हर कदम पर होता है।
जब सोच को कई किसम दिशाए दिखाती है उस आजादी को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर किनारे पर आती है जो दुनिया बदलकर रखती जाती है जो जीवन को कई कहानियों मे आगे ले जाती है जो जीवन मे कई चीजे बताती है जब जीवन ताकद देनेवाला खयाल होता है।
जब सोच को कई किसम कि उम्मीदे हर बार देनी जरुरी होती है तब जीवन को हर मौके पर अलग दिशाए देकर हर पल जीवन कि गाडी चलती है जब जीवन को कई किनारों मे अक्सर कई इशारे देकर चलती है तब जीवन मे सोच को अलग तरह कि ताकद देकर चलती है जिसे हर पल आगे बढना होता है। 

Monday, 26 September 2016

कविता. ९५१. हर लम्हे मे कोई अलग किनारा।

                                                    हर लम्हे मे कोई अलग किनारा।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा तो दिखता है जिसे लम्हे के सहारे संसार आगे लेकर चलता है जो जीवन को लम्हों मे हर बार अलग एहसास देकर चलता है जो लम्हों के संग जीवन कि कहानी को हर मौके पर बदलाव देकर चलता जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग एहसास जीवन को जुदा कर देता है जिसे परख लेना हमे हर मौके पर एहसास अलगसा दे जाता है जो लम्हों को कई तरह कि समझ देकर चलता जाता है जो हर लम्हे मे कोई अलगसी सोच देकर साँसों का एहसास बदलकर चलता जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग सोच जीवन को समझ तो अलगसी दे जाती है जो जीवन के एहसास को समझ अलग देकर आगे बढता है जो लम्हों को अलग तरह से समझ लेने कि सोच जीवन को देकर आगे बढता हुआ अक्सर चलता जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा हर बार जीवन को मिलता जाता है जो जीवन कि कहानी को अलग तरह कि प्यास देकर आगे बढता जाता है हर लम्हे को समझकर जीवन कि कहानी को हर बार अलग किस्सा आगे लेकर चलता जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा हर बार जीवन को पहचान अलगसी देकर जाता है जो लम्हों कि कहानी को एहसास अलगसा देकर आगे बढता जाता है जो लम्हों कि ताकद बनकर जाता है जो जीवन को किनारों मे जिन्दा करता जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा हर पल असर करता है हर लम्हे को हर कदम कोई असर कर जाती है हर लम्हे जीवन को कोई अलग सोच देकर आगे लेकर जाता है जो हर लम्हे के अंदर कोई अलग सोच और मतलब देकर आगे चलते हुए जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा जीवन मे कई किसम कहानियाँ जीवन को बदलाव देकर आगे चलती हुई जाती है जो जीवन को समझ देती है जीवन के अंदर अलग किसम कि प्यास जो जिन्दा हो जाती है हर लम्हे मे कई तरह कि सोच जिन्दा कर जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा जिन्हे समझकर आगे बढना जरुरी हर बार होता है हर मोड को समझ लेना हर बार जरुरी होता है हर पल लम्हे मे जीवन को अलग तरह का एहसास हर मौके पर होता है जो जीवन को लम्हों से जोडता हुआ हर बार जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा देकर आगे चलता रहता है क्योंकि लम्हों के अंदर जीवन कि अलग राहो से अलग असर करता हुआ आगे बढता जाता है हर लम्हा जीवन मे कई किनारे देकर आगे चलता हुआ जाता है जो जीवन को कई किनारों को समझकर आगे जाता है।
हर लम्हे मे कोई अलग किनारा कोई सोच दे जाता है  जीवन को कई दिशाओ मे नई ताकद मिलती रहती है जीवन तो कई लम्हों को समझकर आगे लेकर चलता जाता है जो लम्हों के साथ जीवन तो कई किनारे मे जिन्दा हो जाता है क्योंकि लम्हों से ही तो अक्सर जीवन जिन्दा हो जाता है। 

कविता. ९५०. जब हम रोकना चाहे तो।

                                                   जब हम रोकना चाहे तो।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि कहानी रुकती है यह नही होता है तो क्यूँ रोकना चाहे हमे उसका मतलब समझ लेना आसान नही होता है कई बार जीवन मे बार बार आगे चलने से ही तो खुशियाँ हासिल हो जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि गाडी नही रुकती है वह चलती रहती है पर उसे रोकने कि जरुरत कभी नही होती है क्योंकि सही दिशा तो हमारे जीवन का खयाल होती है जिसे पाने के लिए रुकने कि नही चलने कि जरुरत हो जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि धारा रुकती नही है वह हर कदम पर बहती रहती है वह जीवन को रोकना सही नही सोचती है बहते जाने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है वही समझाती है आगे चलती जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि सोच ताकद बनकर आगे बढती रहती है जो जीवन को कई तरह के हिस्सों मे आगे बढती है जो जीवन को समझ देकर जाती है जो हमे आगे लेकर चलती जाती है जो जीवन को रोकना मना करती जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि किनारों से ही तो कहानी बनती है जो जीवन को अलग पहचान देकर चलती है जो रोकना नही चलते रहना सिखाती है जो आगे बढते रहने कि पुकार हर बार देकर आगे बढती हुई चलती रहती है वही आगे लेकर जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि जरुरत हर बार बदलती रहती है वही जीवन मे अलग तरह कि ताकद जिन्दा रखती है जो जीवन को आगे बढते जाना सिखाती रहती है जो जीवन कि धारा को ताकद बनकर आगे लेकर चलती है पर वह सिर्फ चलना समझाती जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि सोच ताकद देकर आगे बढती है जो जीवन को हर पल अलग मतलब के साथ दुआए देकर आगे बढती रहती है क्योंकि जीवन को रोकने कि जरुरत अक्सर नही होती है अगर जरुरत हो तो जिन्दगी अपने आप रुक जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि प्यास अलग एहसास देकर आगे बढती रहती है क्योंकि रोकने कि जरुरत हमे नही होती है आगे बढते जाना ही तो जीवन कि प्यास रहती है जो जीवन को अलग एहसास देकर हर बार आगे बढती रहती है जो आगे लेकर जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि जरुरत हर मौके पर हर बार होती है जो जीवन को कई तरह के एहसासों कि ताकद हर पल देकर चलती जाती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे बढती है हमे आगे लेकर चलती रहती है रुकना भूल जाती है।
जब हम रोकना चाहे तो जीवन कि कहानी रुकती नही है तो क्यूँ ना जिये उस दिलचस्प कहानी को उस धारा को रोकने कि कोई जरुरत किसी भी पल नही होती है क्योंकि जीवन को चलते हुए आगे बढते जाने कि जरुरत हर बार हमे हो जाती है।

Sunday, 25 September 2016

कविता. ९४९. किसी छोटेसे बदलाव से।

                                                     किसी छोटेसे बदलाव से।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया बदलती जाती है छोटी छोटी बाते भी जीवन को बदलकर जाती है क्योंकि बदलाव के साथ ही तो दुनिया बदलती जाती है हर बदलाव कि कहानी रंग अलग तरह का देकर चलती जाती है जो जीवन को बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया कुछ अलग बनती नजर आती है उस बदलाव से ही तो जीवन कि धारा हर बार कोई एहसास अलगसा देकर चलती जाती है जो बदलाव को बदलकर दुनिया का एहसास हर कोने पर बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को हर मौके पर अलग बनाती है जो हर बदलाव के साथ अक्सर एहसास नयासा दे जाती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर पल के अंदर हर बार नजर आती है जो जीवन को रोशनी देकर बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को कई हिस्सों मे समझ लेने कि जरुरत होती है जो हर बदलाव के संग अलगसी हकिकत हर बार बताती जाती है जो बदलाव को परखकर उसे समझ लेने कि सोच हर मौके पर देकर उसे बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को नई उम्मीदे मिल पाती है बदलाव को कई किस्सों मे बदलती हुई दुनिया हर किनारे को समझ अलगसी देकर जाती है जो  कई किसम के एहसास दे जाती है जो हर बदलाव के संग बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को अलग तरह का एहसास मिलता है जो बदलाव कि कहानी को समझकर अलग एहसास देकर आगे चलती है जो जीवन मे बदलाव को समझकर आगे बढती जाती है जो हर बदलाव के संग हमे कुछ बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को अलग तरह कि रोशनी हर बार मिलती रहती है जो जीवन कि कहानी को कई किस्सों मे कहती रहती है जिसे परख लेने कि जरुरत हर बार जीवन को हर पल मे होती है जो बदलाव को भी कभी कभी बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को समझ लेने कि जरुरत हर मौके पर अलग तरह कि होती है जो जीवन को हर बदलाव के संग एहसास कई तरह के देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को बदलाव तो देकर चलती है जो जीवन को अक्सर बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को समझ लेने कि जरुरत हर कहानी को हर मौके पर नजर आती है जो बदलाव के संग कई किस्सों को मतलब दे जाती है जो बदलाव के सहारे जीवन को अक्सर मकसद देकर आगे बढती है जो जीवन को बदलकर जाती है।
किसी छोटेसे बदलाव से दुनिया को समझ लेना ही तो अहम बात होती है जो जीवन कि कहानी को अलग तरह कि सोच या फिर प्यास देकर चलती रहती है जो जीवन मे बदलाव कि कहानी कहती रहती है क्योंकि जीवन को वह बदलकर जाती है।

कविता. ९४८. पानी और किनारा।

                                                      पानी और किनारा।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग एहसास देकर आगे जाता है हर किनारा अपनी कहानी लेकर आगे चलता है किनारा तो अपनी बाते कहता जाता है क्योंकि किनारों से ही तो अपनी कहानी हर मोड पर अलग सोच देकर चलती जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग सोच देकर आगे चलते हुए बढता जाता है जो जीवन को अलग एहसास देकर हमे उम्मीदे दे जाता है जो जीवन के इशारे हर बार बदलकर जाता है क्योंकि किनारे कि प्यास तो जीवन को अलग तरह का एहसास दे जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को जरुरी रहता है फिर जाने क्यूँ पानी कि प्यास हर बार रहती है जो जीवन को हर मौके पर अलग एहसास देकर जाती है जो किनारों को अलग तरह की ताकद देती है पर वही पानी की प्यास देकर हर बार आगे बढती जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को समझ अलग तरह कि अलग मकसद देकर जाता है जो किनारों को मतलब हर बार अलग मिलता रहता है क्योंकि किनारों को समझ लेना ही तो जीवन है पर पानी ही तो अक्सर जीवन होता है जिसकी प्यास मेहसूस कियी जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग उम्मीदे देकर आगे बढता जाता है क्योंकि उम्मीदों को समझ लेना ही तो जीवन कि सच्ची आस होती है जो जीवन को कई किनारों को कई हिस्सों मे आगे लेकर चलती रहती है जो जीवन को उम्मीदे देकर जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग समझ देकर आगे बढता जाता है क्योंकि किनारों से ही जीवन कि उम्मीदे लिखी जाती है जो जीवन मे किनारों को समझ कई तरह कि देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को उम्मीदे कई किसम कि देकर जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग तरह कि खोज दे जाता है वह बताता है कि जीवन के हर पल मे बदलाव लाता है जो जीवन को किनारों से समझ लेना चाहता है कई किनारों से ही तो जीवन कि सोच मजबूत हर मौके पर हर बार रह जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को अलग मकसद देकर आगे चलती रहती है क्योंकि किनारों मे अलग किसम की कहानी होती है जो पानी के संग ही तो जीवन को ज्यादा दिलचस्प बनाती है क्योंकि पानी और किनारा दोनों कि प्यास जीवन को आगे लेकर जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को समझ अलगसी दे जाता है जो जीवन मे हर मौके पर प्यास अलग दे जाता है जो जीवन को किनारा और पानी को समझ लेने कि ताकद दे जाती है जो जीवन मे किनारों मे भी पानी कि प्यास देकर आगे बढती जाती है।
कोई अलग किनारा जीवन को समझ अलग किसम कि देकर जाता है जो किनारों के अलावा पानी को भी समझ लेना चाहता है जो पानी और किनारा दोनों कि कहानी को समझाता है वही जीवन कि कहानी का मतलब समझ लेता है उसे कहानी समझ आती है।

Saturday, 24 September 2016

कविता. ९४७. मौसम के एहसास को हर बार।

                                    मौसम के एहसास को हर बार।
मौसम के एहसास को हर बार समझ लेने कि जरुरत होती है क्योंकि मौसम कि कहानी हर बार अलग मतलब देकर आगे बढती है जो जीवन को मौसम के बदलाव देकर चलती है जो जीवन को मौसम के संग सोच अलगसी रहती है।
मौसम के एहसास को हर बार सोच अलगसी रहती है क्योंकि मौसम के बदलाव के संग हवाओं कि दिशाए बदलती जाती है जो मौसम को हर मौके पर अक्सर सोच अलगसी देकर आगे चलती है जिसमे उम्मीदे सच्ची रहती है।
मौसम के एहसास को हर पल कहानी बदलती जाती है जिन्हे समझकर आगे बढते जाने कि आस जीवन मे एहसास जुदासा लाती है मौसम को कई रंगों मे दुनिया आगे लेकर चलती जाती है जिसमे अलग एहसास देकर रहती है।
मौसम के एहसास को हर मौके पर जीवन को अलग तरह कि सोच मिलती जाती है जो जीवन को हर मौके पर मौसम के अंदर बदलाव का एहसास अलगसा देकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर एक मौसम मे जिन्दा रहती है।
मौसम के एहसास को हर बार अलग तरह कि दिशाए मिलती रहती है उनको मौसम के अंदर पहचान लेने कि जरुरत हर बार होती है जो मौसम के अंदर सोच को हर मौके पर अलग एहसास देकर वह हर बार जिन्दा रहती है।
मौसम के एहसास को हर कोने मे हर मौके पर हर पल कोई कहानी कहती है हर बार हवाए नही कभी कभी मौसम कि कहानी भी आगे बढती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है जो जीवन मे कई किस्सों को आसानी से कहती रहती है।
मौसम के एहसास को हर बार जीवन को अलग तरह कि चाहत हर बार होती है जीवन को कई किस्सों मे रंग अलग देकर आगे चलती है जो मौसम के बदलाव कि कहानी हर बार कहती जाती है मौसम तो मन के होते है जिनमे दुनिया जिन्दा रहती है।
मौसम के एहसास को हर मौके पर अलग तरह कि उम्मीदे मिलती रहती है जिन्हे समझ लेने पर ही तो दुनिया अक्सर कई दिशाए जिन्दा करती जाती है जो मौसम के एहसास को बदलाव देकर हर बार आगे बढती रहती है।
मौसम के एहसास को हर बदलाव देकर दुनिया आगे बढती है जो मौसम के फर्क को जीवन कि कहानी कहती है जो मौसम के एहसास को अलग कहानी कहती है जो जीवन मे हर मौके पर मौसम को बदलकर आगे बढती रहती है।
मौसम के एहसास को हर मौके पर अलग समझ मिलती है जो मौसम को समझ तो अलगसी देकर चलती है जो दुनिया को एहसास जुदासा देकर चलती है जो जीवन मे हर मौके पर मौसम के बदलाव को कहती रहती है।

कविता. ९४६. हर लहर पर लिखी बाते।

                                                   हर लहर पर लिखी बाते।
हर लहर पर हम एक कहानी लिखते है वह अक्सर सागर तक ले जाती है हम कभी ना समझ पाये शायद वह सागर तक पहुँचाती भी होती है हमने यह नही सोचा था कि वह जवाब भी देकर आगे बढती जाती है।
हर लहर पर हम कोई कहानी रखकर आगे बढते जाते है क्योंकि लहरों से ही तो जीवन कि कहानी आगे बढती रहती है जो जीवन मे लहरों को अपने साथ रखती है जो जीवन मे लहरों को आगे लेकर चलती हुई जाती है।
हर लहर पर हम कोई सोच रखकर बहते जाते है क्योंकि लहरों के उपर कि जीवन कि कहानी हर बार होती है जो लहरों को समझकर आगे लेकर चलती जाती है वह कहानी लहरों के साथ जीवन को बदलकर जाती है।
हर लहर पर हम कहते है कोई बात मतलब तो देती है पर लहरों पर लिखी बात समुंदर तक पहुँच जाये उतनी आसान जीवन कि बात नही होती है जो लहरों को कहानियाँ तो देकर चलती है पर कब समुंदर पहुँच जाये यह बात आसान नही रह जाती है।
हर लहर पर हम बात समझ तो लेते है पर लहरों को बदलकर बातों को आगे ले जाना यह बात आसान नही होती है जो बात आगे तक पहुँच पाये उस तक जाने कि राह हमे आसानी से समझ नही आती है जो कहाँ राह के आखिर तक जाती है।
हर लहर पर हम बात को बदलाव देकर चलते है जो लहरों को मतलब देकर आगे जाती है जो लहरों के एहसासों के साथ अक्सर आगे बढती रहती है क्योंकि लहरों पर ही तो जीवन कि कहानी हर बार आगे बढती चली जाती है।
हर लहर पर हम बात तो कहते है हर बार लहरों मे बदलाव को समझकर दुनिया को आगे बढते जाने कि जरुरत हर मौके पर अलग एहसास को समझकर आगे चलते रहने कि जरुरत है अलग तरह कि सोच ही जीवन को आगे लेकर जाती है।
हर लहर पर हम बात तो कहते है जाने कि जरुरत हर मोड पर अक्सर रहती है जो लहरों के सहारे हर बार जीवन मे बदलाव देकर चलती है क्योंकि लहरों को एहसास के बदलाव देने कि जरुरत जीवन मे हर बार नया मोड देकर आगे जाती है।
हर लहर पर हम बात तो कहते है जाने कि उम्मीदे देकर आगे बढती रहती है जो लहरों के सहारे आगे हर बार आखिरी मोड तक जाती है जो आखिरी मोड पर जीवन को समझ हर बार देकर आखिरी कोने तक हर बार जाती है।
हर लहर पर हम बात तो कहते है पर कौनसी बात समुंदर तक पहुँच पाती है यह बात समझ नही आती है पर कभी कभी ऐसा लगता है हर बात को लहर समुंदर तक पहुँचाती है पर हर बात मुमकिन नही होती है पर सही बात खूश करती है कि समुंदर तक बात तो पहुँच जाती है।
हर लहर पर हम बात तो कहते है पर जरुरी नही होता है कि हर बात हो जाये बस यह एहसास कि समुंदर हमारी बाते सुनते है कोई कोशिश करता है इसलिए समुंदर कि दोस्ती दिखती है उसमे सबसे ज्यादा खुशियाँ हमे मिल जाती है।

Friday, 23 September 2016

कविता. ९४५. सही राह का मौका।

                                             सही राह का मौका।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि कहानी लिखी जाती है जो जीवन को अलग तरह के मौसम देकर आगे बढती जाती है हर मौके मे कोई अलगसी याद सुहानी आती है जो जीवन को कई मौकों मे अलग पहचान देकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग किरण रोशनी दे जाती है जो जीवन मे मौकों के संग बदलाव का एहसास हर बार देकर आगे बढती जाती है जो मौकों मे ही छुपी ताकद का इस्तमाल बताती है जो जीवन को मौकों के संग मकसद देकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि साँसे सोच हमे देकर आगे बढती जाती है जो जीवन मे मौकों के अंदर बदलाव देकर दुनिया को मकसद अलग तरह का देकर आगे बढती है जो जीवन मे मौकों का एहसास बदलकर कर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि रोशनी बदलाव देकर चलती है जो जीवन मे कई किस्सों मे हर बार हर पल अलग एहसास देकर चलती रहती है जो जीवन को मौकों के संग बदलकर आगे बढती रहती है जो जीवन मे आगे लेकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि सोच आगे आती है उसे समझकर आगे बढने से ही दुनिया अलग रोशनी देकर आगे चलती है जो हर मौके पर अलग किसम का एहसास देकर नई रफ्तार देकर आगे बढती रहती है जो जीवन को आगे लेकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि ताकद हर बार उजागर होती रहती है जो जीवन मे मौकों मे कई तरह के किस्से देकर आगे बढती रहती जाती जो जीवन को साँसे देकर आगे बढती रहती है जो जीवन मे मौकों को आगे लेकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग एहसास को समझकर उसे परख लेने कि जरुरत होती है जो जीवन मे मौकों को हर बार आगे लेकर चलती है क्योंकि मौकों मे ही कई किस्सों कि कहानी जीवन को साँसों कि सौगाद देकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि कहानी तो लिखी जाती है जो जीवन को मतलब अलग तरह का देकर आगे चलती है जो मौकों पर कई किस्सों को समझ लेने कि ताकद देकर आगे बढता जाता है क्योंकि मौकों मे ही तो जीवन कि आवाज सुनी जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि तोहफे कि जरुरत हर बार रहती है जो मौकों को अलग समझ देकर आगे बढती जाती है हर पल मौकों मे ही तो खुशियाँ हर बार मिलती है जो जीवन को मकसद अलग तरह का हर बार देकर जाती है।
हर मौके पर कोई अलग तरह कि चीजे मिलती है पर उनमे कुर्बानी भी हर बार होती है जो मौकों को समझ अलग देकर चलती रहती है जो जीवन मे मौकों मे सिखाती है कि सही राह से बडा कोई तोहफा नही होता है जो गलत राह दिखाते है उन मौकों कि राह छोडी जाती है।

कविता. ९४४. जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है।

                                        जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब उसकी अहमियत समझ लेने कि जरुरत जीवन मे अक्सर रहती है क्योंकि साँसे जीवन मे हर मौके पर अहम लगती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत हर राह पर अक्सर रहती है जो उम्मीदों से मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब अपने साथ दूसरे कि साँसों कि अहमियत भी समझ लेनी जरुरी रहती है जो उसे समझ ले उसकी दुनिया ही सच्ची होती है क्योंकि हर साँस कि एक अलगसी कहानी होती है जिसमे साँसे मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब साँसों कि अहमियत हर बार समझ लेती है क्योंकि साँसों से ही तो जीवन कि कहानी हर बार अलग मतलब देकर आगे चलती है जो साँसों को हर बार मतलब देकर आगे बढती हुई मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब साँसों कि कहानी समझकर आगे बढती है जो जीवन को कई दिशाए दे जाती है साँसों मे कई किस्सों कि कहानी हर बार समझ लेनी जरुरी होती है जो जीवन को नई रोशनी और रफ्तार देकर आगे चलती हुई मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन को अलग एहसास देकर जीवन को अलग ताकद दिखाती जाती है साँसों को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत हर बार रोशनी देकर जाती है जिसमे जीवन को अक्सर नई रफ्तार मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन कि सोच अलगसी बनाती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे चलती है जो जीवन को सच्ची ताकद देकर आगे बढती जाती है जिससे जीवन के साँसों को समझ अलग तरह कि मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन को अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है जो जीवन मे साँसों को अलग एहसास देकर चलती जाती है क्योंकि साँसों को समझकर ही तो दुनिया आगे बढती है क्योंकि साँसों से ही जीवन कि ताकद मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन को कहानियाँ हर बार अलग मिलती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है जो साँसों से ही तो दुनिया कि अलग ताकद और सौगाद देकर जाती है जिसमे जीवन को रफ्तार मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन कि कहानी बदलती जाती है जिसमे साँसे नई सौगाद देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को ताकद हर मौके दे जाती है क्योंकि उन ख्वाबों  की ताकद हमारी साँसों से ही तो मिलती है।
जीवन को साँसों कि दुआ जब मिलती है तब जीवन को अलग तरह कि समझ हर मौके पर जिन्दा रहने कि उम्मीद हर बार होती है क्योंकि साँसों से ही जीवन कि धारा हर बार आगे चलते जाने कि दुआ हर साँस को अहमियत देने से होती है क्योंकि कोई साँस जीवन मे पराई नही होती है उसमे वही दुआ छुपी हुई मिलती है।

Thursday, 22 September 2016

कविता. ९४३. हर राह मे कई कदमों कि सौगाद रहती है।

                                          हर राह मे कई कदमों कि सौगाद रहती है।
हर राह मे कई कदमों कि सौगाद छुपी रहती है जो राहों को मतलब हर बार देकर चलती है जो राहों को कई किनारों का एहसास दे जाती है जो राहों के अंदर बदलाव देकर आगे बढती जाती है जो राहों को ताकद देकर चलती है।
हर राह मे कई कदमों कि कहानी छुपी रहती है जो राहों को ताकद का अलग मकसद देकर आगे बढती है राहों के अंदर ही तो हमारी दुनिया जिन्दा रहती है जो हर राह कि कहानी जुदा कर के बताती रहती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है।
हर राह मे कई कदमों की दास्तान हर पल जिन्दा रहती है जो राहों को समझ देकर आगे बढती है जो राहों के अंदर ही तो जीवन कि कहानी कहती है राहों को समझ लेने कि ताकद हर मोड पे हमारे मन मे रहती है जो आगे लेकर चलती है।
हर राह मे कई कदमों कि जरुरत हर मौके पर रहती है जो राहों को मतलब देकर आगे चलती है हमे राहों को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जो राहों को कई एहसास देकर कई हिस्सों मे आगे बढती रहती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है।
हर राह मे कई कदमों कि कहानी जीवन मे आगे जाती है जो जीवन मे कई किस्सों मे अलग अलग एहसास देकर चलती है जो जीवन मे राहों को अलग तरह कि ताकद देकर आगे बढती है जो राहों मे अक्सर खुशियाँ देकर चलती है।
हर राह मे कई किस्सों कि उम्मीदे जिन्दा रहती है जो जीवन मे कई राहों को एहसास अलगसा दे जाती है जो जीवन मे कई रंगों कि कहानी कहती है जो राहों को कई तरह के मकसद देकर आगे बढती है जो जीवन मे अक्सर आगे चलती है।
हर राह मे कई कदमों कि जरुरत हर मौके मे जीवन को साँसे अलगसी देकर रहती है जो राहों को मतलब देकर आगे बढती जाये वह कहानी हर बार अहम और अलगसी लगती है जो जीवन को कुछ अलग रफ्तार देकर चलती है।
हर राह मे कई किस्सों मे जीवन कि सोच जिन्दा रहती है जो हर राह पर जिन्दा रहती है वह सोच अलग सही हो तो उसे पकडकर रखने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जो जीवन को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर मोड पर चलती है।
हर राह मे कई कदमों को समझ लेने कि जरुरत हर दिशा मे रहती है जो जीवन मे राहों को कई किनारों से समझकर आगे बढती है क्योंकि राहों मे ही तो हमारी दुनिया जिन्दा रहती है जो जीवन को कई मौकों पर अलग अलग तरह कि समझ देकर चलती है।
हर राह मे कई कदमों कि आहट भी सुनाई पडती है किस कदम को सही कहे और किसे गलत कहे इस बात को हर मौके पर समझ लेने कि जरुरत होती है क्योंकि हर राह कदमों के सहारे ही तो जीवन को कई किस्सों मे समझते हुए आगे चलती है।

कविता. ९४२. पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है।

                                         पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है जो पानी को परखकर आगे चलते रहने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जो पानी को कई किस्सों मे बदलाव को समझ लेने कि ताकद देकर चलती है जो पानी के टकराव के बाद भी बदलाव के संग आगे चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर उसकी कोशिश पहले कितनी ना कामयाबसी लगती है चट्टानों से भरे उस किनारे कि ताकद ही तो हर बार मजबूत लगती है पानी की कोशिश फिर भी हर पल धीमे धीमे से आगे बढती है वह हर बार चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है जो अक्सर दुनिया को पहले बेमतलब कि लगती है जो जीवन को कई तरह के मकसद देकर चलती है जो पानी को कई किनारों से टकराने कि इजाजत देकर आगे बढती है जो जीवन को नई रफ्तार देकर चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर हर बार वह जीवन पर असर कर जाती है जब कि हमे वह बाते बडी आम नजर आती है पानी के अंदर कई किनारों को समझ लेने कि जरुरत नही होती है पानी कि कोशिश तो हर किनारे के लिए बस वही होती है जो आगे चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर हर पल हमे दुनिया को समझ लेने जरुरत होती है पानी को बार बार वही चीजे करते हुए आगे जाने कि आदत होती है जो उसे आगे बढते जाने कि जरुरत हर बार रहती है पानी को अंदर ताकद जो मेहनत देकर हर बार आगे चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर हर बार जीवन मे चीजों को दोहराने कि आदत रहती है हमे जीवन मे चीजों को पहचान लेने कि जरुरत है पानी को कई चीजों मे जीवन कि कोशिश सबसे अहम नजर आती है जो पानी मे अलग एहसास देकर चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर यह आदत अक्सर अहम नही लग पाती है जो चट्टान को तोड तो देती है पर उसका एहसास दुनिया को नही दे पाती है हर बार टकराने कि जरुरत हर मौके पर होती है किसी चीज के बदलाव कि बात बार बार दोहराने से मुमकिन हो जाती है जो आगे लेकर चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर पानी के अंदर एहसासों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है पानी मे पत्थर को बदलाव देने कि पानी कि ताकद धीमे धीमे बनती है पानी के अंदर कई चीजों को बदलाव का एहसास वह धीमे धीमे देती है हमे पानी के बदलाव देने जरुरत चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर हर बार वह आदत सही नही होती है पानी के अंदर ताकद होती है जिसे समझ लेने कि ताकद हर पानी कि बूँद मे रहती है पानी को समझकर ही तो दुनिया आगे बढती है जो पानी कि ताकद हर बार आगे लेकर चलती है।
पानी को पत्थरसे टकराने कि आदत रहती है पर पानी में कई किसम कि चीजे रहती है जिनमे ताकद रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है क्योंकि पानी मे वह ताकद रहती है जो आसानी से नजर नही आती है पर जिन्दगी हर बार बदलकर आगे चलती है। 

Wednesday, 21 September 2016

कविता. ९४१. फूलों को समझ लेने कि जरुरत।

                                             फूलों को समझ लेने कि जरुरत।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जब उनको समझ लेना चाहते है काटों कि समझ अपने आप आती है फूलों कि डाली पर काटों कि कहानी होती है जो जीवन मे कई मौकों पर बदलाव कई तरह के देती है जो फूलों कि समझ देकर जाती है।
फूलों को समझ लेने कि ताकद हर बार जीवन मे होती है जो काटों का दर्द समझले उसे ही तो फूलों कि समझ आ जाती है फूलों के चाहत से बढकर काटों कि समझ फूलों को समझ लेने के लिए हर बार अहम नजर आती है जो जीवन को नया रंग देकर जाती है।
फूलों को समझ लेने कि ताकद काटों के साथ ही आती है जो जीवन मे हर बार बदलाव देकर आगे बढती जाती है जो फूलों को कई किस्सों मे समझ लेना सिखाती है फूलों से ज्यादा जीवन मे काटों कि चुभन ही फूलों के अंदर कि बात बताती जाती है।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत काटों को समझकर आती है जो फूलों को अक्सर काटों का दोस्त बताती है कितना भी नाजूक फूल क्यूँ ना हो उसे काटों से नफरत नही होती है फूलों कि कहानी हर पल काटों से ही तो जुडी हुई नजर आ जाती है।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत हर पल होती है जो काटों को हर कदम पर साथ देकर चलती रहती है जो फूलों के साथ काटों कि कहानी भी बनाती है जिसे परखकर आगे चलते जाने कि जरुरत फूलों के संग काटों को भी हो जाती है।
फूलों को समझ लेने कि ताकद जीवन को एहसास और नया मतलब देकर चलती रहती है जो काटों के साथ ही तो दुनिया कि कहानी कहती है जिसे परख लेने कि जरुरत जीवन मे हर बार आगे बढती रहती है जो जीवन मे आगे लेकर जाती है।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है पर फूलों संग काटों कि जिन्दगी भी हर पल रहती है जो जीवन को कई किस्सों मे आगे लेकर चलती है फूलों को काटों के संग समझ लेने कि जरुरत होती है जो फूलों से बढकर काटों से भी निपटने कि सोच देकर जाती है।
फूलों को समझ लेने कि राहों पर हर मोड पर अलग जरुरत होती है जो फूलों के बाद काटों कि दुनिया को हर बार समझ लेती है क्योंकि फूलों को भी काटों के संग रहने कि आदत होती है काटे तेज सही पर उनमे भी उनकी खूबी रहती है जो खुशियाँ दे जाती है।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे रहती है क्योंकि जीवन मे अक्सर काटों कि कहानी फूलों से ही तो सुननी पडती है जो जीवन मे काटों को अलग मतलब देकर रहती है फूलों से ही तो अक्सर हमारी दुनिया बदलती है जो जीवन कि कहानी बताती जाती है।
फूलों को समझ लेने कि जरुरत हर कदम पर कोई अलग पहचान देती रहती है जो फूलों से ज्यादा काटों से निपटने कि ताकद जब देती है तो काटों के संग ही फूलों कि कहानी बनती रहती है जो जीवन मे फूलों से ज्यादा काटों कि बाते समझाकर आगे जाती है।

कविता. ९४०. हर कदम से कहानी।

                                                        हर कदम से कहानी।
हर कदम को एक कहानी कि तलाश होती है जो कदमों को परख ले उसे ही उनमे अलग एहसास कि पुकार रहती है कदम को जो समझले वही जीवन मे उम्मीदे देकर आगे बढता जाता है क्योंकि कदमों मे ही जीवन कि ताकद हर बार जिन्दा रहती है।
हर कदम को एक कहानी कि सोच होती है जो कदमों को अलग एहसास देकर हर पल आगे बढती जाती है जिसे कदमों मे जीवन को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन मे हर मोड पर रहती है जो जीवन को अलग पहचान देकर रहती है।
हर कदम को एक कहानी कि दुआ होती है जो कदमों को अलग सोच देकर आगे बढती है जो कदम समझ लेते है वही हमारी राह होती है क्योंकि जीवन को कदम ही तो बनाते रहते है जो जीवन को हर कदम मे अलग एहसास देकर आगे बढती रहती है ।
हर कदम को एक राह कि तलाश होती है जब कदमों को मतलब कई किसम के देकर आगे बढती जाती है तब कदमों को जीवन मे नया एहसास नई राह देकर हर पल आगे बढती जाती है क्योंकि कदमों को ही तो जीवन समझकर हर बार अक्सर रहती है।
हर कदम को एक मौके का एहसास हर बार रहता है जो जीवन को कई कदमों कि तलाश देता है जो जीवन को ताकद देकर आगे बढता है वह कदम हर बार हर पल जीवन मे अलग तरह कि पुकार देकर आगे चलता है हर बार हर कदम पर एक तलाश रहती है।
हर कदम को एक मौके कि प्यास होती है जो जीवन को हर पल अलग तरह कि तलाश होती है जो जीवन को ताकद देकर हर बार आगे बढती जाती है जो कदमों के अंदर एक अलग एहसास रखती है जो जीवन को सुबह देकर रहती है।
हर कदम को एक राह समझ लेनी होती है क्योंकि कदमों मे ही जीवन कि धारा हर पल जिन्दा रहती है जो कदमों को ताकद देकर आगे बढती है जिसे कदमों मे समझ लेने कि चाहत जीवन मे हर बार जिन्दा रहती है।
हर कदम को जीवन के हर पंक्ती मे हर सोच मे पहचान होती है जो जीवन को अलग तरह कि ताकद देकर आगे बढती जाती है जो कदमों को मकसद हर बार देकर चलती जाती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर कदम पे रहती है।
हर कदम को समझ लेने से ज्यादा उस कदम को परखकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन को अलग तरह कि रोशनी देकर जाती है क्योंकि कदमों मे ही तो जीवन के मतलब और मकसद हर बार जिन्दा रहते है जिनकी तलाश रहती है।
हर कदम को समझ लेने से ही तो जीवन कि अलग रोशनी हर पल होती है जो जीवन मे कदमों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है हर कदम पर जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है क्योंकि कदमों कि जरुरत हर मोड पर रहती है।

Tuesday, 20 September 2016

कविता. ९३९. किसी ख्वाब मे।

                                                        किसी ख्वाब मे।
किसी ख्वाब मे शायद कहानी का एहसास होता है जो ताकद दे जाये हमे वह ख्वाब सच्चा ख्वाब होता है जो खुशियों कि सौगाद का एहसास अलगसा देकर चलता है ख्वाब के अंदर ही तो जीवन का मकसद बदलकर हर बार देकर चलता है।
किसी ख्वाब मे ताकद को समझ लेना जीवन का जरुरी एहसास होता है जो जीवन को ख्वाबों के संग आगे लेकर बढता है जो ख्वाबों कि चाबी को अलग तरह कि सोच देकर आगे जाता है जो जीवन मे कई ख्वाब अक्सर पा कर चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि कहानी हर मौके पर अलग साँसे देकर चलती है जो ख्वाबों को समझकर आगे बढते जाने कि ताकद हर बार देकर चलती है जो जीवन को हर मौके पर अलग एहसास देकर जीवन मे हर लम्हे साँसे देकर चलती है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि कहानी हर बार बनती है जो जीवन को कई हिस्सों मे अलग अलग तरह कि समझ और प्यास देकर चलती है जो जीवन मे ख्वाबों को अलग रफ्तार देकर आगे बढती है जिसे जीवन आगे लेकर चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन को मेहसूस करने कि उम्मीद होती है जो ख्वाबों को लम्हों से जोड देती है उन ख्वाबों को पहचान लेने कि जरुरत जीवन को हर बार अलग मतलब देकर चलती है ख्वाबों के अंदर ही तो जीवन हर बार आगे चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि साँसे जब होती है उन साँसों को पहचानकर आगे चलते जाने कि जरुरत उन ख्वाबों के साथ होती है जो जीवन को कई तरह कि आवाज देकर आगे चलती है जो ख्वाबों को अक्सर मकसद देकर आगे बढती है जिन्हे जीवन आगे लेकर चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि दिशाए बदलकर चलती है जो ख्वाबों के अंदर खयालों को समझ अलग तरह कि देकर बढती है जो ख्वाबों को हर बार उम्मीदे देकर आगे बढती है उन ख्वाबों के अंदर ही तो जीवन कि कहानी रहती है जिसे समझकर जीवन आगे चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि धारा अलग पहचान देती है क्योंकि उन ख्वाबों मे ही तो दुनिया हर मोड पर खुशियाँ देकर चलती है ख्वाबों मे ही तो जीने कि ताकद बसती है उन ख्वाबों को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन को होती है तभी जीवन आगे चलता है।
किसी ख्वाब मे जीवन कि कहानी हर मौके पर अलग एहसास देकर चलती है जो ख्वाबों को समझकर आगे बढती है ख्वाबों को पहचान तो उनकी सोच देकर चलती है ख्वाबों को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर एक मोड पर होती है तभी तो ख्वाब आगे चलता है ।
किसी ख्वाब मे जीवन कि धारा बदलाव देकर चलती है जो ख्वाबों को अलग तकदीर देकर आगे बढती है ख्वाबों को कई हिस्सों मे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर पल रहती है ख्वाबों के सहारे ही तो जीवन कि कहानी हर मौके पर बनती है जीवन ख्वाब देकर आगे चलता है।

कविता. ९३८. बहोत बार जीवन मे।

                                                          बहोत बार जीवन मे। 
बहोत बार जीवन मे कई किस्सों को समझ लेने कि ताकद जीवन को मकसद देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को बहोत बार मकसद देकर आगे चलती जाती है जो बहोत बार जीवन के अंदर कहानी बदलती जाती है।
बहोत बार जीवन मे कई किस्सों को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन को हर पल होती है जो जीवन को बहोत बार जीवन कि कहानी का असर हर पल होता है कई बार जीवन के अंदर कई किसम की कहानी जो हमे बदलाव दे जाती है।
बहोत बार जीवन मे कई किस्सों मे कहानी को कई मतलब हर बार दे जाती है जीवन मे हमे कहानी को समझ लेने कि जरुरत हर पल रहती है जो हमे मतलब दे जाती है वह लब्जों को मतलब दे जाती है कई बार जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर साँस को हो जाती है।
बहोत बार जीवन मे कई खयालों को जिन्दा करती है बहोत बार जीवन मे कहानी को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर पल होती है कई बार जीवन को समझ लेने कि उम्मीद हर बार मन के अंदर आगे बढती चली जाती है।
बहोत बार जीवन मे हर खयाल को कई किस्सों मे सोच अलग एहसास देकर आगे चलती रहती है जो बार बार जीवन कि धारा को समझकर आगे चलती रहती है जो बार बार जीवन को बदलाव देकर आगे चलती हुई उम्मीदे देकर आगे जाती है।
बहोत बार जीवन मे हर मोड पर उम्मीदे देकर जाती है जो जीवन कि सोच को ताकद देकर आगे चलती जाती है बहोत बार हमे जीवन को बदलाव देकर आगे बढते जाते है कई मौकों पर जीवन को बदलते जाने कि जरुरत हर मौको पर कुछ असर बनाती जाती है।
बहोत बार जीवन मे हर किनारे को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर मोड पर हर पल रहती है जो जीवन को कई तरह के खयाल देकर आगे चलती हुई जिन्दगी देकर जाती है कई बार जीवन मे वह बदलाव दे जाती है जो बार बार जीवन कि कहानी को मतलब दे जाती है।
बहोत बार जीवन मे हर दिशा के अंदर जिन्दगी बदलाव लाती है जो जीवन को हर लम्हे अलग समझ देकर चलती रहती है जो जीवन को परख देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को कई मौकों पर अलग एहसास देकर आगे जाती है।
बहोत बार जीवन मे हर मौके के अंदर एहसास अलगसे नजर आते है जो आगे लेकर जाते है जो बदलाव जीवन मे कई किस्से दे जाता है जो जीवन कि धारा का मकसद बदलता है जो कई मौकों मे हमे आगे ले जाता है जो जीवन कि कहानी को समझ अलग दे जाता है।
बहोत बार जीवन मे हर मोड को समझ देकर आगे चलती जाती है वह सोच जीवन कि कहानी को मतलब देकर आगे चलती है जो जीवन को बदलाव के मोड देकर आगे चलती जाती है जिसे परखकर दुनिया कई हिस्सों मे मतलब देकर आगे जाती है।

Monday, 19 September 2016

कविता. ९३७. कागज पर लिखी बाते।

                                                कागज पर लिखी बाते।
कागज पर लिखी बाते जीवन को मतलब और अलग असर देकर आगे जाती है कागज के अंदर लिखी सपनों मे हमारी दुनिया अक्सर नजर आती है जो कागज के अंदर अलग मतलब दे जाती है जो कागज मे ही हमारी दुनिया को रखती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को मतलब और रफ्तार अलग दे जाती है जो कागज के पन्नों पर जीवन कि कहानी लिखी जाती है इसलिए तो कागज मे हमारी दुनिया को अलग तरह का एहसास दिखता है जो कागज मे लिखे लब्जों को मतलब देकर आगे जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को कहानी देकर आगे बढती है कागज पे ही तो दुनिया जिन्दा रहती है जो कागज को अलग मतलब देकर चलती है जो कागज मे ही अक्सर जिन्दा रहती है कागज मे ही तो दुनिया हमे आगे लेकर चलती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को मकसद देकर आगे बढती रहती है क्योंकि कागज मे ही तो दुनिया कि कई कहानियाँ बनाती रहती है जो जीवन मे कागज के अंदर ही तो बातों के मतलब देकर आगे बढती है कागज के अंदर ही तो दुनिया अक्सर रहती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को खत्म हुआ इतिहास बताती है वही बाते कई बार जीवन को अलग मतलब देकर आगे चलती है वही बाते जीवन के आगे हो जानेवाली बाते भी कभी कभी कहानियों मे बताकर चलती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हो जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को कल कि बातों का एहसास दिलाती है वह कुछ कहती है आज के बारे मे क्योंकि आज मे अक्सर कल कि परछाई नजर आती है जो जीवन को आज कि कहानी बताती है जो जीवन कि कई बाते पुरानी बातों से ही बनती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को कल कि बातों कि समझ तो देती है पर कभी कभी कल्पना भी जीवन को मतलब हर बार दे जाती है जो जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर मौके पर दे जाती है क्योंकि कागज मे लिखी कहानी मतलब को बदलती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को बातों के मतलब देकर आगे बढती है कागज मे ही तो जीवन कि कहानियाँ अक्सर लिखी जाती है जो कागज के अंदर कई एहसासों को रखती जाती है जो कागज मे लिखी बातों को कई तरह समझ देकर आगे बढती जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को बातों के मकसद दे जाती है जो कागज मे छुपी दुनिया अक्सर जिन्दा करती जाती है जो कागज मे लिखी बातों के मतलब को लिखती जाती है जिन्हे पढकर समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर मौके पर अक्सर नजर आ जाती है।
कागज पर लिखी बाते जीवन को बातों के बदलाव को समझकर आगे जाने कि उम्मीदे देकर आगे चलती है कागज मे ही जीवन कि खुशियाँ नजर आती है जो जीवन को समझ लेना जरुरी लगता है क्योंकि कागज मे ही जीवन कि कहानी का मकसद छुपा हर बार होता है जिसमे कहानी हर बार नजर आ जाती है।

कविता. ९३६. रातों के अंदर रोशनी।

                                                     रातों के अंदर कि रोशनी।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर दुनिया आगे चलती है जो रातों को समझकर आगे चलती है वह दुनिया अंधियारे मे ही कई कोनों मे जिन्दा रहती है जो जीवन कि कहानी बदलती रहती है जो रातों मे चीजों के हिलने को हर बार समझ देती रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर आसमान मे अलग एहसास को समझकर आगे बढते जाने कि जरुरत रहती है क्योंकि रातों के अंदर चंदा और चांदनी कि खुबसूरती अक्सर रहती है जो हर मोड पर रातों मे खुबसूरती जिन्दा करती है हर बार जिन्दा रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर कई तरह कि खुबसूरती जिन्दा रहती है जो रातों मे हर तरह कि खुबसूरती देकर रहती है रात के अंदर सुंदर एहसासों कि तसबीर अक्सर होती है जो जीवन मे कई तरह कि रोशनी देकर हर पल आगे बढती रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर अलगसी चांदनी होती है जो जीवन को खुबसूरत एहसासों कि जरुरत हर बार देकर चलती है जीवन मे अलग तरह कि सोच रात के अंधियारे मे खुबसूरती कि लहर भी छुपी अक्सर होती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर अलग तरह कि रोशनी हर बार मतलब देकर जाती है जो रातों को अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है जो रातों को बदलाव देकर चलती जाती है जो रातों को खुबसूरत हर बार बनाकर जीवन कि कहानी समझ देकर रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर अलग सोच मिलती रहती है जो जीवन को समझ अलग तरह कि देकर चलती जाती है जो रातों को परखकर हर बार अलग देकर जीवन कि कहानी समझ अलग लेकर हर बार अलग तरह कि प्यास रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर अलग तरह कि समझ हर बार अलग पुकार देकर चलती जाती है जो रातों मे अलग एहसास देकर हर मोड पर आगे बढती जाती है जिसे रातों को अलग तरह कि चमक ढूँढते रहने कि आदत होती है उसके अंदर खुशियाँ रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर अलग तरह की रोशनी पाकर आगे चलते जाने कि जरुरत होती है जिन्हे जीवन मे समझकर आगे बढते जाने से जीवन कि खुशियाँ रहती है जिन्हे समझकर चांदनी को परखकर जीवन को समझ लेने कि जरुरत रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझ देकर जाती है वह रोशनी ही तो होती है जो रातों को रोशनी का एहसास देकर दुआ देकर आगे जाती है वह रातों को परखकर अंदर रखती हुई जाती है वह रोशनी रात ही देती जाती है जो जीवन को रोशनी देकर हर बार रहती है।
रात के अंदर कई किनारों को समझकर आगे चलते जाने कि रोशनी होती है जो जीवन मे अँधेरे से लढने जाने कि आदत हर बार होती है जो रातों मे ही तो उम्मीदे देकर आगे बढती जाती है क्योंकि रातों को ही अँधेरे को भुलाकर आगे बढते रहने कि जरुरत रहती है।

Sunday, 18 September 2016

कविता. ९३५. लब्जों को अक्सर।

                                                      लब्जों को अक्सर।
लब्जों को अक्सर समझ लेने कि जरुरत जीवन को होती है क्योंकि लब्जों को समझकर आगे बढते जाना है जीवन कि धारा को मतलब अलग देना है जिसे लब्जों के संग समझकर आगे बढते जाना जरुरी होता है जो लब्जों को मतलब देता है।
लब्जों को अक्सर समझ लेने कि ताकद जीवन मे मन को होती है जो जीवन को रोशनी देकर हर बार आगे लेकर चलती है लब्जों को समझकर ही तो हर पल दुनिया को समझ लेना होता है लब्जों से ही तो हमारा जीवन बनता है।
लब्जों को अक्सर समझ लेने कि हर दिशा को जरुरत होती है जो जीवन को कई तरह कि प्यास देकर चलती है जो जीवन मे लब्जों को परखकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर मौके पर रहती है जो जीवन मे लब्जों को एहसास देकर आगे जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि कहानी बनती है जो कई हिस्सों मे नई सुबह देकर चलती है जो जीवन को लब्जों से समझ लेती है जो लब्जों को आगे लेकर मतलब देकर चलती जाती है जो जीवन को हर बार अलग किसम का मकसद देकर जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि धारा बदलती रहती है जो जीवन को लब्जों के मतलब से ही समझ देकर चलती है जो जीवन मे लब्जों कि जरुरत हर बार बदलती रहती है जो जीवन को लब्जों कि ताकद के सहारे आगे लेकर बढती है जो जीवन को समझ देकर जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि कहानी अपनी धारा बदलती है क्योंकि लब्जों के अंदर ही तो जीवन को समझ लेने कि ताकद रहती है जो जीवन कि कहानी कहती है जो जीवन को अलग तरह कि प्यास देकर हर मौके पर आगे बढती जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि साँसे हर पल बनती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत दुनिया को हर बार रहती है जो जीवन को कई तरह के मकसद देकर चलती है जो कई तरह के किनारों से जीवन कि कहानी कहती है जो जीवन को रोशनी देकर जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि कहानी बनती है जो जीवन मे हर एक लब्ज मे अलग पुकार देकर चलती है जिसे समझकर आगे बढने कि जरुरत रहती है लब्जों के सहारे ही तो दुनिया अपना किनारा बनाती है जो किनारा जीवन को आगे लेकर जाता है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि उम्मीदे बनती है जो जीवन मे कई रंगों कि कहानी सुनाती रहती है जो जीवन को समझ अलग देकर चलती है जिसे समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत रहती है जो उम्मीदे देकर हँसी देकर जाती है।
लब्जों को समझकर ही तो जीवन कि खुशियाँ आगे चलती है जिन्हे समझकर आगे बढते जाने कि जरुरत रहती है जो लब्जों के अंदर अलग किसम कि ताकद देकर चलती है जो हमे हर बार आगे लेकर जाना चाहती है जो जीवन को अलग ताकद देकर जाती है।

कविता. ९३४. हर मौके मे एहसास।

                                                  हर मौके मे एहसास।
जीवन को हर मौके मे एहसास अलगसा मिलता है जो हर मौके पर जीवन को अलग तरह कि प्यास देकर चलता रहता है जो जीवन मे हर मौके मे कोई अलगसी सोच देकर चलती जाती है जो हर मौके मे जीवन कि नई रफ्तार देकर जाती है।
जीवन को हर मौके मे समझ लेना ही तो जीवन कि सोच होती है जो उसकी धाराओं को अलग तरह कि प्यास देकर आगे बढती जाती है क्योंकि हर मौके पर अंदाज अलग रहता है जिसे समझ लेने कि चाहत और ताकद हर बार आगे बढती जाती है।
जीवन को हर मौके मे रोशनी अलग मिलती रहती है क्योंकि मौकों मे ही तो जीवन का मकसद और एहसास हर बार अलग होता है जो जीवन को मकसद अलग तरह का देकर आगे चलता रहता है जिसमे सोच अलग आगे बढती जाती है।
जीवन को हर मौके मे कई किस्सों को समझकर चलते जाने कि जरुरत हर बार नजर आती है जो जीवन को रोशनी कि अलग पुकार देकर जाती है जो जीवन को रोशनी हर एक मौके पर अलग तरह कि ताकद और सोच देकर चलती जाती है।
जीवन को हर मौके मे अलग एहसास अक्सर खुशियाँ देकर बढता जाता है जो हर मौके पर अलग ताकद देकर आगे बढता जाता है जो मौकों पर मतलब हर बार सही तरह का दे जाता है जो जीवन को रोशनी अलग किसम कि दे जाता है।
जीवन को हर मौके मे अलग सोच देकर आगे बढता जाता है क्योंकि मौकों के अंदर ही तो जीवन कि कहानी नजर आती है जो हर मौके पर जीवन को अलग मकसद देकर आगे चलती जाती है जो जीवन को मतलब दे जाती है।
जीवन को हर मौके मे अलग एहसास को जनम देने कि जरुरत रहती है जो जीवन को हर एक मौके मे सहारा देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को कई मौकों पर बदलाव देकर आगे बढती चली जाती है जो जीवन कि ताकद बनकर आगे चलती जाती है।
जीवन को हर मौके मे कोई अलग किसम कि सोच रहती है जो जीवन को कई तरह के रंग देकर आगे बढती है जो जीवन को मौके हर बार देकर आगे चलती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर एक मोड पर अक्सर रहती है जो आगे लेकर जाती है।
जीवन को हर मौके मे कोई अलग तरह कि रोशनी छुपी हुई रहती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे चलती है जो जीवन को अलग रोशनी देकर चलती है जो रोशनी कि ताकद हर बार देकर चलती है जो जीवन को अलग एहसास देकर जाती है।
जीवन को हर मौके मे कोई अलगसी बात समझ लेनी होती है जो मौकों के अंदर कई तरह के एहसास देकर चलती है जो जीवन को कई किसम के मकसद दे जाती है जो जीवन को अलग तरह कि नई सोच और रफ्तार देकर आगे बढती जाती है।

Saturday, 17 September 2016

कविता. ९३३. हर दिशा मे जीवन।

                                       हर दिशा मे जीवन।
हर दिशा मे जीवन का एहसास जुदासा होता है जो जीवन को कई दिशाओं का हिस्सा बनाता रहता है जो जीवन को मतलब अलग अलग तरह का दे जाता रहता है हर दिशा मे जीवन रंग जुदा से पल देकर आगे बढता चला जाता है।
हर दिशा मे जीवन की सोच अलगसी रहती है जो जीवन को कई लब्जों मे कहानी अलग कहती है जिसे हर दिशा मे समझ लेने का अंदाज जुदासा होता है जो हर बार हर कोने मे सोच अलग देकर आगे बढता है एहसास जुदा देकर जाता है।
हर दिशा मे जीवन के कोनों से एक लहर कुछ ऐसी निकलती है कि उस लहर के संग जीवन का एहसास अलग बन जाता है जो जीवन को अलग तरह कि रोशनी देकर आगे बढता जाता है जो जीवन का हर एक किस्सा अलग दिखाकर जाता है।
हर दिशा मे जीवन के हर एक मौके मे जीवन का असर अलगसा होता है जो जीवन को हर बारी एहसास अलगसा दे जाता है जो जीवन कि दिशाओं को बदलाव कुछ ऐसा देता है कि उनको समझ लेना मुश्किलसा हर पल हमे नजर आ जाता है।
हर दिशा मे जीवन के हर एक पंक्ती के संग जीवन को अलग तरह के लब्जों का मतलब अलग दिखता है जो हर दिशा को समझकर आगे बढता रहता है जो उस दिशा मे ही मतलब कई किसम का देकर आगे बढता है जो हर पल हमे आगे ले जाता है।
हर दिशा मे जीवन के हर एक सुबह का मकसद तो होता ही है पर उस मकसद को समझ लेना कई बार मुश्किल नजर आता है जो दिशाओं को अलग तरह कि सोच देकर आगे बढता रहता है हर दिशा मे अलग तरह का मकसद आगे ले जाता है।
हर दिशा मे जीवन को अलग एहसास को जिन्दा रखना होता है जो हर दिशा को समझ ले वह एहसास हर पल जुदा रहता है जो हर पल जीवन कि दिशाए बदलकर आगे बढता जाता है दिशाओं के बदलाव मे ही वह हर पल जीवन जिन्दा रखता जाता है।
हर दिशा मे जीवन को अलग एहसास हर बार रहता है जो जीवन को अलग किसम कि समझ देकर आगे जाता है हर दिशा मे जीवन के अंदर एक अलगसा एहसास रहता है जो जीवन को साँसे देकर आगे बढता रहता है जो उम्मीदे देकर जाता है।
हर दिशा मे जीवन को मुस्कान का अलग रंग मिलता रहता है जो जीवन मे कई दिशाओं के संग कई किस्सों कि कहानी कहता है जो जीवन को बदलाव देकर हर बार आगे बढता जाता है हर दिशा मे जीवन का कोई किस्सा छुपा रहता है जो आगे ले जाता है।
हर दिशा मे जीवन को समझकर उसके अंदर कि बात परख लेने कि जरुरत जीवन को हर बार होती है जो जीवन मे दुनिया के मोड बदलकर जाती है क्योंकि दिशाओं मे ही खुशियाँ भरी होती है जो जीवन बदलाव हर पल देकर आगे बढता जाता है।

कविता. ९३२. हर बार हर मौके मे जीवन।

                                                हर बार हर मौके मे जीवन।
हर बार हर मौके मे जीवन कि कहानी जिन्दा रहती है जो हर मौके पर जीवन को अलग मतलब देकर चलती है जो जीवन को कई मौकों के साथ जिन्दा रखती है जो जीवन कि कई कहानियाँ हर पल कहती है जिसमे हँस के जीने कि जरुरत रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि साँसे मिलती है जो हर कदम पर एहसास जुदासा देकर आगे बढती है हर मौके मे जिन्दगी हर बार नई रफ्तार देकर चलती है हर बार मौके मे अलग तरह कि सोच जीवन को मतलब देकर आगे बढती है जो जीवन को जिन्दा रखती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि जरुरत हर बार अक्सर होती है जो मौकों मे जीवन को अलग तरह का मकसद देकर चलती है हर मौके मे जीवन को समझ अलग किसम कि होती है जो मौकों मे ही तो जीवन कि कहानी कहती है जिसमे मौके को परख लेने कि समझ रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि साँसे रहती है जो जीवन को बदलाव हर पल देकर आगे चलती है जो हर मौके पर कोई अलग कहानी कहती है जो एहसास जुदासा जीवन को हर लम्हे मे देकर हर बार चलती है जिसे आगे बढते रहने कि समझ रहती है।
हर बार हर मौके पर कोई सोच तो जीवन को एहसास अलगसा देकर चलती है हर मौके पर जीवन कि धारा अलग तरह कि होती है हर मौकों पर जीवन कि धारा हर मोड पर कहानी अलगसा एहसास होता है जो आगे बढते रहने कि समझ रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि धारा को समझ लेने कि जरुरत होती है जो जीवन को अलग तरह कि साँसे जीवन मे प्यास देकर चलती है मौकों के अंदर जीवन कि कहानी हर पल जिन्दा रहती है जो जीवन को समझ अलग तरह कि देकर रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि समझ हर मोड पर होती है जो जीवन को हर मोड पर कहानी अलग बताकर चलती है जो हर मौके पर दुनिया को परखकर आगे बढती है जो जीवन को हर एक मौके मे जिन्दगी देकर आगे बढती जाती है जो जीवन को खुशियाँ देकर रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन को कई तरह के खयालों को समझकर अलग किसम के ख्वाबों कि दुनिया रहती है जिसमे पहचान तो हर पल जिन्दा रहती है जो जीवन को परख अलग तरह कि सोच जीवन को अलग एहसास देकर चलती है जो ताकद देकर रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन के कई रंगों कि दुवाए रहती है जो जीवन को कई मौकों मे अक्सर अलग सोच देकर चलती है जिसे समझकर आगे बढते जाने कि उम्मीदे हर पल होती है जो मौकों मे कई तरह कि समझ अलग तरह से होती है जो आगे लेकर चलती रहती है।
हर बार हर मौके मे जीवन कि कहानियाँ अलग किसम कि दिशाए देकर चलती है जो जीवन को हर मौके पर एहसासों को समझ देकर चलती है जो हर एक मौके मे जीवन कि कहानी कहती रहती है जो जीवन मे साँसों को समझ देकर रहती है।

Friday, 16 September 2016

कविता. ९३१. हर फूल के पंखडी मे।

                                                      हर फूल के पंखडी मे।
हर फूल के पंखडी मे हर बार रंग अलगसा देकर जाती है जो जीवन को अलग खुशबू और रंग देकर जाते है जो फूलों को मकसद कई तरह के मिलते जाते है जो फूलों को कई तरह के मकसद देकर आगे बढते जाते है एहसास अलगसा दे जाते है।
हर फूल के पंखडी मे अलग खुबसूरती नजर आती है जो जीवन मे फूलों को कई तरह के एहसास अलग मिलते रहते है जो पंखडीओं के अंदर एक अलग पुकार रहती है जो जीवन को अलग तरह कि समझ और प्यास देकर आगे बढती चली जाती है।
हर फूल के पंखडी मे हर बार अलग समझ जिन्दा होती है जो पंखडीओं मे ही हर पल जिन्दा रहती है क्योंकि पंखडीयाँ ही तो जीवन को एहसास अलगसा देकर आगे बढती चली जाती है क्योंकि मुलायम पंखडीओं मे ही तो दुनिया हर बार जिन्दा रह जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन को समझे कुछ अलग तरह कि दिशाए देकर वह अक्सर आगे चलती रहती है क्योंकि पंखडीओं मे ही तो हमारी दुनिया जिन्दा हर बार रहती है जो जीवन को साँसों कि सौगाद अलग देकर जाती है जो जीवन को अलग पुकार दे जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन कि सौगाद होती है जो जीवन को अलग सौगाद देकर हर मौके मे साँसे देकर चलती है जो जीवन कि प्यास बदलकर आगे बढती जाती है जो हर पंखडी मे एक पंक्ती लिखती जाती है जो जीवन को अलग तरह का एहसास दे जाती है।
हर फूल के पंखडी मे कहानी अलगसा मतलब देकर जाती है पंखडी के एहसास मे ही खुशियाँ छुपी होती है जो पंखडीओं मे ही तो जीवन कि अलग कहानी कहती जाती है जो जीवन को अलग किसम का एहसास देकर आगे बढती चली जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन कि ताकद कुछ अलग तरह कि रहती है जो पंखडीओं मे ही तो जीवन कि सोच अलगसी रहती है जो जीवन को साँसे और मकसद हर बार देकर चलती है क्योंकि पंखडीओं मे ही तो जीवन कि साँसे छुपी अक्सर रह जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन को अलग तरह कि समझ मिलती जाती है जो पंखडीओं को एहसास अलगसा देकर आगे बढती रहती है क्योंकि पंखडीओं को समझ रंगों कि हर बार रहती है जो जीवन को फूलों के साथ अलग एहसास देकर आगे चली जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन को कई रंग मिलते जाते है जो पंखडीओं को आगे लेकर चलती जाती है जो फूलों मे अलग किसम का एहसास दे जाती है जो पंखडीओं को कोई अलगसा मकसद देकर आगे चलती है जो ताकद देकर आगे चली जाती है।
हर फूल के पंखडी मे जीवन को कहानी हर बार अलग तरह कि रहती है जो जीवन को रोशनी और एहसास अलगसा देकर चलती है जो पंखडीओं को मुलायम एहसास देकर चलती जाती है पंखडी मे ही तो जीवन के एहसास अलग तरह के देकर जाती है।

कविता. ९३०. हर लहर के साथ कुछ सोच।

                                        हर लहर के साथ कुछ सोच।
हर लहर के साथ कुछ सोच तो जिन्दा रहती है जो लहरों कि कहानी हर मोड पर अलग एहसास देकर आगे बढती है वह कहानी लहरों के साथ ही अक्सर जिन्दा रहती है जो जीवन को लहरों मे समझ लेने कि जरुरत हर मौके पर रहती है।
हर लहर के साथ कुछ अलग तरह कि बाते आगे लेकर चलती है जो लहरों को अलग तरह का बदलाव देकर आगे बढती है लहरों को समझ लेने कि जरुरत जीवन को कई किनारों से लेकर आगे चलती है जो जीवन मे अक्सर आगे बढती रहती है।
हर लहर के साथ कुछ कहानी ऐसी बनती है जो जीवन कि दिशाए बदलती जाती है जो हर बार लहरों को समझकर अलग तरह कि प्यास जिन्दा रहती है जो जीवन को बदलाव देकर आगे बढती है जो जीवन को हर कदम पर आगे लेकर बढती रहती है।
हर लहर के साथ कुछ दिशाए को परख लेने कि जरुरत होती है जो कभी कभी लहरों कि कहानी बदलकर लेकर चलती है उनके सहारे ही तो दुनिया कई कहानियाँ कहती है जो जीवन के हर पंक्ती को एक लहर पर लिखती जाती है जो आगे बढती रहती है।
हर लहर के साथ कुछ बाते जो अलग बताती है जो जीवन कि कहानी को एहसास और मकसद अलग देकर जाती है जो लहरों को अलग किसम का बदलाव देकर जाती है लहरों को समझकर ही तो जीवन का एहसास बदलता है जिसकी चाहत आगे बढती रहती है।
हर लहर के साथ कुछ दिशाए बदलकर आगे चलते जाने कि हमे आदतसी पडती है पर कभी कभी लहरों को बदलकर अपने मर्जी से भी हमारी दुनिया चलती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर पल रहती है जो जीवन को नई उम्मीदे देकर बढती रहती है।
हर लहर के साथ कुछ बाते हमे अक्सर सिखने को मिलती है जो हमारे जीवन का एहसास बदलकर हर बार आगे लेकर चलती है उस एहसास को हर पल समझकर दुनिया मे आगे बढते जाने कि जरुरत रहती है जो जीवन को अलग एहसास देकर बढती रहती है।
हर लहर के साथ दुनिया कुछ ना कुछ तो कहती रहती है पर हर लहर के साथ उसे समझ लेने कि फुरसत हमे कहाँ रहती है जो हमे आगे लेकर जाती है वह दिशाए परख लेने कि जरुरत जीवन को हर पल आगे लेकर चलती है जो एहसासों को लेकर बढती रहती है।
हर लहर के साथ दुनिया की उम्मीदे हर बार आगे चलती है जो जीवन को अलग पहचान देती है जो जीवन कि कहानी को नये नये किस्सों मे कहती रहती है पर हर लहर के साथ दुनिया आगे नही बढती है क्योंकि कुछ लहरों को अनदेखा करने कि जरुरत बढती रहती है।
हर लहर के साथ दुनिया कई किस्सों मे जिन्दा रहती है जिसे समझ लेने कि अहमियत हर राह पर रहती है जो लहरों को अलग किसम कि समझ देकर चलती है हमे लहरों को समझकर परखकर हर पल आगे चलने कि आदत रहती है जो जीवन को उम्मीदे देकर बढती रहती है।

Thursday, 15 September 2016

कविता. ९२९. किसी पल मे चुपके से।

                                                     किसी पल मे चुपके से।
किसी पल मे चुपके से जीवन को समझ लेने कि जरुरत होती है पर अक्सर कई पलों के अंदर दुनिया बदलाव देकर आगे चलती है हर पल को समझ लेने कि जरुरत रहती है जो जीवन को कई तरह के किस्सों मे आगे लेकर चलती है।
किसी पल मे चुपके से हमारी दुनिया बनती है तो किसी पल मे वह कुछ इस कदर उलझती है कि उस पल को पार करते करते ही दुनिया अपने रंगों के एहसासों को हर पल बदलाव देकर चलती है जो पल के अंदर के एहसास को बदलाव देकर चलती है।
किसी पल मे चुपके से हमारी सोच कि कहानी हर बार बदलती जाती है जो जीवन को समझ अलग तरह से देकर जाती है पलों के अंदर एक पुकार अलगसी आती है जो जीवन को अलग किसम कि ताकद हर बार जिन्दा रखती है जो आगे लेकर चलती है।
किसी पल मे चुपके से सोच अलगसी जिन्दा रहती है हर पल को पहचान लेने कि जरुरत जीवन को रहती है जीवन मे जो हर पल अलग एहसास और अलग विश्वास देकर जाती है जो जीवन को कई पलों के संग अक्सर जिन्दा रखती है और आगे लेकर चलती है।
किसी पल मे चुपके से दिन को साथ देकर आगे बढते जाने कि जरुरत होती है जो हर पल मे ही तो जीवन को अलग तरह कि बात बताती है पर हर बार यह बात समझ नही आती है कि उस पल कि ताकद हर किस्से मे अक्सर जिन्दा रखती है जो आगे चलती है।
किसी पल मे चुपके से हमारी दुनिया रहती है पर कभी कभी जीवन के अंदर कहानी हर मौके पर अलग विश्वास देकर चलती है जो हर पल के अंदर जीवन को नये अंदाज मे कहती जाती है क्योंकि पलों मे ही तो हमारी दुनिया जिन्दा रहती है जो आगे चलती है।
किसी पल मे चुपके से जीवन कि सौगाद कहानी को हर पल मे बदलाव देकर आगे बढती है हमे हर पल के अंदर जीवन कि सोच को समझ लेना होता है जिसमे जीवन का एहसास और मकसद हर बार जुदा रहता है जो आगे जीवन को एक किरण देती है जो आगे चलती है।
किसी पल मे चुपके से जीवन कि धारा हर बार अलग तरह का अंदाज हर मोड पर दे जाती है वह एक दुआसी मन को अक्सर लगती है जो मन को छूँ कर आगे जाती है जो जीवन को साँसे देकर जाये वह सोच जरुरी होती है जो आगे लेकर चलती है।
किसी पल मे चुपके से जीवन कि ताकद देकर आगे चलती है जो कई लब्जों कि कहानी को समझ देकर आगे बढती है पल के अंदर कई तरह कि प्यास जिन्दा रहती है जो जीवन को कई हिस्सों मे अलग तरह कि समझ देकर आगे जाती है जो आगे चलती है।
किसी पल मे चुपके से हमारी किस्मत हर बार बदलाव देकर आगे जाती है जो हर पल के साथ अलग तरह कि सोच दे जाती है जो आगे लेकर जाती है जिसे उस पल के अंदर समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन मे हर मौके पर आगे चलती है।

कविता. ९२८. किसी बात को समझकर धारा।

                                               किसी बात को समझकर धारा।
किसी बात को समझकर धारा मे बदलाव को पहचान लेने कि जरुरत रहती है जो जीवन कि धारा को बदलाव देकर हर मौके पर चलती रहती है जो जीवन कि धारा को कई एहसासों मे परखती रहती है जो बात को बदलाव देकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक धारा मे समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन को कई तरह कि साँसों से जिन्दा रखती है जो बात को कई हिस्सों मे समझाती रहती है बातों को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर बार हर कहानी मे साँसे देकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक धारा उसमे कई बातों कि कहानी कहती है जो जीवन को हर बार अलग किसम का एहसास देकर चलती है जो कई तरह के मकसद जिन्दा करती जाती है जो बातों के अंदर छुपे एहसासों को आगे लेकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक कहानी जब जिन्दा होती है तब उस कहानी कि बाते कई तरह कि सोच देकर आगे जाती है बातों के अंदर जीवन के एहसासों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो बात को कई मतलब के साथ आगे लेकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक सोच या फिर बात जिन्दा रहती है जिसे समझ लेने पर जीवन के किस्सों मे कई कहानियाँ बनती है बातों मे छुपे एहसासों को परख लेने कि जरुरत जीवन को हर बार होती है बात जो जीवन को आगे लेकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक सोच जो जीवन मे जिन्दा रहती है बातों के अंदर कि कहानी हर बार अलग रहती है बातों के अंदर ही तो जीवन कि अलग निशानी रहती है जो जीवन को परखकर आगे लेकर जाती है जो बातों को मतलब देकर चलती है।
किसी बात को समझकर एक नई रफ्तार बनती है क्योंकि वह बात तो जीवन को अलग तरह कि ताकद और मकसद देकर आगे बढती है जिसे समझकर बातों को परख लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है क्योंकि बातों कि रफ्तार से दुनिया चलती है।
किसी बात को समझकर कई बार हमारी उम्मीदे बनती है जो जीवन को अलग तरह कि दिशाए देकर चलती है क्योंकि किसी बात के अंदर कि कहानी ही तो जीवन को मकसद देकर आगे जाती है जो जीवन को अलग तरह के एहसासों कि सौगाद देकर चलती है।
किसी बात को समझकर कई बार हमारी दुनिया खुशियों को ढूँढ लेती है तो कभी कभी बिना खुशियों कि कहानी ही जीवन को जिन्दगी देकर आगे बढती है जो जीवन को अलग पुकार देकर आगे बढती है बात के सहारे ही दुनिया आगे लेकर चलती है।
किसी बात को समझकर कई बार हमारी किस्मत बनती है जो हमे आगे लेकर हर मौके मे जिन्दा रहती है हमे बात को समझ लेने कि जरुरत रहती है जो हमे बताती है कि बातों के अंदर ही तो हमारी दुनिया कई बार कई तरह के एहसास और मकसद देकर चलती है।

Wednesday, 14 September 2016

कविता. ९२७. जीवन कि हर बात सीधी नही होती है।

                                 जीवन कि हर बात सीधी नही होती है।
जीवन कि हर बात सीधी नही होती है कई किस्सों से होकर वह आगे बढती जाती है जीवन कि बातों को कई बार समझ लेने कि जरुरत हर बार नजर आती है जीवन कि हर बात कई हिस्सों मे बार बार दोहराई जाती है जो रंग बदलकर जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान कहाँ बन पाती है वह कई तरह के मकसद देकर आगे चलती जाती है जीवन कि हर बात हमे आसान तो लगती है पर वह जीवन मे इतनी आसान नही होती है जो जीवन के एहसास बदलकर जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान कहाँ बन पाती है वह कई बार जीवन को अलग एहसास देकर आगे चलती जाती है जीवन कि बाते सीधे से बदलकर कई मौकों पर मुश्किल बनती हुई नजर आती है जिसे समझकर दुनिया बदलती जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान कहाँ बन पाती है वह कई बार आसान चीजों को बदलाव कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन को बदलाव देकर आगे बढती है जिसे समझ लेने कि उम्मीदे हर मोड पर खुशियाँ देकर आगे बढती जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान कहाँ रहती है क्योंकि हमे उलझन को अपने संग ले जाने कि जीवन मे हमे हर बार जरुरत लगती है जीवन को हर मोड पर कोई ना कोई अलगसी पहचान हर बार मिलती रहती है जो आगे लेकर जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान नही हो पाती है क्योंकि जीवन मे हर बार अलग कहानी छुपी रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर जीवन को समझ आती है क्योंकि जीवन मे बाते सीधे से कहने मे ही तो उलझन नजर आती जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान कहाँ हो सकती है जब मुश्किल से ही हमे मोहबत रहती है जिसे समझकर आगे बढते जाने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है जो जीवन कि सीधी बातों को उलझन देकर आगे बढती जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान नही होती है क्योंकि जीवन मे एक प्यास हर पल रहती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे चलती रहती है क्योंकि जीवन मे एक प्यास हर दम जिन्दा रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर पल नजर आ जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान बन तो जाती अगर हमने उसे आसान बनाकर जीने कि कोशिश कियी होती पर हमे जीवन को उलझन देकर आगे चलते जाने कि आदतसी पडती जाती है सीधी बातों से ज्यादा हमे उलझनों को समझ लेने कि जरुरत हो जाती है।
जीवन कि हर बात सीधी और आसान बन नही पाती है क्योंकि उसे बिना उलझाये हमारी दुनिया आगे नही बढ पाती है हमे आगे कुछ सिखने कि के लिए आगे बढते जाने कि जरुरत हर मोड पर अक्सर मेहसूस होती है जो हमे साँसे देकर आगे चलती जाती है।

कविता. ९२६. हर पल हवाओं को समझकर।

                                          हर पल हवाओं को समझकर।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि मौसम को जरुरत होती है जो मौसम के बदलाव को परखकर आगे चलते जाने कि उम्मीदे हर पल जीवन को अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है मौसम के अंदर ही तो हवाए बदलाव लाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि मौसम को समझ हर बार होती है वह हम से नही वह तो कुदरत से आती है क्योंकि हवाए तो जीवन का एहसास देकर चलती है हवाए ही तो जीवन मे बदलाव देकर आगे बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि मौसम को अहमियत हर बार होती है जो हवाओं मे बदलाव देकर हर एक मौके पर अलग तरह कि प्यास तो अक्सर जीवन मे रहती है जो जीवन को हवाओं का अलग एहसास देकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि मौसम को अक्सर अलग जरुरत रहती है जो जीवन को अलग तरह कि पुकार हमे आगे लेकर चलती जाती है जो जीवन को हवाओं का मतलब सिखाती है जो जीवन को अलग मौसम का बदलाव देकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन कि हर कहानी मे रहती है जिसे समझ लेने से ही तो दुनिया रंग बदलती रहती है हवाओं मे ही मौसम के बदलाव कि कहानी हर बार लिखी रहती है जो जीवन को आगे लेकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि आदतसी होती है क्योंकि हवाए ही तो जीवन कि कहानी कहती है जो हमे आगे लेकर चलती रहती है हर पल जीवन मे हवाए आगे जाती है जो जीवन को अलग लेकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत जीवन मे हर मौके पर रहती है जो जीवन को कई हिस्सों मे अलग अलग दिशाओं मे हर बार आगे लेकर चलती है जो जीवन मे हवाओं कि कहानी को अलग तरह का मकसद देकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत मौसम को होती है पर मौसम कि कहानी हर बार बदलाव देकर चलती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है जो हमे हवाओं कि कहानी हर बार सुनाती रहती है जो हवाओं के संग आगे लेकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे चलते जाने कि ताकद मौसम मे ही रहती है जो जीवन मे आगे लेकर जाती है और जीवन के कई मकसद और राज कहती रहती है हवाओं को बदलाव कि जरुरत हर बार रहती है जो हवाओं के संग आगे लेकर बढती जाती है।
हर पल हवाओं को समझकर आगे बढते जाने कि जरुरत हर बार जीवन को अलग तरह कि प्यास देकर चलती रहती है जो हवाओं के सहारे मौसम मे बदलाव देकर चलती है जो हवाओं को समझकर ही तो जीवन मे आगे चलती है जो हवा को समझकर बढती जाती है।

Tuesday, 13 September 2016

कविता. ९२५. बहारों को समझकर।

                                       बहारों को समझकर।
बहारों को समझकर उनके अंदर का एहसास हवाओं मे हर बार हम समझ लेते है फूलों कि खुशबू को हर बार पहचान लेते है उसमे हर एक मौके का एहसास हम पाते है जीवन के मकसद को हर बार कुदरत के एहसास मे हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर का एहसास खुशबू से परखता है जो जीवन कि कहानी को कई किस्सों मे कहता है जो बहारों को समझले वह सोच हम कुदरत के कई हिस्सों मे हर बार जिन्दा करते है हम उसे हर पल जीवन मे समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके संग चलते रहने कि जरुरत दुनिया मे हर पल रहती है जो बहारे कहती है उनके अंदर सोच अलगसी जिन्दा रहती है जो जीवन को कई मौकों पर एहसास अलगसा देकर आगे बढती जाती है जिसे हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर संग ही तो सुंदरता का मतलब समझ आता है जो हर बार जीवन कि कहानी को कई एहसासों के साथ आगे लेकर चलता है हमे बहारों के अंदर कि वह प्यास समझ लेनी जरुरी होती है जो जीवन कि कहानियों मे हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके सहारे जीवन कि कहानी बनती है जो हमे कई हिस्सों मे अलग अलग तरह कि सोच आगे लेकर चलती है जो बहारों कि कहानी का एहसास बदलकर जाती है जो बहारों को कई खुशबूओं मे जिन्दा रखती है हम उसे समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर कि नई रफ्तार देकर दुनिया आगे बढती है बहारों को समझकर ही तो दुनिया कि कहानी हर बार हर पल मे आगे चलती है बहारों मे दुनिया कि ताकद कई हिस्सों मे रहती है जो जीवन को हम अक्सर समझाना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर कि सोच अलगसी रहती है जो जीवन को विश्वास देकर आगे बढती है बहारों को समझकर दुनिया हर बार साँसे देकर चलती है बहारों को समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर रंग के अंदर अक्सर रहती है जो हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर कि कहानी अलग तरह कि रहती है जो बहारों को मतलब कई तरह के देकर चलती रहती है जो दुनिया को कई रंगों मे समझले वह राह हमारे लिए अहम रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत होती है जो हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर कि जरुरत हर पल रहती है जो जीवन को मकसद देकर आगे चलती है जीवन को अलग एहसास को समझ लेने कि जरुरत  हर मोड  पर रहती है जिसे समझ अलग होती है जो हम समझना चाहते है।
बहारों को समझकर उनके अंदर कि जरुरत हर बार रहती है जो जीवन को समझ लेना ही जरुरत हर मोड कि होती है बहारों को समझकर दुनिया हर बार अलग तरह का एहसास देकर आगे चलती है बहारों को परखकर ही तो दुनिया मे खुशियाँ आती है जो हम समझना चाहते है।

कविता. ९२४. जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है।

                                जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है।              
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को कई हिस्सों मे कहती रहती है जीवन मे हर बार सोच बदलती रहती है जो जीवन कि कहानी को कुछ अलग अंदाज मे बयान करती रहती है जो जीवन मे हर बार बदलाव देकर रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को समझ अलग किसम कि देती है जो जीवन को बदलाव देकर अलग समझ देकर आगे चलती है जीवन को कई हिस्सों मे बदलाव को परखकर दुनिया आगे बढती जाती है जिसमे खुशियाँ रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को समझ हर बार देकर आगे लेकर बढती है जिसे समझ लेने कि कहानी कई किरदारों के संग जीवन कि खुशियाँ देकर चलती है जीवन मे किरदारों के संग जीवन कि कहानियाँ कई किस्सों मे बदलती रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को एहसास अलगसा देकर आगे बढती है जीवन कि कहानी कई बार कई किस्सों मे समझ आती है जो जीवन को समझ अलग किसम के देकर आगे बढती है जिसे समझकर दुनिया आगे चलती रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को अलग तरह के एहसासों मे जिन्दा रहती है जीवन कि कहानी कई बार बदलती रहती है जो जीवन को कई हिस्सों मे आगे लेकर चलती है जो जीवन को अलग तरह कि सोच हर बार देकर रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को समझ अलग तरह कि है जो जीवन को अलग तरह कि उम्मीदे देकर आगे बढती है जिसे परख लेने कि जरुरत जीवन मे आगे लेकर चलती है जो दुनिया को अलग किसम का एहसास देकर रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जीवन को समझ तो तब मिलती है जब जीवन को अलग किसम कि समझ दुनिया हर पल देकर चलती है जो जीवन को अलग तरह कि सोच दे जाती है जो जीवन मे अलग किसम कि समझ देकर रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती रहती है जो जीवन को समझ  देकर आगे बढती है जो दुनिया को खुशियाँ अलग तरह कि मिलती रहती  है जो जीवन कई हिस्सों मे अलग तरह कि ताकद देकर आगे चलती है जो जीवन मे खुशियाँ देकर रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती है जो जीवन को किनारों मे कुदरत के सहारे आगे बढती है जिसे समझ लेने कि जरुरत दुनिया मे हर पल होती है जो जीवन को कई किस्सों मे बदलाव कि कहानी कहती जाती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर पल रहती है।
जीवन मे हर बार कहानी तो बदलती है जो जीवन को समझ अलग तरह कि प्यास हर बार देकर आगे चलती है जो जीवन को कई पलों के संग हर बार कहती है जो जीवन के अंदर सोच और पहचान अलगसी लगती है जब वही किरदार अलग देती है उनके संग बदलती रहती है।

Monday, 12 September 2016

कविता. ९२३. हर बात को समझ लेने का अंदाज।

                                     हर बात को समझ लेने का अंदाज।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है उस अंदाज के संग ही अक्सर हमारा इमान बनता है जो जीवन मे हमे कई दिशाओं से लेकर चलता है जो जीवन के कई एहसास मन के अंदर हर बार रखता है जो जीवन को खुशियाँ देकर चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है उसके अंदर का मकसद हर बार बदलता है जब बात को समझ लेते है तो उसके संग एहसास अलगसा बनता है जो जीवन कि धारा को सोच का अलग मकसद और कई तरह के बदलाव देकर चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है उसके भीतर ही दुनिया का एहसास जुदा रहता है जो बात हम समझ लेते है पर हर बार बात अलगसी होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर बार अलग मोड पर लेकर जाती है वह एहसास देकर चलती है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है उसके अंदर कि ताकद हर पल जीवन को साँसे अलगसी देकर आगे बढती है जीवन मे बात के अंदर कई हिस्सों कि दुनिया हर बार दिखती है जो जीवन को बातों के बदलाव दिखाकर चलती है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है उसके अंदर ही तो एहसास जिन्दा रहता है जो जीवन कि बातों को कई तरह के मकसद देकर जाता है हर बात को समझ लेने का अंदाज जीवन को एहसास अलगसा देकर हर बार आगे चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है जो जीवन मे बातों को कई मकसद देकर आगे बढता रहता है बात के अंदर का एहसास जुदा रहता है जो बातों के अंदर कि सोच को समझ अलग तरह कि हर बार देकर धीमे से चुपके से आगे चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है जो जीवन मे अलग अलग तरह कि सोच को अलग सौगाद देकर आगे बढता है किस बात मे हम क्या समझ लेते है उस पर ही तो हमारे जीवन का असर हर पल हर बार देकर धीमे से आगे चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है जो जीवन मे कई किस्सों को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत रहती है बातों को समझ ले तो आगे बढते जाने कि जरुरत जीवन मे हर मोड पर रहती है जिनके दम से ही तो हमारा जीवन आगे चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है जो जीवन कि धारा को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है क्योंकि बातों मे जीवन कि हकिकत हर बार जिन्दा रहती है जीवन बातों से ही तो हर पल हर दम आगे बढता है आगे चलता है।
हर बात को समझ लेने का अंदाज अलग होता है जिसे समझकर दुनिया का एहसास आगे बढता है जो जीवन को अलग किसम की सोच देकर बढता है हर बात को समझकर ही तो दुनिया आगे बढती है जीवन भी नई दिशाए पकडकर आगे चलता है।

कविता. ९२२. बहारों को समझ लेना।

                                       बहारों को समझ लेना।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत होती है जो जीवन को बहारों कि कहानी हर पल समझाती रहती है पर कभी कभी बहारों मे ही कोई अलग किसम कि समझ होती है जो बहारों को नई दुनिया देकर आगे चलती जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि अहम जरुरत होती है जो जीवन कि कहानी को बदलाव के संग लेकर चलती है जिसे समझ लेना ही तो जीवन कि अहम जरुरत रहती है जिसे दुनिया कई हिस्सों मे हर पल जिन्दा रखती जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि एक चाहत रहती है क्योंकि उनकी पुकार कितने वक्त से होती है पर सबसे ज्यादा तलाश तो खुशियों कि रहती है क्योंकि बहारों मे गम हो तो उस बहार कि चाहत हमारे मन से अक्सर खो जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि एक सच्ची जरुरत होती है जो जीवन कि सोच को कई हिस्सों मे कई किसम कि सौगाद हर बार देकर चलती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर पल रहती है जो आगे लेकर चलती जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि एक धारा अक्सर दिखती रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर पल रहती है बहारों को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर किस्से मे रहती है जो जीवन कि दास्तान को बदलाव देकर जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि कहानी नही होती है कभी कभी खुशियों के साथ भी वह जिन्दा रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर लम्हे मे रहती है जीवन मे बहारों से ज्यादा अहम दुनिया कि कई चीजे अक्सर बन जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि सोच को ताकद देकर चलता है क्योंकि बहारों के अंदर जीवन कि नई पुकार जिन्दा रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है पर कभी कभी बिना बहारों कि भी दुनिया होती है जो खुशियाँ दे जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो जीवन कि कहानी नही होती है जीवन कि कहानी कई हिस्सों मे आगे बढती है जिसे समझ लेने कि जरुरत बहारों को हर बार रहती है जो जीवन को अलग तरह कि सोच देकर चलती है जो जीवन कहानी बदलकर जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो हर बार अहम बात नही होती है कभी कभी बिना बहारों के भी दुनिया कई रंगों मे दिखती है दुनिया को कई बार जीवन को अलग अलग हिस्सों मे समझ लेने कि जरुरत होती है बहारों के बिना भी खुशियाँ जीवन मे जिन्दा रह जाती है।
बहारों को समझ लेना ही तो हर बार चाहत होती है कभी कभी बिना बहारों के भी जीवन मे खुशियाँ हासिल होती है जो जीवन को आगे लेकर चलती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत हर बार रहती है बिना बहारों के भी जीवन कि कहानी सुंदर होती जाती है।

Sunday, 11 September 2016

कविता. ९२१. हर दम जीवन को।

                                        हर दम जीवन को।
हर दम जीवन को कोई अलगसी सुबह मिल जाती है जो जीवन कि कहानी को कई किनारों से समझाती है हर दम जीवन मे साँसे कुछ ऐसा बदलाव लाती है जो हर दम जीवन कि कहानी को समझ अलग तरह कि देकर आगे जाती है।
हर दम जीवन को कोई अलगसी कहानी मिलती है जो जीवन को कई तरह कि कहानी कहती है जिसमे जीवन कि हर दम अलग तरह कि साँसे रहती है जो जीवन को कई किस्सों मे कई तरह कि कहानियाँ हर मोड कहती रहती है।
हर दम जीवन को कोई अलगसी सोच जीवन मे मिलती है जो जीवन को कई बार आगे लेकर चलती है जो हर दम जीवन कि साँसों मे अलग एहसास कि कहानी कहती रहती है जो जीवन को अलग तरह कि खुशबू अक्सर देकर आगे चलती है।
हर दम जीवन को कोई दिशा जब नजर आती है तो उस दिशा मे ही हमारी दुनिया बदलती है उस दिशा के अंदर कोई सोच जिन्दा अक्सर रहती है हर मोड पर दुनिया को समझ लेने कि जरुरत जीवन को साँसे हर पल देकर आगे बढती जाती है।
हर दम जीवन के अंदर कोई सुबह हर पल रहती है जो जीवन कि कहानी को एहसासों के आगे लेकर चलती है जो जीवन को अलग तरह कि सुबह देकर आगे चलती है क्योंकि हर दम हमे उम्मीदों कि चाहत हर पल रहती है।
हर दम जीवन को कोई कहानी पसंद होती है जिसे पहचान लेने कि जरुरत जीवन मे हर पल रहती है हर दम जीवन कि दिशाए हर पल बदलती है जिन्हे समझकर ही तो दुनिया हर पल आगे बढती है जिसमे दुनिया को समझ लेने कि ख्वाईश हर दम रहती है।
हर दम जीवन को कोई सोच जब बदल देती है तब उस मौके मे ही तो दुनिया हर दिशा मे अक्सर होती है जो जीवन को समझ हर मोड पर देकर चलती है जो जीवन कि धारा को बदलाव हर मौके पर अक्सर देकर चलती रहती है।
हर दम जीवन को कोई ताकद अक्सर मिलती है जो जीवन कि दिशाए बदलकर आगे चलती है हर दम जीवन के अंदर कोई अलग सोच हर मोड पर होती है जो हर दम जीवन को उम्मीदे और उजाले कि हर किरण हर पल देखती रहती है।
हर दम जीवन को परखकर हमे आगे जाने कि जरुरत हर पल होती है जो जीवन को साँसे देकर जाती है क्योंकि हर दम के अंदर ही तो हर मोड कि ताकद हर पल होती है जो जीवन मे हर दम कई किनारों मे उम्मीदे हर पल देकर रहती है।
हर दम जीवन को कोई ना कोई कहानी हर पल के अंदर मिलती है जो जीवन का तराना हर पल बदलती रहती है हर दम जीवन को समझ हर पल मुश्किल से मिलती है पर हर दम जीवन कि कहानी को अलग अलग तरह से उम्मीदे देकर मिलती रहती है।

कविता. ९२०. धरती के अंदर कि उम्मीदे।

                                 धरती के अंदर कि उम्मीदे।
धरती के अंदर कई तरह कि चीजे अक्सर असर कर जाती है जो धीमे धीमे से पौधे बनकर खिलती नजर आती है धरती के भीतर कि साँसे दुनिया को कई तरह के मतलब दे जाती है वह मकसद को कई किस्सों मे समझ देकर आगे चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह के एहसासों कि कहानी नजर आती है जो जीवन को हर बार साँसों से भरी उम्मीदे दे जाती है जीवन मे कई बार दुनिया कई रंगों कि समझ देकर दुनिया को अलग अलग तरह के किस्सों मे आगे लेकर चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि उम्मीदे साँसे दे जाती है जो धरती मे छुपी सोच को कई किस्सों मे कई हिस्सों मे कहती जाती है जो धरती के अंदर कि बाते आगे लेकर चलती जाती है जो जीवन मे नये तरह कि सुबह हर पल देकर आगे चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह के सपने आगे बढते जाते है जो धरती मे कई किसम के ख्वाब अक्सर देकर जाते है जो धरती के अंदर कि बाते जिन्दा रहती है उनमे जीवन कि सुबह जरुरी रहती है जो धरती के अंदर से कई तरह के सपने देकर चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह के मकसद जो छुपते है उन्हे जिन्दा रखने कि जरुरत हर पल मे होती है जो धरती मे छुपी दुनिया को कई तरह कि खुशियाँ देती है जो जीवन को कई रंगों मे समझ देकर आगे बढती रहती है जिसे समझकर दुनिया आगे चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि बाते जिन्दा रहती है जो जीवन मे कई पलों को जिन्दा रखती है हमे जीवन मे धरती मे छुपे एहसासों कि जरुरत अक्सर रहती है जिन्हे समझ लेने से ही तो जीवन मे खुशियाँ जिन्दा रहती है जो जीवन को मकसद देकर चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि बाते चुपचाप रहती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर पल रहती है जो धरती को हर बार एक अलगसी समझ देती रहती है जो धरती के अंदर कि साँसे तो जीवन को कई किनारों से आगे बढती रहती है जो उम्मीदों के संग चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि सोच हर मौके मे जिन्दा रहती है जो धरती को कई तरह के बदलाव देकर आगे बढती है जो धरती के अंदर कई किसम कि ताकद रखती है जो धरती के भीतर कई तरह कि खुशियाँ रखती है जो जीवन को नई दिशाए देकर चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि राहे रहती है जो जीवन को बदलाव देकर आगे बढती है जीवन मे कई उम्मीदे जिन्दा रहती है जो जीवन को कई तरह कि दिशाए देकर हर बार आगे बढती रहती है जिन्हे समझ लेने कि अक्सर जीवन मे जरुरत रहती है जो आगे चलती जाती है।
धरती के अंदर कई तरह कि उम्मीदे रहती है जो जीवन को कई हिस्सों मे कहती है जो धरती के अंदर कि सोच को जिन्दा रखती रहती है क्योंकि धरती के अंदर ही तो कई तरह के सपनों कि कहानी रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत होती है जो जीवन को आगे लेकर चलती जाती है।

Saturday, 10 September 2016

कविता. ९१९. पल पल के अंदर।

                                             पल पल के अंदर।
पल पल के अंदर अलग तरह कि सोच तो जीवन कि कहानी को बदलाव अलगसा देकर चलती रहती है जो पल को अलग तरह से अक्सर समझाती रहती है जो जीवन कि कहानी को बदलाव कई किसम के देकर आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि ताकद रहती है जो जीवन को कुछ अलग किसम कि प्यास देकर आगे चलती है जो जीवन मे पलों के साथ ही दुनिया को अलग तरह कि ताकद जिन्दा रखती है जो जीवन को आगे बढाती है, चलाती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि जरुरत रहती है जिसे समझकर दुनिया को आगे चलाती है जो जीवन कि कहानी को समझ अलग देकर जाती है जिसे समझ लेने से ही तो दुनिया कि अलग सौगाद दिखती है जो जीवन को बदलकर चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि प्यास जिन्दा रहती है जो जीवन कि धारा को बदलाव मे परख लेती है जो हर पल को अलग मकसद से आगे लेकर चलती है क्योंकि पलों के अंदर ही तो जीवन कि धारा जिन्दा रहती है जो आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि प्यास तो अक्सर रहती है जो जीवन को नये इशारे हर बार देकर आगे बढती रहती है जीवन को समझकर आगे चलते जाने कि जरुरत हर दिशा मे होती है जो हमे कई किस्सों मे दुनिया के अलग अलग रंग देकर आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि सोच तो हमे उम्मीदे देकर रहती है जिसे समझ लेने से ही तो दुनिया आगे चलती है जिसके बिना कहाँ दुनिया अलग तरह कि सूरत दे सकती है जो आगे बढती है वह सोच पलों के अंदर ही तो जीवन देकर चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि सोच जीवन कि नई कहानियाँ देकर चलती है जिसे समझ लेने से ही तो दुनिया कि कहानी बदलती है जो पलों मे ही तो ताकद देकर जाती है हमे जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर अक्सर रहती है जो आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि प्यास जो जिन्दा रहती है वही जीवन को अलग मकसद देकर जाती है उस प्यास मे ही तो जीवन कि एक पुकार रहती है जो जीवन को अलग तरह कि समझ देकर आगे बढती है क्योंकि समझ ही तो आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि जिन्दगी रहती है जो जीवन कि कहानी को कई तरह के मकसद देकर चलती है जिसे समझ लेने कि चाहत दुनिया मे जिन्दा अक्सर रहती है जो हमे आगे लेकर जाती है जो जीवन को कई तरह के मतलब देकर आगे चलती है।
पल पल के अंदर अलग तरह कि सोच जो जीवन को रोशन करती है उसमे एक अलगसी प्यास जिन्दा रहती है क्योंकि पलों मे ही तो जीवन कि तलाश रहती है जिसे हर पल मे दुनिया अलग एहसास चाहती रहती है क्योंकि पलों से ही जिन्दगी चलती है।

कविता. ९१८. हवाओं के एहसास को समझ लेना।

                              हवाओं के एहसास को समझ लेना।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही जरुरत हर बार कि होती है जिसे परखकर दुनिया जीवन को अलग तरह कि सोच देकर चलती है हवाओं मे जीवन के कई एहसास जिन्दा रहते है जो जीवन को अलग तरह के मकसद देकर चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो अक्सर जीवन कि आदत बनती जाती है जीवन को हर बारी आगे लेकर चलती है जीवन मे अलग अलग कहानियाँ जीवन  को अक्सर जिन्दा करती रहती है जिन्हे समझकर हर बार हम चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन कि रोज कि बात बन जाती है जो जीवन को हर बारी अलग एहसास दिलाती जाती है हवाओं को समझकर एहसास को परख लेने कि जरुरत हर मोड पर रहती है जिसके साथ हम चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही जरुरत हर पल कि होती है जो जीवन को कई हिस्सों मे अलग अलग किनारों से लेकर चलती जाती है जीवन मे हर बार कई एहसासों के संग दुनिया कई किस्सों मे धीमे से आगे चलती है उसके संग एहसास चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन कि सबसे अहम बात रहती है हवाओं मे कई तरह के एहसासों को समझ लेना ही तो कई किसम कि सोच होती है जो जीवन को जिन्दा रखती है जीवन मे हवाओं मे आगे चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन मे आगे बढते जाने कि उम्मीदे रहती है हवाए ही तो जीवन कि कहानी हर बार बदलती रहती है क्योंकि हवाओं को परखकर ही तो दुनिया आगे बढती रहती है जीवन को समझकर आगे चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन को कई तरह कि प्यास दे जाता है पर हर बार हवाओं के बदलाव से ही तो जीवन अक्सर आगे बढता जाता है जिसे समझ लेना हर मौके मे जरुरी रहता है जीवन ही हमे आगे लेकर चलता है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन को कई किसम के मतलब जीवन के कई एहसास जिन्दा रहते है जीवन मे एहसास के बाद अलग एहसास हर बार जिन्दा रहते है जिससे जीवन मे कई तरह के मकसद हर बार मिलते है जो आगे चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन को कई हिस्सों मे बदलता रहता है क्योंकि जीवन मे कई हिस्सों को समझ लेना जरुरी होता है हवाओं को बदलाव हर बार हर एहसास मे दिखता है जो हर बार आगे लेकर चलते है।
हवाओं के एहसास को समझ लेना ही तो जीवन के कई कदमों को जिन्दा करता जाता है क्योंकि हवाओं का बदलाव ही जीवन कि जरुरत होता है क्योंकि हवाओं को समझ लेना ही तो जीवन को सही राहों पर कई दिशामे ले जाता है हम उन पर ही तो चलते है।