Thursday, 30 June 2016

कविता. ७७५. जमीन से उगते हुए पौधे

                                                जमीन से उगते हुए पौधे।
जमीन से उगते हुए पौधे जीवन कि कोई अलग कहानी बताते है जिन्हे समझ तो हम लेते है पर अक्सर उनके खत्म हो जाने के ख्वाब से हम कतराते है।
जो जमीन पर उगते है वह पौधे बडे खास लगते है जिन्हे समझ लेने से भी ज्यादा उनको खो देने के डर से हम हर बार थरथर कापते रहते है और आगे बढते रहते है।
जब मिटी से उपर उठकर वह जीवन मे कोशिश करते रहते है जिन्हे उपर आते देखकर हम जीवन को परखकर रहते है उम्मीदे देकर रहते है।
पौधों को समझना ही तो हमे अलग एहसास देकर आगे ले जाता है वह पौधा ही हमारी जीवन कि खुशियाँ लेकर आता है हम उस पौधे से सीख लेते है।
कभी कभी अनजाने मे हम उसके मौत से कितने कतराते है कि पौधे अपने जीवन मे लगाने से डर जाने लगते है जिनकी अलग कहानी बन जाती है।
जीवन मे पौधों कि मौत को ही समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो जीवन को परख लेने कि अहमियत होती है जो जीवन को अलग समझ देने कि ताकद रखते है।
जीवन मे कई पौधे सुंदर लगते है जो जमीन से उपर आते ही एक अलग दुनिया बनती है जो जीवन मे अलग एहसास देकर चलती जाती है।
पौधों को जमीन से आगे बढते रहने कि जरुरत होती है जिनसे जीवन कि खुशियाँ बनती है जिनमे हमारी दुनिया जिन्दा रहती है जिनकी जरुरत हर पल होती है।
जीवन मे जमीन से ही तो दुनिया मिलती है जो जीवन मे खुशियाँ देकर आगे बढती है जो हमे हर पल अलग हक और साँसे देकर आगे चलती जाती है।
जीवन मे पौधे ही तो अपनी जरुरत होती है क्योंकि उनकी मौत से ज्यादा उनकी जिन्दगी हमारे लिए अहमियत होती है।

कविता. ७७४. सच्चे दर्द कि कहानी।

                                           सच्चे दर्द कि कहानी।
दर्द कि कहानी तो सभी सुनाते है कोई खुशियों कि कहानी सुननेवाला भी जीवन मे मिल जाये जीवन मे अलग साये हर पल नजर आते है।
पर कभी कभी जीवन मे अलग एहसास दे जाये वह किनारे बडे मुश्किल से नजर आते है जो हर पल रोशनी देकर आगे बढते जाते है जो जीवन मे उम्मीदे बनकर आगे चलते जाते है।
जीवन को हर सूरज पे तो हक लगता है पर हर पल रोशनी कहाँ मिल पाती है जो आगे लेकर जाती है जीवन का एहसास बदलकर जाती है।
कभी दूसरे के खुशियों मे ही अपनी खुशियाँ छुपी होती है जो जीवन को हर पल आगे  लेकर जाती है जो जीवन कि दिशाए उजागर करके जाती है।
जीवन मे दूसरे के खुशियों मे कहाँ लोग अपनी खुशियाँ समझ पाते है दुनिया को परख लेना लोग अक्सर भुल जाते है जीवन को बदलकर चले आते है।
जीवन मे हर पल हम कई दिशाओं मे चमक नजर आती है पर उसे समझ लेने कि जरुरत हर पल जीवन मे अहम अक्सर नजर आती है।
जीवन मे दर्द कि कहानी कुछ अलग बदलाव देकर आगे जाती नजर आती है जीवन मे दर्द ही हम सुनाते है और सुनाते चले जाते है।
यह आदत अक्सर बुरी होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर बात पर होती है जो हमे बदलकर रख देती है हम असली दर्द को ही समझ नही पाते है।
जीवन को समझ लेने कि उम्मीद हर बार देता है पर सच्चा दर्द हम से अक्सर छुट जाता है सिर्फ झूटे दर्द पर हमारी कहानी बन जाती है।
हर बार बात को समझ लेने कि उम्मीदे हर बार होती है जो जीवन को दिशाए देकर आगे बढती रहती है जो हमे सच्चे दर्द को दिखाना सिखा देती है।

Wednesday, 29 June 2016

कविता. ७७३. सोच का बदलाव।

                                              सोच का बदलाव।
जाने किस सोच से जीवन मे निकले थे और कुछ अलग बदलाव सामने आता है जीवन को नया रंग और एहसास हर पल मिल जाता है।
जो बात जीवन मे अधूरीसी लगती है उसे समझ लेने मे जीवन कि दिशाए बदलती रहती है जो हमे समझ नही आती है पर फिर भी जीवन से क्यूँ झगडना है?
उसकी हर बात निराली ही होती है कभी रोशनी दे जाती है तो कभी अँधेरे से भरी दुनिया होती है जीवन कि हर बात हमे बदलाव दे के चलती है।
जीवन मे कई रंगों मे दुनिया को रंगों कि एक अलग सोच दिखती है जिसे आगे जाने कि जरुरत दुनिया को हर पल नजर आती रहती है।
अगर परख ले जीवन को तो दुनिया अलग एहसास देकर जाती है साँसे ही हमे अपनी खुशियों कि सौगाद और अलग रंग हर मौके पर देकर जाती है।
सोच को बदलकर रख देती है वही दुनिया जो कुछ अलग ही रंग लाती है जो जीवन कि धारा को बदलकर हमे अलग एहसास देकर जाती है।
जिसे समझकर भी ना समझे वही बात जिन्दगी अक्सर दोहराती है वह हमारे जीवन को कुछ अलग किसम का एहसास देके आगे चलती है।
जाने क्यूँ जीवन को उम्मीदे मुश्किल राह पर भी मिल पाती है इसलिए ही तो जीवन कि दिशाए सही तरीके से उजागर हो पाती है और साँसे दे जाती है।
हर सोच हर पल ही ताकद बन के नजर आती है कभी कभी बदलाव जो मन को चोट दे जाता है उसमे जीवन कि रोशनी नजर आती है।
जीवन को कई पडदे मे दुनिया रोशन नजर आती है क्योंकि जीवन मे कई राहों पर दुनिया पूरी तरह से बदल जाती है जो दुनिया को बदलाव देती नजर आती है।

कविता. ७७२. हर उम्मीद कि चुभन।

                                           हर उम्मीद कि चुभन।
हर उम्मीद जो जीवन को नई आशाए देती है जो हमे समझ नही पाती है ऐसी भी होती है कुछ उम्मीदे ऐसी भी होती है जो जीवन को बदलकर रख देती है।
क्योंकि जीवन मे जो दुजे को रुलाती है वह जाने क्यूँ हमे ना भाँती है पर दुनिया को खूब हर पल नजर आती है जीवन को बदल देती है।
पर किसी कोने मे छुपकर रहने से ही मन को उम्मीदे मिल पाती है जिन्हे पा लेने पर ही तो दुनिया हमारी खुशियाँ बनती है छुपना ही उस पल कि सही बात नजर आती है।
जीवन को उम्मीदे मिल पाए या ना पाए दुजे से खुशियाँ छीन लेने से हमारी दुनिया कतराती रहती है जीवन कि दिशाए उलझे पर रुकना यही बात सही नजर आती है।
जीवन मे दुनिया हर बार किसी अलग अंदाज मे नजर आती है जीवन को परख लेने से ही तो अपनी दुनिया बन पाती है जीवन को बदलकर चलती जाती है।
जीवन मे उम्मीदे अक्सर कम नजर आती है पर दुजे से छीन लेने इतनी जरुरत हमे कभी नजर नही आती है जो दुनिया बदलकर जाती है।
जीवन का हर पल दुनिया को बदल देता है पर जीवन को वही एहसास सही नजर आता है जो सबको खुशियाँ हर पल दे पाता है।
जीवन मे छीन लियी जाये वह बात हमारे जीवन को सही नजर आती है जो जीवन को नई कोशिश देकर जाती है वह दुआ देकर आगे जाती है।
जीवन मे उम्मीदे तो बस उसी सोच से होती है जो सबको खुशियाँ देकर जाती है जो जीवन को नई आशाए देती है मुश्किल राह से सही वह उम्मीदे देकर जाती है।
शायद दुजे से छीन लेना दुनिया को भाता हो पर हमारे मन को एक चोट नजर आती है जो जीवन को हर मोड पर मुनाफा दे जाये पर मन को एक चोट दे जाती है।

Tuesday, 28 June 2016

कविता. ७७१. बात कि चुभन।

                                                     बात कि चुभन।
किसी बात कि चुभन जब मन को चोट देकर जाती है उनसे कोई अलग ही समझ हर पल नजर आती है दिशाए बदल जाती है।
हर बात को खुशियाँ जो जीवन मे नई सोच देकर आगे बढती रहती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत हर पल जीवन मे होती रहती है।
हमे जीवन कि चुभन को समझ लेना हर पल जरुरत नजर आती है जो जीवन को हर बात मे रोशनी कि कहानी नजर आती है।
जिसे हम समझ लेते है उन बातों मे अलग किसम कि चमक नजर आती है जो जीवन कि धारा को परखकर आगे कर जाती है।
हमे जीवन कि हर बात समझ लेनी जरुरी होती है जो जीवन को हर पल नई उम्मीदे देकर चलती है पर वह बात तो चुभती है जो मन को चोट देती रहती है।
बात को परखकर आगे जाने कि हर पल जरुरत होती है वह बात जो जीवन कि दिशाए उजागर कर के अक्सर जीवन मे आगे बढती है।
हमे जीवन को समझ लेने कि जरुरत तो होती है पर जाने क्यूँ जीवन कि नई दिशाए किसी चुभती बात से मन मे अलग एहसास देती रहती है।
जीवन को बात जो नई उम्मीदे देकर आगे बढती है उन्हे समझकर आगे चलते रहने कि जरुरत जीवन मे रोशनी देकर आगे बढती है।
चुभन का एहसास कई दिशाओं मे दिखता है उसे समझ लेने कि जरुरत हर मौके पर हमे होती रहती है जो जीवन को बदल देती है।
वह बात जिस पे दुनिया लहरों कि तरह झुमती है उस बात को समझ लेने से जीवन मे तसल्ली कि जगह चुभन मिलती है।
क्योंकि कई बार दुनिया बात समझ नही पाती है और हम जब उसे समझाते है तो दुनिया उस बात से संभल नही पाती है।

कविता ७७०. कहानी के अंदर कि साँसे।

                                                              कहानी के अंदर कि साँसे।
कहानी जीवन को साँसे देकर चलती है जिन्हे परख लेने कि जरुरत हर मोड पर होती है जो कहानी दुनिया को उम्मीदे देकर आगे चलती है।
कहानी को समझकर जीवन कि नई दिशा मिलती रहती है जीवन कि कहानी हर पल असर कर जाती है जो जीवन को मतलब देकर आगे बढती है।
कहानी तो अलग अलग असर देती है जिन्हे समझकर आगे बढने कि जरुरत होती है जीवन मे कहानी तो हर पल कुछ ना कुछ तो असर करती रहती है।
जीवन मे कहानी तो दुनिया को अलग तरह कि दिशाए देकर चलती रहती है  जो जीवन पर असर देती है कहानी मे ही तो हमारी दुनिया बसती है।
कहानी ही तो हमे एहसास देकर चलती रहती है जिनसे दुनिया को अलग चीजे हासिल होती है जो जीवन कि एक अलग दिशा तो मन को देती है जो हमे प्यारे रंग देती है।
हमे जीवन को समझ लेना जीवन पर अलग तरह का असर कर जाता है जिसे समझ लेना ही तो जीवन की अलग किसम कि रोशनी है।
जीवन को आगे ले जाने कि अहमियत कहानी मे हर पल होती है जो जीवन को समझकर आगे बढती जाती है जिसे समझकर दुनिया हर बार आगे चलती जाती है।
जीवन मे कहानी तो अलग सोच लेकर आती है जो जीवन कि सौगाद बदल के दुनिया को अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है दुनिया को बदलती जाती है।
कहानी के अंदर जीवन को परखकर आगे बढकर जीवन कि सोच बदलने कि जरुरत हर मौके पर होती ही है जो जीवन को बदल देती है।
हमे जीवन को हर बार समझ लेने कि जरुरत होती है क्योंकि जीवन कि कहानी हर बार नजरों से कुछ और ही बयान होती है जी जीवन पर असर कर जाती है।

Monday, 27 June 2016

कविता ७६९. किसी खयाल से

                                                                     किसी खयाल से
बार बार किसी खयाल से जब मन को तसल्ली होती है उस खयाल से ही हमारी खुशियाँ आगे बढती रहती है जो दुनिया को उजागर करती है
जीवन मे किसी खयाल से जीवन को तसल्ली मिलती है जिसे जीवन के हर मोड पर समझ लेने कि जरुरत हर पल होती है
किसी खयाल से जीवन कि दिशाए उजागर करती होती है क्योंकि उस खयाल मे दुनिया कि चाल समझमे आती है जिसकी अलग कहानी होती है
जब जब हम किसी खयाल को समझ लेते है उस खयाल से ही तो अपनी किस्मत हर पल बनती और बिघडती है
जीवन मे एक खयाल से ही तो अपनी दुनिया अलग चमक देकर आगे बढती है जो जीवन को रोशनी देकर चलती है
कई खयालों को समझ लेने कि जरुरत होती है जितने खयाल मन मे होते है उनसे ही तो दुनिया बनती है जो जीवन को खुशियाँ देती है
कभी कभी उस खयाल को पकडकर रखने कि चाहत ही दुनिया में मुसीबत बनती है कुछ खयाल कि जिन्दगी भर जरूरत होती है
तो किसी खयाल से दुनिया हर पल मुसीबत देती है जीवन को समझ लेने कि हमे अहमियत होती है जीवन मे दुनिया अलग तरह कि चीजे देती है
जीवन मे हर चीज कोई ना कोई मतलब देती है जीवन मे हमे चीजे समझ लेने कि जरुरत होती है जिसे परखकर आगे बढने कि जरुरत होती है
जीवन मे आगे जाने के लिए जीवन मे बाते समझ लेने कि जरूरत होती है क्योंकि किसी खयाल से दुनिया बनती है तो किसी खयाल से बिघडती है उन्हे समझ लेने कि जरुरत होती है 

कविता ७६८. मन का तूफान

                                                मन का तूफान
जीवन मे मकसद जान लेना आसान नही होता  मन के तूफान को परख लेना आसान नही होता जो जीवन को दिशाए देकर जाता है।
मन के अंदर ही तो कई किसम के तूफान छुपे होते है जो जीवन को बदलकर आगे बढकर जाते है जो जीवन कि ताकद होते है।
तूफानों से जुंजना ही तो अक्सर हमारी किस्मत होती है जो जीवन को अलग मोड पर लेकर जाती है मन ही तो तूफानों कि सौगाद होते है।
जीवन मे तूफान तो हर पल सोच को मतलब देकर चलते रहते है क्योंकि तूफानों से ही तो हमारे दुनिया कि हर बार शुरुआत होती रहती है।
तूफानों से लढकर ही तो जीवन कि शुरुआत बनती है जो हमे आगे लेकर हर पल आगे बढती चली जाती है पर मन के तूफानों के अंदर जीवन कि दुनिया छुपी होती है।
जीवन मे हर सोच तो मन के तूफानों से ही तो हर पल बनती है जो जीवन को अलग एहसास देकर हर पल आगे बढती जाती है।
मन के तूफानों से ही हमारी दुनिया अक्सर रोशन होती है जो जीवन को अलग आशाए और उम्मीदे देकर चलती रहती है।
जीवन कि कहानी उन तूफानों से ही दुनिया मे बनती है जो जीवन को ताकद देकर आगे बढकर चलती जाती है नई सुबह देती है।
मन मे तूफान को रखकर आगे बढने कि जीवन मे हर पल जरुरत होती रहती है जो जीवन कि दिशाए बदलकर जाती है।
जीवन मे ही तो रोशनी हर मौके पर सही असर कर जाती है वही रोशनी जीवन मे तूफान बदलकर हर पल आगे बढती जाती है।

Sunday, 26 June 2016

कविता ७६७. जीवन कि चमक

                                               जीवन कि चमक
हिरे कि चमक से ज्यादा किसी आँखों कि चमक लगती है उस पल ही तो जिन्दगी कि समझ मिलती है जो दुनिया को सुबह देती है
आँखों को परखकर ही तो दुनिया कि कहानी दिखती है जिसमे जीवन कि साँसे बनती है और रुकती है उम्मीदे दिखती है
जब आँख के एहसास पर ही हमारी दुनिया चलती है रुकती है तभी तो इन्सान मे इन्सानियत दिखती है जो सोच बदलकर रखती है
मन से ज्यादा जब कोई बात नही लगती है तभी तो जीवन कि दिशाए बदलती जाती है मन कि ताकद जिन्दा रहती है
जो सोच मन को साँसे दे वह आँखों से मिलती है जिसके अंदर दुनिया कि कोई अलग कहानी हर पल सुहानी लगती है
हिरे कि चमक से ज्यादा दुनिया मे किसी के आँसू कि खुद को किंमत लगती है तब नसीहत देने कि जगह खुदकी दुनिया ही बदलती है
जो हिरे कि चमक हमे अलग एहसास देकर आगे ले जाती है उसे परख लेने पर दुनिया कुछ अधूरीसी लगती है उसे दिखाने कि जरुरत हर पल होती है
जीवन मे हर पल अलग सोच अलग एहसास आँखे ही देती है जो दुनिया को सच अक्सर बता देती है पर उनका सबूत नही होता है
इसलिए तो आँखों से ज्यादा दुनिया को हिरों कि अहमियत लगती है जीवन मे आँखे इन्सान को उम्मीद तो देती है पर सबूत नही दे पाती है
पर आखिर मे जीवन मे सबूत से ज्यादा अहम उम्मीद ही होती है जो जीवन कि हर सोच को आगे लेकर बढती चली जाती है

कविता ७६६. हरीयाली एक अलग एहसास

                                            हरीयाली एक अलग एहसास
हरीयाली एक अलग साद देती है जो जीवन को कुछ अलग ही बात समझाकर जाती है जो जीवन को अलगसी साद देकर जाती है
जीवन कि जरुरत हरीयाली मे होती है जो जीवन को अलग एहसास देकर जीवन मे खुशियाँ देने कि शुरुआत देकर आगे बढती रहती है
हरीयाली कि एक शुरुआत नई सौगाद नजर आती है नया एहसास देकर आगे बढती चली जाती है जिसकी जरुरत हर पल रहती है
जीवन मे सुंदरता के एहसास जीवन को अलग मौका देते है जीवन को नई सुबह कि किरण कि कोशिश हर पल देते रहते है जिनकी जीवन को जरुरत हर बार होती है
हरीयाली मे हरे रंग देकर अंदर जीवन का एहसास जुदा होता है जो साँसों को परखकर आगे बढने कि प्यास कुछ अलग ही देता है
हरीयाली ही तो हमारी खुशियाँ देकर आगे बढती चली जाती है जो जीवन को अलग किसम कि ताकद देकर आगे बढती चली जाती है
हरीयाली के अंदर का मतलब जीवन का एहसास बदलकर आगे बढता चला जाता है जो जीवन कि नई ताकद हर पल मिलती रहती है
हरीयाली ही तो जीवन का एहसास बदलकर जाती है खुशियों कि सौगाद जीवन को एक साँस अलग दे जाती है खुशियाँ हर बार लाती है
जीवन को हरीयाली कि सौगाद हर मोड पर मिलती रहती है क्योंकि हरीयाली ही तो जीवन का एहसास बदलकर आगे चलती रहती है
हरीयाली मे ही तो जीवन कि शुरुआत हर बार दिखती है उस हरीयाली मे ही तो कई बार जीवन कि कोई राह छुपी रहती है हरीयाली के साथ ही तो हर पल खुशियाँ जिन्दा रहती है
इसलिए शायद मन को हर बार हरीयाली कि एक प्यास रहती है जो जीवन को अलग आस और एहसास देकर आगे बढती जाती है

Saturday, 25 June 2016

कविता ७६५. किसी लब्ज को समझकर

                                            किसी लब्ज को समझकर
किसी लब्ज को समझकर जीवन तो बदलता जाता है जिन्हे परखकर ही तो जीवन मे एहसास अलग आता है दिशाए बदलकर आगे जाता है
जीवन का लब्जों से ही तो शृंगार नजर आता है जो जीवन कि दिशाए हर पल बदलता जाता है जीवन को समझकर आगे बढता जाता है
लब्जों कि ताकद से ही तो जीवन का मतलब मिल पाता है जीवन मे लब्जों से ही तो आगे बढने का मौका जीवन मे मिल पाता है
जीवन ही तो वह लब्ज है जिनसे बात का समझ लेना मुमकिन नजर आता है वह हर पल हमे ताकद देकर जाता है लब्ज बदलकर जाता है
लब्ज ही तो वह ताकद होते है पर कभी कभी जीवन का एहसास अपने आप बदलता जाता है जो जीवन कि दिशाए बदलकर दुनिया दिखाता है
लब्ज ही तो जीवन मे कई जगह नई शुरुआत दे पाता है जीवन को लब्जों के जाल मे ही तो समझ लेना हर बार जरुरी नजर आता है
जीवन को अलग एहसास ही तो हर पल मकसद देकर जाता है जो जीवन को नई साँसे देकर हर मौके पर अलग सोच देकर आगे जाता है
लब्ज ही तो जीवन मे दिशाए देकर जाते है वही तो अक्सर हमे अलग मतलब का एहसास दिला देते है पर हर बार यह मुमकिन नही हो पाता है
जीवन लब्जों से ही तो घिरा हुआ नजर आता है हमे उम्मीदे देकर आगे बढने कि दुनिया देकर हर पल आगे बढता जाता है
क्योंकि लब्ज ही तो दुनिया कि ताकद बन पाता है जो हमे अलग और नये किसम कि रोशनी देकर आगे हर पल बढता जाता है

कविता ७६४. किसी कोने मे

                                                 किसी कोने मे
किसी कोने मे मन के अक्सर कोई राज छुपा रहता है जो जीवन को अक्सर अलग तरह का एहसास छुपा लेने का मौका देता रहता है
किसी कोने मे किसी खत मे कई बार लिखा होता है वह राज जो हम छुपाते है पर हर पल मनमे जिन्दा रहता है मन को खुशियाँ देता है
जीवन के कोनों मे ही तो जीवन कि किताब छुपी रहती है जो जीवन को अलग साँसे देकर आगे बढने कि दिशाए देकर जिन्दा रहती है
किसी कोने मे जीवन कि कोई आवाज छुपी होती है जो जीवन को बदलकर आगे लेकर हर पल आगे लेकर चलती जाती है
कोनों मे जो सोच छुपी रहती है उस कोने को समझकर आगे बढने कि जरुरत हर पल जीवन को तो अक्सर होती ही है
जीवन मे अलग ताकद होती है जो जीवन को मतलब दे जाती है जीवन का संगीत बदलकर जाती है एहसास बदल देती है सोच बदल देती है
कोने मे जीवन का एहसास हर पल कुछ अलगसा होता है जो हमे नई शुरुआत देकर आगे ले जाता है जीवन मे उम्मीद जगाकर जाता है
जीवन तो कई कोनों से बनता है उन कोनों मे ही तो हमारा विश्वास छुपा रहता है जो रोशनी देकर जाता है जीवन कि साँस बनता है
हर कोने मे जीवन कि एक लकिर बसती है जो जीवन का एहसास हर मोड पर देकर आगे बढती जाती है जो दिशाए बदलकर चलती है
जीवन के कोनों मे दुनिया जिन्दा रहती है जिसके कारण जीवन कि दिशाए हर पल बदलती रहती है क्योंकि कोने मे ही अक्सर हमारी साँस छुपी रहती है 

Friday, 24 June 2016

कविता ७६३. हर जगह कि सोच

                                            हर जगह कि सोच ा
हर जगह पर कोई सोच हर बार इशारा करती है जीवन कि कहानी हर बार दुनिया का अलग सहारा बनती है जो जीवन को मतलब दे चलती है
किसी जगह पर जाने क्यूँ हमारी नजर बार बार कुछ इस तरह रुकती है जो जीवन कि दिशाए बदलती रहती है हर जगह मे कोई मतलब देकर चलती है
किसी जगह पर जीवन कि कहानी हर पल लिखी जाती है जिसे समझकर हर बार दुनिया रंग बदलकर चलती रहती है जीवन बदलती रहती है
जब जब जीवन कि जगह कोई अलग मतलब देकर चलती है वह धीमे धीमे हर कदम दुनिया को बदलकर आगे बढती चली जाती है
किसी जगह पर खुशियाँ है तो किसी जगह पर गमों कि बारीश भी चलती है हर जगह एक नई दुनिया दिखाकर किस्मत हर पल चलती है
जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर पल तो होती रहती है जिसे परखकर आगे बढते ही जगह अक्सर अच्छी लगने लगती है
जीवन मे हर जगह पर कोई बात एक अलग तरह कि होती रहती है उसे समझकर आगे बढने से दुनिया हर पल रंग बदलती रहती है
किसी जगह को समझकर आगे बढने कि उम्मीद हर पल होती रहती है उस उम्मीद के बल पर दुनिया हर बार अलग रंगों पर चलती है
जगह के अंदर हर बार अलग एहसास कि सोच बदलती रहती है जिसे समझकर जीवन को परखकर दुनिया हर बार एहसास बदलकर चलती है
जगह मे दुनिया को समझकर आगे बढने कि जरुरत होती है जो रोशनी देकर हर पल आगे बढती चली जाती है रोशनी देकर जाती है

कविता ७६२. हर कदम पर जीवन

                                              हर कदम पर जीवन
हर कदम पर कोई ना कोई सोच तो जरुरी होती है पर कई कदम पर जीवन के एहसास तो अक्सर भरे होते है उनमे अलग समझ होती है
क्योंकि कदमों कि अलग कहानी हर मोड पर होती है कदमों मे ही जीवन कि एक आवाज छुपी होती है जिसे पेहचाने या ना पेहचाने फिर भी जीवन कि बात तो होती है
जीवन मे कदम तो कुछ अलग बात बताते है जिनमे जीवन कि एक अलग तरह कि ताकद हर बार छुपी होती है जो जीवन का एहसास बदलती है
कदमों मे ही तो जीवन कि पेहचान छुपी होती है क्योंकि उनमे ही तो जीवन कि कहानी लिखी होती है जो दुनिया बदल देती है
क्योंकि कदम ही तो जीवन कि कहानी बता देते है हर कदम तो जीवन को कहानी बना देते है कदम मे ही तो उम्मीद रखी होती है
क्योंकि कदम ही तो हर बार हमारी जिन्दगी और किस्मत होते है जो जीवन को रोशनी  देकर आगे बढते चले हर बार जाते है
हर कदम को जीवन कि एक दुआ होती है जो हमे उम्मीदे देकर हर बार आगे चलती जाती है जो हमे सिखाती है जो हमे आगे लेकर जाती है
हर कदम पर जीवन कि कोई अलग कहानी दिखती है जो हमे आगे लेकर जाती है जिसकी जरुरत जीवन मे हर मोड पर होती है
जीवन मे कदम ही तो हमारी ताकद होती है जिन्हे समझकर आगे बढने कि जीवन को हर पल अक्सर जरुरत होती है
क्योंकि कदम ही तो हमारी खुशियाँ और किस्मत होते है वही तो हमारी जिन्दगी को हमेशा बना पाते है ताकद दे जाते है

Thursday, 23 June 2016

कविता ७६१. कोई सीधीसी बात

                                                      कोई सीधीसी बात
किसी बात को कहने से पहले कई बार दुनिया मे सोचने कि जरुरत होती है जीवन कि बात को समझकर आगे बढने कि जरुरत होती है
पर कई बार बात सीधीसी होती है उसे दुनिया मे समझ लेने कि जरुरत होती है उस बात के साथ जीवन कि कहानी सही मोड ले लेती है
जीवन मे कई बार आगे बढने कि कुछ अलग निशानी बनती है जो जीवन कि कहानी फिर से बदलकर आगे चलती रहती है जीवन कि निशानी बदलती है
बात जिसे हम परख ले उनमे ही तो जीवन कि साँसे बदलती रहती है जो जीवन कि दुनिया मे खुशियाँ देकर आगे चलती है
जब किसी बात से हम उलझन मे हो तो दुनिया हमारे जीवन कि दिशाए बदलती है जिन्हे समझ ले उन्ही साँसों कि कहानी बदलती है
बात को अगर परख ले तो उसमे दुनिया सोच अलग तरह कि रखती है जिसे समझकर आगे बढने से जीवन कि निशानी बदलती रहती है
बात अलग हो या वही हो उस बात से जीवन कि धारा बदलती है वह एक अलग रंग भी देकर दुनिया मे आगे बढती रहती है
बातों को समझ लेते है तो उनकी कहानी भी बदलती रहती है हर बार अलग अलग अंदाज मे उनकी कहानी बदलती जाती है
बात के एहसास को समझकर जीवन को अलग कहानी मिलती रहती है वह जीवन कि निशानी बदलती जाती है
पर कोई बात तो ऐसी होती है जो बिना समझे ही जीवन कि कहानी बनती है वह जीवन के हर हिस्से मे एक याद सुहानी बनती है 

कविता ७६०. कमजोर शुरुआत

                                           कमजोर शुरुआत
रेत के हर महल से कोई बात नजर आती है क्योंकि उसमे ही तो सपनों कि सौगाद नजर आती है जो आगे बढकर महलों को बनाने कि कोशिश होती है
उन्ही नन्हे हाथों से ही तो कल कि सुबह बनती है उनकी शुरुआत नई दिशाओं से होती है क्योंकि नन्ही हाथों से नये महलों को एहसास मिलते है
जीवन को समझ लेना एक अलग एहसास होता है नई शुरुआत मे अक्सर कागज और रेत का एहसास होता है क्योंकि कमजोर ही अक्सर शुरुआत होती है
कागज और रेत से ही तो अक्सर सपनों कि शुरुआत होती है जो ना समझे उन बातों को वही शुरुआत को कमजोरी समझ लेता है
कौन समझाए उन लोगों को हर मजबूत इमारत कि शुरुआत एक कमजोर कागज पर ही हमेशा होती है जो जीवन को अलग एहसास देती है
हर शुरुआत मे ही तो जीवन का मजबूत इरादा छुपा होता है उसे ना समझ पाये वह इन्सान अक्सर नादान होता है जो उसे परख नही पाता है
जीवन मे हमे मजबूत चीजों से पहले उनकी कमजोर शुरुआत करनी पडती है जिन्हे समझकर ही तो दुनिया आगे बढकर चलती है
क्योंकि कागज और रेत ही तो आगे बढने कि शुरुआत होती है जिसमे से ही तो दुनिया को नई ताकद मिल जाती है
पर कई बार कमजोर शुरुआत को दुनिया हार समझ लेती है अच्छा ही होता है अपना असली रंग दिखा देती है और वही असली शुरुआत होती है
जो जीवन को संभलना सीखा देती है कमजोर शुरुआत मे मजबूत वही बात बनाती है जिन्दगी मे मजबूत बनने कि जिद्द उसी दुनिया कि सोच का जवाब होती है

Wednesday, 22 June 2016

कविता ७५९. बूँदों कि मैफिल

                                             बूँदों कि मैफिल
बूँदों मे संगीत अलगसा सुनने को मिलता है जो जीवन कि कोई अलग कहानी कहता रहता है जीवन को साँसे हर पल देकर चलता है
बूँदों कि जो सरगम हर बार सुहानी लगती है उसे सुनने कि चाहत को जीवन कि कहानी अलग सोच से कहती रहती है
किसी बिजली कि आवाज से एक बात रुहानी लगती है सीधे साधे रास्तों पर भी मन मे कोई डरावनी कहानी बनती है जिसे सोचकर मन बहलता है
बचपन कि कहानी जिन्दा होती है कागज कि जो नाव उस वक्त डुब गई उस पल पानी मे फिर से बहती हुई दिखती है
जब हम संगीत सुने बूँदों का तो जीवन कि कहानी बदलती रहती है जिसे समझकर आगे बढने कि कहानी बनती है
बूँद जो हम को साँसे देकर आगे बढती है वह जीवन कि अलग कहानी समझाकर चलती है जो बूँदों कि रवानी दिखाकर चलती है
बूँद जिस बात को समझकर आगे बढती चली जाती है उस बूँद के भीतर ठंडक का एहसास देकर जीवन मे एक अलग निशानी बनती है
बारीश तो हर बार वही है पर फिर भी सुहानी लगती है माँ कि गोद मे गुजरे बचपन से आगे बढते हर मोड पर हमारे साँसों को हर बार सुनती है
जब बादल दिखते है तो वह बात पुरानी नही लगती है हर बार उनके संग कोई अलग कहानी बनती दिखती है जीवन कि सोच बनती है
बादल बिजली बूँदों संग जीवन कि अलग मैफिल बनती है और संगीत के मैफिल कि तरह यह मैफिल हर बार अलगसी दिखती है

कविता ७५८. धरती सिखाती है

                                            धरती सिखाती है
एक बात जो धरती सिखाती है जाने क्यूँ  वह हमे खुशियाँ देकर आगे बढती चली जाती है जिसमे जीवन कि खुशियाँ शामिल होती है
जब धरती हमे कोई मकसद देकर आगे बढती चली जाती है जीवन कि राहे बदलकर दिशाए बदलती जाती है नई सोच आती है
पर हमे तो धरती बस वही नजर आती है पर उस से सच्चाई कहाँ बदल पाती है जो जीवन को कई मतलब देकर आगे जाती है
धरती ही तो जीवन कि सही बात बताकर जाती है वह बताती है जिन्दगी वही सोच देकर आगे जाती है जो हमे ताकद देकर जाती है
धरती मे ही दुनिया को बनाती जाती है उसके अंदर साँस रखकर हर घडी चुपचाप घुमती जाती है पर किसीको वह बात समझ न आती है
जीवन को समझ लेना बडी मुश्किल बात हर पल नजर आती है क्योंकि धरती कुछ अलग ही गीत सुनाती है जिसका अंदाज जुदा होता है
जीवन मे हर बात को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो जीवन को बदलकर जाती है नये बात को समझाकर आगे बढती जाती है
धरती मे ही कई बाते हर पल छुपी होती है जिन्हे समझकर दुनिया हर पल आगे बढती रहती है पर कई बाते हमारे लिए अक्सर राज ही रह जाती है
धरती जो हर पल मेहनत करती रहती है कितनी आसानी से वह जीवन मे अलग एहसास लेकर चलती रहती है वह कई बार आगे बढने का एहसास भी नही देती है
धरती को समझ लेने कि जरुरत हर पल हर मोड पर होती है क्योंकि धरती तो एक जगह पर रुकती नही है पर उसके घुमने के एहसास से दुनिया बचती है

Tuesday, 21 June 2016

कविता ७५७. हल्कीसी हवाए

                                               हल्कीसी हवाए
हल्कीसी हवाए हर बार एक बात नही कहती है वह हर बार जीवन को समझकर आगे बढती रहती है सोच को बदलकर कुछ कहती है
सीधीसी हवाए दुनिया को समझ देती है उन्हे परखकर चलने कि ख्वाईश हर बार सुनाती रहती है पर उनको समझ लेना हर बार आसान नही होता है
जब हवाए जीवन कि कहानी को कुछ अलग अंदाज मे कहती है जीवन को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत हर पल रहती है
हवाओं के एहसास को समझकर जीवन कि आवाज अचानक बदलती है क्योंकि जाने क्यूँ मन मे छुपी बात हवाए कहती रहती है
जब हल्केसे छूँ कर हम को वह आगे बढती रहती है उन्हे समझ लेने कि कोशिश मे जिन्दगी गुजरती जाती है जो हवाए बताना चाहती है
एक अजब संगीत है हवाओं का जो हमे दिशाए दे जाता है जिसे समझ लेना हमे कभी कभी आता है पर फिर भी हर पल हवाए हमे समझना चाहती है
कितनी अजीब बात है हम तो हवाओं को नही समझते पर वह हमे आसानी से समझ लेती है हमारी दुनिया बदलना चाहती है
हल्की फुल्की हवाए ही तो हमे दिशाए देकर आगे बढती जाती है जीवन को समझ लेना दुनिया का दस्तूर है लेकिन वह अलग सोच दिखाती है
वह खुदसे पहले हमे रखकर हमारे मन को ठंडक पहुँचाती है वह हमारे जीवन कि भाषाए बदलकर जाती है वह हमे कुछ नया सिखाती है
वह बताती है जब हम को ना समझे तो भी बात समझाती है जीवन मे बाते आसान बनाकर जीवन कि राहे बदलकर जाती है
जो ना समझे उसे भी बार बार समझाने कि सोच देकर हमे हर पल आगे लेकर चलती चली जाती है जीवन कि राहे बदलकर जाती है 

कविता ७५६. बात का आगे बढना

                                                       बात का आगे बढना
कोई बात जो मन को छूँ जाये उसमे एक हकिकत रहती है जो बार बार जीवन को साँसे देकर आगे बढती चली जाती है
बात को मकसद देकर तो जिन्दगी हर बार जीवन को आगे लेकर चलती है पर जो बात मन को छूँ जाये वही अहम लगती रहती है
बात को मकसद देती है वह सोच जरुरी होती है जो जीवन कि हर धारा को साँसे अलगसी देती है जीवन कि पुकार बदलकर रख देती है
बात जिसके अंदर दुनिया कई किसम के जस्बात समझ न पाती है बात जो जीवन को  हर पल हर कदम मतलब देकर जाती है
बात जो दिल को नया एहसास और मकसद देती है वह सही लगती है क्योंकि वह हर बार जीवन को छूँ लेती है जीवन कि रोशनी देती है
जीवन मे हम बातों को हर पल समझ लेते है उन बातों के सहारे ही तो हमारी दुनिया और हमारी खुशियाँ अक्सर बनती है जीवन मे रोशनी आ जाती है
बात के अंदर हर घडी रोशनी हर पल आती रहती है जिसमे जीवन कि अलग सोच तो हमेशा जीवन मे हर पल एहसास देकर जाती है
बात को समझकर आगे बढती रहती है जो जीवन के अंदर नया उजाला देकर आगे जाती रहती है जिनमे एहसास देकर आगे बढती रहती है
बात मे जीवन कि समझ हर मोड पर एहसास देकर जीवन को बदलकर रख देती है जो जीवन को समझकर आगे जाती है जो नये एहसास दिलाती है
जो बात मन को समझकर आगे लेकर जाती है वह बात मायने रखती है जिसे समझकर आगे जाने कि जरुरत होती है बाते जीवन को आगे लेकर बढती रहती है 

Monday, 20 June 2016

कविता ७५५. आसमान के सितारे

                                           आसमान के सितारे
सितारों को देखकर जब जीवन को समझ लेते है तब जीवन को परखकर आगे बढने कि उम्मीद हम हर बार हर पल रखते रहते है
आसमान को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत को हम हर दिशाओं मे हम समझ लेते है सितारे ही जीवन कि दिशाए तय करते रहते है
पर हर बार हम कहाँ सितारों कि दुनिया मे जा पाते है जिसके अंदर हम जीवन को समझकर आगे चलते रहते है सितारों को समझ लेते है
सितारों को समझकर जीवन को आगे चलने कि जरुरत हर बार हर पल आगे बढती रहती है जो हमे दुनिया सिखाती रहती है
सितारों से ही तो हमारी दुनिया बनती है जो जीवन को परखकर आगे बढती है जिनमे जीवन कि ताकद हर पल रोशनी देकर आगे जाती है
सितारों से ज्यादा हमे दुनिया कि खुशियाँ समझ लेनी होती है जो हमे समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत हर मोड पर रहती है
क्योंकि सितारों कि रोशनी के साथ जीवन को समझ लेना अक्सर उजाला देकर जाती है आसमान को सितारों मे समझ लेने कि जरुरत हर बार होती ही है
आसमान को सितारों मे परखकर आगे बढने कि जरुरत जीवन मे होती है कई बार रोशनी दिशाओं को मतलब देती है जीवन को साँसे देकर आगे जाती है
सितारों को समझ लेने कि जरुरत हर राह पर अक्सर जीवन मे होती ही है जो हमे साँसे देकर आगे बढती रहती है उम्मीदे हर पल देती है
आसमान को समझकर दुनिया कि रौनक हम उसमे देखते है उसमे ही तो दुनिया कि खुशियाँ ढूँढते रहते है 

कविता ७५४. मन कि साँसे

                                                                मन कि साँसे
जब जब साँसों से मन कि कोई आवाज निकलती है चुपके से वह जीवन का अंदाज बदलती है लब्जो मे अल्फाज बदल देती है
साँसों से जुड जाने से जीवन कि आवाज बदल जाती है जो हमे खयालोमे अलग नजर आती है साँसे जीवन में अलग एहसास देती है
जीवन के अंदर अलग सोच जीवन मे अलग एहसास दिख जाते है जीवन मे साँसे कई तरह कि सोच से हमे आगे लेकर बढती चली जाती है
साँसे जीवन को अलग सोच देकर आगे चलती रहती है साँसे तो जीवन को अलग एहसास देना चाहती है जीवन में कोई अलग सोच आती है
जीवन में ही तो अलग सोच जिसे सच्चा बनाकर जाती है जीवन कि हर धारा को मतलब देकर आगे बढना चाहती है जीवन में सोच तो अक्सर होती है
जीवन मे हर कदम पर जीवन में अलग साँस जिन्दा होती है जो हमे समझा लेती है जीवन मे नई ताकद जो हमे आगे लेकर चलती जाती है
मन मे जो आवाज जिन्दा होती है उसे परखकर जीवन में आगे चलने कि जरूरत हर पल हर बार होती है जो जीवन को अच्छा एहसास देती है
किसी आवाज में ही सीने कि धडकन हर बार होती है जो जीवन कि  हर साँस में बस वही एहसास रखती है जो हमारे दुनिया को हर बार बदलती है
साँसे ही तो जीवन कि ताकद होती है जो जीवन को अलग ही एहसास देती है जो जीवन को नई साँसे देकर हर जीवन को अलग एहसास दे जाती है
साँसे तो हर पल जीवन को नई सोच होती है जो जीवन को अलग तरह कि सोच हमे जीवन में आगे लेकर जाती है जीवन में खुशियाँ दे जाती है 

Sunday, 19 June 2016

कविता ७५३. तूफानों पर हिलता जहाज

                                               तूफानों पर हिलता जहाज
जब कोई जहाज किनारे से भटक जाता है तूफानों से उलझकर ही तो यह सही दिशा मे हो पाता है तब कोई जीवन कि दिशाए बनाकर जाता है
जहाज जो जीवन को मकसद दे जाता है उसे किनारे से ज्यादा लहरों पर रहना ही भाता है क्योंकि वह जीवन को मतलब दे जाता है
जहाज जो पानी के उपर हिलता जाता है जीवन को धारा मे ही तो वह नई सुबह खोजता जाता है जीवन को आगे लेकर बढता चला जाता है
जहाज को जब तूफानों संग उलझना आता है तभी तो वह जीवन कि दिशाए बदलता जाता है नई सोच हमे जो आगे ले जाये उसकी खुशियाँ पाता है
हमे जिस जहाज कि जरुरत जीवन मे है वह हमारे मन का जहाज जीवन मे आगे बढना चाहता है जीवन को संभलकर आगे चलना चाहता है
जो बिना लढे ही जीवन मे हार मान ले तो जीवन को नई सोच हर पल पाता है जो तूफानों से उलझ लेते है उन्हे ही जीना आता है
जहाज जिसे हम समझ लेते है जीवन मे उसे जीवन मे कई दिशाओं मे मुडना आता है जो जीवन को नयी शुरुआत देकर आगे जाता है
तूफानों से ही तो जीवन मे आगे बढना आता है जिसे समझकर कई पलों को परखकर जीवन को आगे बढना आता है
मुश्किल को समझकर आगे बढते रहते है तो ही जीवन सच्ची खुशियाँ पा जाता है जीवन को आगे लेकर चलता जाता है
जो तूफानों मे भी हसना सीखता है उसका जीवन ही तो अक्सर खुशियाँ पाता है जीवन मे आगे बढते रहना चाहता है

कविता ७५२. जीवन कि चाहत

                                               जीवन कि चाहत
जीवन मे क्या हम चाहते है उस से ही तो हमारी किस्मत बन पाती है जीवन को वह हर बार अलग एहसास देकर हर पल चली जाती है
जीवन को हर बार अलग साँस देकर आगे बढती जाती है जीवन मे हम क्या माँगते है उसके साथ हमारी खुशियाँ और गमों कि सौगाद होती है
जीवन मे सही चीज कि ख्वाईश अक्सर अहम होती है जो जीवन को कई मतलब देकर आगे चलती जाती है नजर बदल जाती है
चाहत अगर प्यारी चीजों से हो तो ही दुनिया खुशियाँ हर कदम देती है पर मन से प्यारी चीजे ही तो दुनिया कि सही सौगाद होती है
सही चीजों को परखकर ही अगर चाहत हो तो ही हमारी किस्मत बन पाती है जो मन कि सुंदरता हर बार जीवन को छूँ जाती है
जीवन के हर कदम पर अलग सौगाद मिलती है जिसमे सही राह होती है वही जीवन कि सही सौगाद बन जाती है दिशाए सही देकर आगे जाते है
जीवन मे सही चाहत हर पल और हर बार रोशनी देकर जाती है पर हर सही सोच से हो यही जीवन कि नई किरण हर पल होती है
जीवन को परख लेना ही तो हमारी किस्मत होती है जो हमे समज देकर जाती है रोशनी चमक मे नही सच्ची सोच मे होती है
जो समझ ले इस बात को उसकी दुनिया ही खुश किस्मत होती है जो बनती बिघडती जाती है क्योंकि सही चाहत ही तो जीवन कि पेहचान होती है
चाहत को सही दिशाए मिले यही जीवन कि जरुरत होती है सिक्कों से ज्यादा जरुरी होठों कि मुस्कान होती है वही साँसे देकर आगे बढती जाती है

Saturday, 18 June 2016

कविता ७५१. किसी सोच को समझकर

                                         किसी सोच को समझकर
किसी सोच को समझकर हम आगे जब जाते है जीवन कि कहानी को रोकना नही चाहते है आगे बढे बिना हमारी दुनिया नही बनती है
सोच को समझकर जीवन कि कहानी आगे जाती है जिसे दूसरों को समझाने कि जरुरत ही मेहसूस होती है जो ताकद देकर आगे बढती है
सोच के अंदर अगर ताकद हो तो उसे किसी सहारे कि जरुरत नही होती है क्योंकि सोच ही दुनिया को मकसद और मतलब देती जाती है
सोच को परखकर हर पल जीवन को समझ लेने कि जरुरत सही और मजबूत सोच को नही होती है वह दुनिया को खुशियाँ देकर आगे चलती है
जब सोच को मन से चुन ले तो जीवन कि तलाश कभी नही होती है जीवन मे सोच ही हमारी जिन्दगी बनकर आगे बढती चली जाती है जिसकी जरुरत हर याद होती है
सोच ही जीवन बन जाती है जिसकी हमे हर बार तलाश होती है जो जीवन को हर पल आगे लेकर जाती रहती है दिशाए देकर जाती है
सोच जीवन को समझ देकर लेकर हर पल जाती है जिसमे जीवन कि पेहचान हर बार होती है जिसे रखने के लिए जीवन कि साँसे बनती है
सोच ही तो हमारी दुनिया बनती है किस्मत कि हर पल हर बार आवाज बनती है जो जीवन को आगे लेकर जीवन को मकसद देकर चलती है
मन को सोच कि पेहचान मिलती है जिसके अंदर जीवन कि कहानी साँसे देकर हर पल आगे बढती चली जाती है नई सुबह हर बार देती है
सोच को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत जीवन मे हर मोड पर हर मौके पर हर बार मिलती है आगे बढती जाती है

कविता ७५०. बात कि समझ

                                             बात कि समझ
बात को समझकर दुनिया बदल जाती है पर बातों को पेहचान लेने कि चाहत लोगों मे कम ही नजर आती है जीवन को बदलती है
बात कि कहानी जो जीवन को बदलकर रख देता है उसे परख लेना जीवन को समझ दे जाता है जिसे समझकर जीवन को मकसद मिलता रहता है
बात मे ही तो जीवन को समझकर आगे जाने कि जरुरत हर बार होती है बात से ही दुनिया आगे बढती रहती है आगे चलती है
बात ही तो जीवन को साँसे देकर चलती है जिन्हे समझकर आगे बढने कि किस्मत बनती है जिस पल को समझ लेने कि जीवन को जरुरत होती है
बात हर पल रंग देकर जीवन को हर बार बदलती जाती है दिशाए देकर आगे बढती चली जाती है जीवन के रंगों को समझकर आगे चलती रहती है
बात मे कई अल्फाज लिखे होते है जिन्हे समझकर आगे जाने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है जो जीवन का मकसद बन जाती है
बात ही तो जीवन का मतलब बन जाती है जीवन मे दिशाए देकर आगे बढती चली जाती है जीवन को साँसे देकर आगे चलती जाती है
बात मे ही तो जीवन कि धारा काम करती रहती है जो दुनिया को बताती है दुनिया कि कहानी हर बार अलग अलग एहसास देकर जाती है
बात को समझ लेने कि जीवन को जरुरत हर मोड पर होती है बात मे ही जीवन कि सच्चाई और साँसे हर हाल मे देकर आगे बढती जाती है
बात ही तो जीवन कि जरुरत हर मौके पर होती है जो हमे समझकर आगे हर बार जाती है जीवन को वही तो साँस देकर आगे बढती जाती है
जीवन कि हर बात जीवन कि नई सोच होती है जिसे समझकर दुनिया को एक एहसास अलग देकर आगे चलना चाहती है
पर जब तक वह बात जीत नही सकती तब तक जीवन मे वह अलग एहसास देकर आगे चलती जाती है जीवन मे मुश्किल का एहसास भी लाती है
पर इस खास बात के लिए उन एहसास को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो दुनिया भर कि खुशियाँ देकर आगे चलती है

Friday, 17 June 2016

कविता ७४९. सच्ची चमक

                                             सच्ची चमक
हिरे कि चमक को समझकर आगे बढते रहने कि हर पल आदत तो होती है पर सवाल तो यह होता है किस हिरे कि चमक हमारी किस्मत होती है
जीवन को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत होती है हिरा सिर्फ एक पत्थर को ना समझे तो इन्सान कि समझ मेहसूस होती है
जीवन कि हर धारा अपने रंग बदलती है जिसे समझ लेते है तो जीवन कि साँसे भी एक रुदुमसी होती है जो जीवन को मकसद देती है
हर गीत को अगर समझ लेते है तो जीवन कि धारा बहती है जिसे बहते रहने से ही तो दुनिया कि किस्मत होती है नई सुबह देती है
सुंदरता एक एहसास है जिसमे दुनिया नई सुबह देती है जिसमे हमे जीवन कि कहानी हर पल रोशनी देती जाती है मकसद कि कहानी बनती है
हर चमक को समझ लेते है पर हमे जीवन कि निशानी कुछ अलग ही हर बार नजर आती रहती है हमारी सोच बदलकर जाती है
अगर चमक को समझ ले तो वह बाकी चीजों मे ही तो हर बार मिलती रहती है जिसे समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत हर सुबह दे जाती है
जो साँसे जिनमे हमारी दुनिया हर बार खुशियाँ देती है उसकी चमक हर कदम पर हमे अलग एहसास देकर आगे बढती जाती है दिशाए बदलती है
हम हर पल बदलते रहते है जीवन को अपनी आवाज हर बार बदलती रहने कि जरुरत होती ही है जो जीवन कि दिशाए बदलती है
चमक जो दुनिया को परखकर आगे चलते रहने कि समझ देती है सही तो उस हिरे कि चमक है जो सच्चाई का उजाला जीवन मे भर देती है

कविता ७४८. हँसी के अंदर का जीवन

                                          हँसी के अंदर का जीवन
हँसी के अंदर जीवन कि साँसे छुपी रहती है हँसी को परखकर जीवन कि कहानी हर बार कहनी जरुरी होती है जो जीवन को मतलब देती है
हँसी के भीतर कि ताकद जीवन मे हर बार समझ आती है जिसे समझकर आगे बढने से ही हर पल दुनिया तरह तरह के जीवन को रंग दे जाती है
हँसी को समझकर चलने कि जरुरत से ज्यादा हँसी मे जीने कि जरुरत हर पल नजर आती है जो जीवन को एक अलग किसम कि ताकद हर मोड पर दे जाती है
हँसी ही तो जीवन कि समझ बन जाती है जब हँसी कि तलाश हो तो हँसी हर पल हमे मिल जाती है जीवन मे मतलब दे आगे बढती जाती है
हँसी को मतलब देने से ज्यादा उसे जीने कि जरुरत हर बार रहती है जो हमारी किस्मत को बनाती है हमे खुशियाँ देती है आगे ले जाने कि ताकद रखती है
पर हँसी को परखकर जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो जीवन को अलग एहसास और सोच कि ताकद और तलाश देती है
हँसी को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत हर बार होती है हँसी ही तो हमारे जीवन कि सच्ची ताकद होती है जो जीवन को साँसे देकर आगे बढती जाती है
हँसी ही तो जीवन कि नई सोच होती है जो आगे लेकर हर पल आगे बढती जाती है जो जीवन कि उम्मीद होती है आगे लेकर चलती है
हँसी ही तो जीवन कि सच्ची ताकद होती है जो जीवन को आगे लेकर हर बार आगे चलने कि जरुरत होती है जो आगे बढना सिखाती रहती है
हँसी ही दुनिया कि सबसे बडी ताकद होती है क्योंकि वही तो उम्मीद देनेवाली जीवन कि सच्ची पेहचान हर पल हर बार होती है

Thursday, 16 June 2016

कविता ७४७. जीवन कि सही आदत

                                             जीवन कि सही आदत
हर बार जीवन कि आदत हर पल हमे आगे ले जाती है उसे परख लेने कि दुनिया को हर मोड पर अहमियत नजर आती है
पर अफसोस तो उस हर पल का है जिसमे दुनिया बदल जाती है खुशियों कि जगह हमे हर पल आँसूओं कि लकिर दे जाती है
पर अगर हम उस पल ही रुक जाये तो दुनिया बदलाव दे जाती है जीवन कि हर एक सोच कि कहानी हर पल मे बदलती रहती है
जब हम जीवन कि आदत को दोहराने लगते है तो सही बात दोहराने कि अहमियत हर पल नजर आती है जीवन कि दिशाए बदलती जाती है
जीवन कि आदत को समझ लेने कि जरुरत हर बार मन को नजर आती है जीवन कि आदत हर पल जीवन मे बदलती रहती है
पर सही चीजों कि अहमियत कहाँ कभी कम हो पाती है वह बाते हर पल जीवन को बदलकर आगे लेकर जाती है जीवन का मतलब बदलकर जाती है
जीवन कि आदत को समझ लेने कि आदत हर बार उम्मीदों कि नई सुबह दे जाती है जीवन कि रोशनी हर बार हर इशारे पर बदल जाती है
किसी पल को समझ लेने कि जरुरत दुनिया मे अक्सर होती है आदत सही हो तो वह दुनिया मे सुबह लेकर आती है वह जीवन कि ताकद बन जाती है
आदत तो वह एहसास है जिस से दुनिया बन जाती है कोई सही बात दोहराये तो उसकी जरुरत जीवन मे अक्सर नजर आती है
आदत ही तो दुनिया होती है जिसमे सही सोच हो तो जीवन मे खुशियाँ आ जाती है आदत को सही रखे तो उस से ही दुनिया बनती है

कविता ७४६. किनारे कि तलाश

                                             किनारे कि तलाश
किनारा तो समझकर जीवन के अंदर हमे उजाला देता है पर कोई किनारा जीवन का एहसास बदलकर चलता रहता है
किनारे पर जीवन कि निशानी समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत होती है क्योंकि जीवन मे कई मौकों पर जीवन कि कहानी बनती है
किनारा ही परख लेना जीवन कि कहानी होती है किनारों से ही तो दुनिया कि हर मोड और हर पल कि कहानी जिन्दा रहती है
पर कई बार किनारों मे बस पत्थरों कि निशानी नजर आती है वही जीवन को चोट दे जाती है वहाँ कहाँ दुनिया जिन्दा रह पाती है
किनारों को समझकर ही तो दुनिया मिलती है किसी किनारे पर खुशियाँ तो किसी किनारे पर गमों कि बरसात नजर आती है
किनारा ही तो जीवन कि पेहचान होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर पल होती है क्योंकि कुछ किनारों से बेहतर तूफान होते है
जगह कि पेहचान उसके एहसास से ही बनती है सिर्फ किनारा होना यह बात जीवन मे काफी नही होती है वह आगे बढकर ले जाती है
किनारों को बस जीवन मे अपनाने कि जरुरत नही होती है उन्हे समझकर आगे बढने कि जरुरत अहमियत हर पल होती है
किसी किनारे पर सिर्फ रुकने कि जरुरत नही होती है हमे सही किनारे कि जरुरत होती है गलत किनारे से बेहतर तो जीवन मे लहरे होती है
क्योंकि लहरों मे एक तलाश होती है वह लहरे ही है जिसके बजह से दुनिया को सही दिशाए मिलती है और किनारों कि तलाश खत्म होती है

Wednesday, 15 June 2016

कविता ७४५. दिल को समझ लेना

                                             दिल को समझ लेना
किसी पल को तो दिल सच बोल दो मन का हम कहते रहते है दिल को पर दिल कहता है जाने क्या अंजाम हो अपना
सच कहने से वह डरता है जीवन के अंजाम से हर बार कुछ कतराता रहता है जीवन को अलग मोड से समझ लेते है
दिल मे छुपी बातों को कई किस्सों मे समझकर आगे बढते रहते है उन्हे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर बार होती है
दिल कि ताकद को समझकर आगे बढते रहने कि अहमियत जीवन को हर पल को होती है जो हमे आगे लेकर चलती रहती है
दिल के अंदर जीवन के कई कोनों मे अलग सोच दिखती है जो जीवन कि राहों को बदलकर आगे बढना सीखाती रहती है
हमे हर पल जीवन के बदलाव को समझ लेने कि जरुरत होती है दिल के अंदर कई खयालों मे दुनिया हमारा रंग बदलती है
दिल को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है उस जरुरत मे ही तो दुनिया जिन्दा हर पल मे होती है जो दिल को बदलाव देती है
दिल को परख लेने कि जरुरत हर मोड पर काश ना होती काश साँसे अपनी सच्चाई खुदसे ही जीवन मे हर बार कह देती पर जीवन कि बाते इतनी आसान नही होती है
दिल को समझकर आगे बढते रहने कि आदत हमे हर मोड पर होती है जो जीवन कि कहानी बदलकर हर पल चलती है
पर दिल को डर के अपनी बात छुपा देने कि आदत बुरी होती है जो हमारी किस्मत बदलकर आगे बढती जाती है 

कविता ७४४. कोमलता और काटे

                                             कोमलता और काटे
फूलों के कोमलता पर जीवन को एहसास अलग से मिलता रहता है तो फिर क्यूँ फूल के जगह काटों पर जीवन अटकता रहता है
जब हम अच्छेसे जीवन के पल को समझ लेते है तो जीवन का एहसास जुदासा होता है जिसकी खुशियों पर जीवन झूमता रहता है
उन फूलों को परख लेना एक अहम एहसास कि तरह लगता है कभी सही सोच से ही जीवन कि कहानी हर पल बनती जाती है
फूलों कि कोमलता तो काटों से ज्यादा प्यारी होती है उसके एहसास को परख लेने से ज्यादा जाने क्यूँ दूसरी चीजों मे अहमियत लगती है
काटों से कोमलता को याद रखने कि जीवन मे जरुरत होती है पर कोमलता मन से अक्सर भुला दियी जाती है अनजाने मे मन मे काटों कि मेहफिल ही रहती है
जीवन मे हम समझ लेते है दुनिया तो रंग बदलती रहती है जिसे परखकर आगे चलने कि जीवन को जरुरत लगती है
फूल तो अक्सर कोमल रहते है जीवन मे तरह तरह के रंगों से जीने कि उम्मीद मिलती है जो जीवन कि धारा को हर पल आगे लेकर चलती है
जीवन को समझ लेना कई किस्सों कि कहानी दिखती है जीवन को समझकर आगे जाने मे ही उम्मीदों कि जरुरत पडती है
जीवन मे कई किस्सों कि दिलचस्प कहानी बनती है मन अगर फूलों को हर पल चाहे तो जीवन कि कहानी हर पल बनती है
कोमलता मन को इतना चाहती है कि उस कोमलता से ही तो मन कि कहानी बनती है जीवन कि सबसे प्यारी निशानी बनती है

Tuesday, 14 June 2016

कविता ७४३. सही मोड पे रुकना

                                               सही मोड पे रुकना
दिल चोट तो खाता है जब कोई रंग बदलता है पर लगता है यह तो कुदरत का कानून है हर पत्ता रंग बदलता है पर क्या वही इन्सान पत्ते कि तरह राह से भी दूर होता है
यह नही होता है क्योंकि इन्सान अपने मर्जी से जो चाहे बनता है अफ़सोस तो मन को होता है जब जीवन रंग बदलता है जो जीवन कि दिशाए बदलता है
दिल के अंदर इन्सान अपना एहसास हर पल बदलता रहता है एक तरह से जीवन का किस्सा हर बार बदलता रहता है जो जीवन का रंग बदलता है
इन्सान तो हर बार हर सोच को समझता रहता है जो जीवन को बदलाव देता रहता है जो दिशाए बदलता रहता है दिल कि ताकद को समझ लेता है
दिल के अंदर कई एहसासों को इन्सान समझता रहता है जीवन कि हर सोच से लढकर वह आगे उम्मीदों के संग हर पल बढता रहता है जीवन को ताकद देता है
तरह तरह के खयालों को हमे जीवन में समझ लेना होता है जीवन कि हर बारी इन्सान अपने हिसाब से अपना रंग बदलता रहता है जीवन को समझता रहता है
पर जीवन मे हर पल उन्हे दोहराने से उसे समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत जीवन मे हर बार मन मे होती ही है जो दिशाए बदल देती है
बातों को समझ लेने कि आदत हर पल हमे अक्सर होती है पर कभी गलत बाते भुला देना ही तो मन कि सच्ची ताकद होती है
इन्सान को पहले दूसरे को इन्सान समझ लेने कि जरुरत होती है वह हमारी हर मोड पर अलग आदत हर पल रहती ही है
चोट तो मन को दुनिया हर पल बदल देती रहती है पर हमे बदलाव कि नही जीवन मे सही मोड पर रुकने कि जरुरत होती ही है

कविता ७४२. किसी आवाज का मतलब

                                           किसी आवाज का मतलब
कोई आवाज अगर अलग हो तो उसका असर तो होता है कोई सच्चाई सुनकर हसता है तो कोई नाराज भी होता है पर आवाज को तो समझ लेने कि जरुरत होती है
हर आवाज मे एहसास को समझकर जीवन कि कहानी बनती है जिसे परखकर जीने कि जरुरत हर पल अहम रहती ही है जो आगे बढती ही है
हमे हर पल जीवन कि आवाज तो सुनने कि आदत होती है जो दुनिया को अलग किसम कि साँसे देकर हर पल आगे चलती रहती है जो जीवन को ताकद देती है
हर आवाज को पेहचानकर जीवन मे जीने कि आदत हमे अक्सर होती ही है जिसमे दुनिया जिन्दा रहती है नई खुशियाँ देती है नई रोशनी लाती है
आवाज को समझकर दुनिया जीवन कि आदत बदल देती है जीवन कि कहानी हर बार रंग बदलती रहती है रोशनी देकर चलती है
जब जीवन कि आवाज को समझ लेते है तो दुनिया हर मोड पर रंग बदलती है दिशाए बदलकर एहसास बदलकर आगे बढती चली जाती है
आवाज के अंदर ताकद को समझकर आगे चलने कि जरुरत होती है जो जीवन कि कहानी समझकर आगे चलती रहती है ताकद देती है
आवाज का एहसास बदलकर जीवन कि कहानी हर पल आगे चलती रहती है जीवन के अंदर आवाज कि आदत हर पल दुनिया बदलती है
क्योंकि आवाज को पेहचान लेने कि हर मोड पर हमेशा जरुरत तो होती ही है जिसे दुनिया को समझ लेने कि आदत अक्सर रहती है
आवाज को परखकर आगे बढने कि आदत तो हर पल जीवन को होती है जो अक्सर हमे रोशनी देकर आगे लेकर चलती रहती है

Monday, 13 June 2016

कविता ७४१. बात को समझाना

                                            बात को समझाना
कितनी आसानसी बात थी काश लोग उसे आसानी से समझ लेते और जीवन को आसान कर देते पर ऐसा होता नही है
कई बार दुनिया को बात समझाने कि जीवन को जरुरत मेहसूस होती है वही सोच अहम होती रहती है जो दिशाए बदलकर चलती है
बात हर बार बदलती जाती है क्योंकि खुदसे ज्यादा हम बाकी लोगों को समझाना चाहते है जिसे परखकर हम आगे बढना चाहते है
पर यह तो मुश्किल लगता है उसी कोशिश मे हमारी जिन्दगी हर बार बदलती जाती है जो जीवन को अलग तरह का एहसास दे जाती है
आसान बात ना समझ लेना चाहे तो मुश्किल बात बन पाती है क्योंकि बात को समज लेना ही तो जीवन कि अहमियत होती है
जीवन को समझ लेना ही तो जीवन के हर पल कि जरुरत होती है जीवन को पुरी दुनिया को समझाने मे अक्सर दिक्कत होती है
आसान चीजे जीवन मे समझ लेने कि जीवन मे जरुरत होती है पर लोगों को उसमे भी अक्सर मुश्किल दिखती रहती है
जीवन को समझ लेने कि जीवन को हमेशा जरुरत होती है जो जीवन कि सच्ची ताकद होती है जो जीवन कि सच्ची उम्मीद बनती है
जीवन मे आसान बात भी कभी कभी मुश्किल बनती है जो जीवन को साँसे देकर आगे लेकर हर पल को मतलब दे जाती है
आसान चीज को समझाये बगैर ही चलना अकलमंदी होती है पर आखिर मे कभी ना कभी उसे समझाना ही पढता है क्योंकि जीवन होता है सबको एक साथ जीने के लिए  े

कविता ७४०. बातों पर आगे बढना

                                               बातों पर आगे बढना
किसी बात को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत है जीवन मे बातों को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत होती है
जीवन मे बाते आसानी से समझमे नही आती है उन्हे कभी कभी परखकर आगे बढने कि जरुरत होती है जो उम्मीदे देकर चलती रहती है
बात को समझकर जीवन मे आगे बढते रहने कि जरुरत रहती है जो जीवन को हर मोड पर अलग समझ हर मोड पर अक्सर देकर आगे चलती है
किसी बात को परखकर आगे बढने कि जरुरत जीवन मे अक्सर होती है जीवन कि धारा मे कई किसम कि बाते आती जाती रहती है
अगर किसी बात को समझ लेते है तो उसमे एहसास को परख लेने कि जरुरत होती है जीवन कि कश्ती अक्सर कई बाते कहते हुए आगे गुजरती रहती है
जीवन कि कोई सोच हमे समझ तो लेती रहती है पर कभी कभी उस सोच को परखकर दुनिया जीवन को बदल के हर पल आगे चलती है
बाते तो कई जीवन मे होती रहती है जिन्हे समझकर ही तो जीवन कि चाहत खुदको बेहलाने कि बजह हर बार ढूँढती हर पल रहती है
बात जो जीवन मे अहमियत होती है उसे जीवन मे हर पल समझकर चलती है वही सोच जीवन पर असर करती रहती है
जीवन को हर बार परखकर हम चलते रहते है जीवन मे बात को परखकर चलने कि जरुरत पर ही तो दुनिया हर पल चलती रहने कि जरुरत होती है
बात को समझकर जीवन कि दिशाए हर पल समझकर हम चलते रहते है जिनमे हर जीवन को हर पल समझ लेते है जिसे परख कर हम चलते है
बात को मुश्किल से समझकर हम चलते है क्योंकि बातों मे ही तो हर पल हम जीवन को समझ लेते है पर जीत तो बस उनकी होती है जो मुश्किल बातों पर भी आगे बढते रहते है

Sunday, 12 June 2016

कविता ७३९. किसी खत मे लिखी बात

                                         किसी खत मे लिखी बात
किसी खत मे लिखी बातों को कोई पढकर घंटों तक सुनता है तो कोई किसी खत को अनपढे ही किसी कोने मे रखता है
जब होता है यह हम से तो मन कोई बात को गुनाह कहता है पर खुदसे तोडे हुए वादों को इन्सान अक्सर बिना मतलब कि बाते कहता है
पर सबसे बुरी तो वह बात है जब कोई खत मतलब से पढता है फूलों कि जगह काटों से लोगों का दामन भरता है जीवन को धीरे से परखता है
खत को तो इन्सान अक्सर जीवन मे समझ लेता है खत के अंदर जीवन कि कहानी निशानी के अंदर समझ लेता रहता है
खत मे लिखे एहसास को वह फुरसत मे समझ लेता है पर उनका इस्तेमाल वह एक मकसद से करता है वह जीवन को शतरंज समझकर जीता रहता है
हमने तो अक्सर खतों मे जस्बातों को पढा है पर ऐसे इन्सानों के बारे मे कई किताबों मे पढा है उनके बारे मे कई लोगों ने लिखा है
जीवन मे ऐसा इन्सान हमे ना कभी मिला है क्योंकि मतलबी इन्सानों के खतों को हमने अनपढे ही अक्सर रखा है
कोई कह भी दे जवाब जरुरी है पर उन खतों को दूर ही रखना हमने सही समझ लिया है जीवन को हर बार अलग तरह से सुन लिया है
कई तरह के खतों मे हमने जीवन को सुना और समझ लिया है जिन्हे रखते है हम जीवन मे उन खतों को अलग जस्बात से समझ लिया है
लिखना तो जरुरी है पर उन खतों को समझकर उन्हे जवाब देने कि अहमियत को हमने मेहसूस न किया है खत कि ताकद को हर पल समझकर लिया है
और गलत बात को रोकने के लिए उस खत का जवाब ही रोक लिया है अपने गुस्से को मन के अंदर ही किसी कोने मे रोक लिया है

कविता ७३८. किसी बात को कहना

                                                              किसी बात को कहना
किसी बात को कहने से जीवन मे डर लगता है पर हर बात मे जीवन को कोई अलग असर मिलता है बात को परख लेने कि जरुरत होती है
जीवन मे बात को परख लेने कि जरुरत हर मोड पर अक्सर होती है जो जीवन को अलग किसम कि सोच देती है जो आजादी का मतलब बताती है
पर अक्सर दुनिया मे वही बात लोगों को खटकती है जो सच्चाई कि नीव होती है जीवन मे अलग एहसास को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है
जीवन को समझकर जीवन कहानी हर बार हमे अलग एहसास देती है जो जीवन को ताकद हर मोड पर दिखती है जरुरत जिसकी हर बार होती है
जीवन मे बात को समझकर जिन्दगी गुजार लेने कि जरुरत नही  होती है जिसे कहने कि जरुरत होती है जीवन मे समझ लेने लायक कई बाते होती है
उन्हे अनकही रख दे तो जीवन मे अलग सोच दिखती रहती है जो जीवन को अलग एहसास देकर आगे बढ़ती रहती है जो जीवन को साँसे देकर चलती है
कोई बात जो जीवन मे छुपी हो उसे समझ लेने कि जरुरत अक्सर होती है क्योंकि वही बात ही तो हमारी दुनिया बदलती है जीवन को अलग रंग देकर चलती है
जीवन मे साँसों को पेहचान लेने कि जरुरत होती है जो जीवन कि कोई अलग पेहचान बन के आगे चलती है साँसों में ही तो दुनिया कि समझ होती है
बात को समझकर आगे चलने कि जीवन मे अहमियत होती है जो जीवन को अलग समझ देती है जो जीवन को हर बार समझ देकर आगे बढती रहती है
बात को परखकर आगे जाने कि जीवन मे हर मोड पर जरुरत होती है जो जीवन को अलग तरह कि समझ देकर आगे चलती रहती है जो जीवन को समझ अक्सर दिखती है 

Saturday, 11 June 2016

कविता ७३७. खयाल को समझना

                                                              खयाल को समझना
किसी के खयाल से अगर मन मुस्कुराये तो उसे रोकने कि जीवन मे हम जरुरत क्यूँ पाये कभी किसी खयाल को कुछ इस तरह से उडने दो कि जीवन मे उसे हम समझ न पाये
किसी सोच को इस तरह से परख लेने कि जीवन मे जरुरत है पर कभी कभी कोई सोच जीवन मे आजादी कि लहेर बन के बहती है जिसे समझे बिना वह दुनिया मे चलती है
सोच को एहसास मे बदल देने कि जरुरत जीवन को अक्सर होती है जिसमे हमारी दुनिया हर पल हर घडी अक्सर जिन्दा रहती है मन को चोट देती है
जिस खयाल मे आजादी कि आवाज सुनाई पडती है उस पर उडने कि जरुरत हम बिना सोचे ही मेहसूस करते है जिसे हम धीरे धीरे समझते है
हर खयाल को लब्जों कि अलग जुबान मिलती है जीवन मे हर पल आगे बढते रहने कि जीवन मे अलग ही जबान नजर आती है
हम हर पल जो समझ ना पाये वह अलग जवाब होती है पर कोई याद ऐसी होती है जो हर खयाल को तोडकर हमारी दुनिया बदल देती है
हर बारी जीवन मे किसी खयाल को समझ लेने कि हर पल एक अलग जरुरत होती है जो जीवन कि कहानी अलग ढंग से अक्सर कहती रहती है
किसी सोच को समझकर जीवन को किरण तो तभी मिलती रहती है जब जीवन कि कहानी हर पल नई उम्मीदे देकर चलती रहती है
किसी खयाल से जीवन कि सोच हर बार आगे बढती है हमे जीवन को नई शुरुआत दे ऐसा एहसास जीवन मे करके जाती है
उस खयाल को परखकर आगे बढने कि जरुरत हर बार होती है उस खयाल को समझ में ही तो हमारी दुनिया हर पल जिन्दा रहती है 

कविता ७३६. बजह कि अहमियत

                                              बजह कि अहमियत
कभी बजह अलग होती है और अहम हर बार होती है बजह हर पल अलग किसम का मतलब जीवन को हर बार देकर जाती है
क्योंकि बजह ही तो जीवन को अलग पेहचान होती है जो जीवन को समझकर आगे चलती है बजह ही तो जीवन कि जरुरत होती है
बजह ही तो जीवन कि साँस होती है जो जीवन कि कहानी बदलकर हर बार चलती रहती है जीवन को साँसे देकर आगे बढती है
बजह ही तो जीवन को कई बहाने देकर चलती है जिसे समझ लेना ही जीवन कि सच्ची ताकद होती है जो हमे बदलकर जाती है
क्योंकि बिना बजह कोई कहानी नही बनती है बस कभी कभी बजह कोई और होता है और सजा किसी और को मिल जाती है
पर बात तो यह सच्ची है कि बिना बजह जीवन कि कोई कहानी नही बन पाती है वह जीवन कि दिशाए बदलकर आगे नही जाती है
बजह से ऊपर कोई बात होती ही क्योंकि बजहों मे ही तो जीवन के कई एहसास छुपे रहते है जो हमे आगे लेकर चलते है
हर खयाल को परख लेने से ज्यादा बजह को समझ लेने कि जरुरत होती है पर हर बजह को परख लेने कि जरुरत हर पल होती ही है
जीवन को समझ लेने के लिये इस बात को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है जो बजह बनती है कई बार गलती हमारी नही होती है
जीवन मे बजह ही जीवन कि सच्ची जरुरत होती है पर उसके लिए यह जरुरी नही हम गलत है कई बार बिना गलती के ही बजह को समझ लेने कि जीवन मे जरुरत है

Friday, 10 June 2016

कविता ७३५. किरण को समझना

                                            किरण को समझना
किसी किरण को समझकर जीवन कि गाडी को आगे ले जाने कि जरुरत हर पल होती है जो जीवन कि धारा को हर बार बदलती है
पर हर बारी कहाँ हम रख पाते है उस किरण को जिसमे रोशनी का एहसास हर बार होता है जो एहसास देता है
हर पल रोशनी कि चाहत तो मन मे रहती है पर उसकी आहट से ही दुनिया बदलती है पर उस रोशनी को अलग एहसास मिलता है
किरणों को परखकर जीवन आगे बढता है उनमे ही तो वह जीवन कि पेहचान रख देता है जीवन मे ताकद का एहसास देता है
किरणों कि रोशनी हर बार जीवन मे साथ नही देती है क्योंकि कभी कभी खुदसे लढने कि जरुरत जीवन मे हर पल होती है
जीवन कि रोशनी हर पल नई उम्मीदे देकर आगे चलती रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर पल रहती है
जीवन के रोशनी से पेहचान जीवन मे कभी कभी मिलती है जिन्हे परख लेने कि जरुरत जीवन को हर बार होती है जो अलग एहसास देती है
किरणों को परखकर आगे जीवन मे आगे बढने कि जरुरत हर मोड पर हर बार होती है जो हर पल दुनिया मे रोशनी देकर आगे बढती है
जीवन को समझकर आगे चलने कि जरुरत हर बार जीवन मे रोशनी देकर चलती है उसकी जरुरत हमे हर बार होती है
रोशनी कि नई शुरुआत जीवन मे अलग तरह का एहसास देकर आगे बढती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है

कविता ७३४. इन्सान का मकान

                                             इन्सान का मकान
छोटेसे मकान मे हमारी दुनिया बसती है या महलों के किसी कमरे मे हमारी श्याम गुजरती है इस से कोई फर्क नही पडता है दुनिया एकसी होती है
छोटीसी झोपडी कि तरह ही महलों मे भी अच्छाई बुराई दोनों रहती है जीवन कि कहानी हर पल उस बदलाव से बदलती रहती है
जीवन मे मकानों कि किंमत बदलती रहती है पर उनके बजह से दुनिया रंग बदलती रहती है एहसास बदल कर चलती है
पर सच्चाई तो यह है मकान कि कोई मायने नही रखता है मायने तो हर बार उसके अंदर का इन्सान रखता है जो सच्ची पेहचान होता है
जीवन ही तो हमारी पेहचान होता है जिसे समझ लेना जीवन का एहसास होता है जो दिल को हर बार अलग कोशिश देकर आगे चलता है
मकान को समझ लेना ही जीवन कि जरुरत नही होती है मकान से भी ज्यादा जरुरी इन्सान कि पेहचान होती है
पर अक्सर इन्सान दौलत से चीजे जोड देते है कभी अमीरी से तो कभी गरीबी से नफरत कर लेता है जो जीवन पर असर कर लेता है
जीवन कि दास्तान अमीरी और गरीबी से नही बनती है पर लोगों को उसे जोड देने कि आदत हर बार हो जाती है
क्योंकि दौलत से कोई बात तय नही होती है जो हमे बदलकर आगे बढती है जो जीवन कि कहानी अलग ढंग से कहती है
पर दौलत से जीवन का सिर्फ अंदाज तय होता है पर एहसास तो जीवन को बदल देता है जो मन कि ताकद से ही अक्सर बनता रहता है 

Thursday, 9 June 2016

कविता ७३३. सीधी और टेढी बात

                                                सीधी और टेढी बात
कोई बात जो जीवन मे सीधी लगती है वह बात अक्सर सीधी नही होती है उस बात को परख लेने कि जरुरत हर मोड पे होती है
जीवन मे बातों को परख लेने कि एक कोशिश काफी नही होती है वह हर पल जीवन कि बातों को अलग अलग ढंग से परखती रहती है
सीधी बात को परखकर आगे चलने कि जरुरत हर पल जीवन मे होती रहती है जो जीवन को हर पल अलग सोच देती है
सीधी कोशिश को समझकर आगे जाने कि जरुरत जीवन को हर बार होती है जो जीवन को नई उम्मीदे और नई सोच हर पल देती है
सीधी और टेढी बाते हर बार जीवन मे होती है बातों को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत हर मोड पर दिखती रहती है
बातों को समझकर आगे चलने कि जरुरत हर पल जीवन मे होती है जिन्हे समझ लेने कि अहमियत हर पल होती रहती है
बातों को समझकर जीवन मे परख लेने कि सोच तो होती है पर कौनसी बात सीधी है कौनसी टेढी है उसे समझ लेने मे मुश्किल होती है
पल को समझकर जीवन मे आगे बढने कि सीधी और टेढी बाते समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है
क्योंकि सिर्फ सीधी या फिर टेढी बात काफी नही होती है दोनों बातों कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है जो जीवन को आगे ले जाती है
जीवन को सीधी और टेढी बात समझकर आगे बढने कि जरुरत हर मौके पर हमेशा हमे जीवन मे हर बार होती है

कविता ७३२. किसीको चोट देना

                                          किसीको चोट देना
हर गीत का कोई अलग मतलब होता है जिसे समझ लेना हर बार जरुरी होता है पर हर लब्ज को समझले इतनी फुरसत किसको होती है
हम यह तो समझ लेते है जिसमे दुनिया कि किस्मत होती है वह सोच हमारी जरुरत होती है पर अगर वक्त नही है तो जीवन मे लोग काश चोट देनेवाली बात नही करते
पर जिन्दगी कहाँ सीधी राह चल पाती है जीवन कि कहानी कोई अलग असर देकर आगे बढती चली जाती है जीवन कि ताकद बन जाती है
हर गीत कि एक अलग ताकद और पहुँच होती है जो हमारे जीवन को अलग समझ देकर आगे बढती चली जाती है हमे आगे लेकर जाती है
किसी गीत मे अलग तरह कि दुनिया जिन्दा हो जाती है जो जीवन को अलग समझकर आगे चलती जाती है जीवन का एहसास बदल जाती है
पर अगर एहसास को समझ लेने कि फुरसत ना हो तो चोट देने कि जरुरत भी नही होती है जो जीवन को बदलकर आगे बढती चली जाती है
क्योंकि अनदेखा करके इन्सान चला जाये तो जीवन मे बात समझ आती है पर कोई कोसे तो वह बात जीवन मे अनदेखी नही होती है
ध्यान ना दो तो बात समझ आ जाती है पर अगर कोई जख्म दे जाये तो वह बात जीवन मे बरदाश नही होती है जो जीवन पर हर बार असर कर जाती है
जीवन मे हर बात समझ लेने कि जरुरत नही होती है पर गलत बात ना करे यह बात ही जीवन मे काफी हो जाती है उम्मीदे दे जाती है
जिन्दगी मे खुशियाँ हर बार अलग एहसास देकर आगे बढती है पर वह हासिल ना कर पाओ तो दूसरे को उसके लिए चोट देने कि जरुरत नही होती है

Wednesday, 8 June 2016

कविता ७३१. किस्मत कि किरण

                                              किस्मत कि किरण
किसी किनारे पर हमने एक सहारा देखा है जो किस्मत का लेखा है उसे दूरसे हर पल समझ लिया और परख लिया हो उसमे नसीब छुपा होता है
हर बारी हर हल को समझकर हमने किस्मत को समझा है पर किस्मत कहाँ आसानी से समझ आती है उसमे ही जीवन लिखा होता है
किस्मत के अंदर समझकर आगे बढना जरुरी होता है किस्मत के हर मौके को समझ लेना हर बार अहम और जरुरी होता है
किस्मत को समझकर आगे बढते जाना हर बार जरुरी होता है पर किस्मत कि धारा को समझ लेना कई अहमसा लगता है
किस्मत कि राहों पर हर पल अलग एहसास तो होता है जिसे परखकर आगे बढना जीवन को अलग सुबह देकर जाता है
किस्मत कि बाते समझ लेने कि जरुरत हर पल होती है किस्मत हर बार हर पल मे अलग सोच कि ताकद देकर आगे बढती है
किस्मत को समझ लेने कि जीवन कि हर किरण को जरुरत होती है जो जीवन कि कहानी हर पल कहकर हर बार चलती है
किस्मत के अंदर जीवन कि बाते हर बार एकसी नही लगती है वह हर पल हमारी दुनिया को बदलकर आगे चलती है
किस्मत तो हर पल जीवन को बदल देती है किस्मत हर बार जीवन का एहसास बदलती रहती है वह जीवन कि राह बदलकर चलती है
जीवन के अंदर किस्मत कि किरण हर बार हमारे जीवन को मौका देकर आगे चलती है किस्मत को ताकद हमारी उम्मीद ही देती है

कविता ७३०. मन कि हर धारा मे

                                                 मन कि हर धारा मे
हर धारा को समझकर जीवन मे आगे चलने कि जरुरत होती है जीवन के हर मोड पर जीवन कि कहानी को समझकर आगे चलने कि अहमियत होती है
जिस धारा को परखकर दुनिया हर मौके मे खुशियाँ पाती है जिन्हे समझकर आगे चलने कि दुनिया मे जरुरत होती है पर अगर हम अपनी खुशियाँ अलग पाये तो दुनिया खुबसूरत होती है
जीवन कि हर धारा को दुनिया कि जरुरत नही होती है जिसे हर पल हम समझ लेते है वह बात समझ लेना बडी मुश्किल होती है
हर सोच को हम परख लेना चाहते है वह सोच हमारी जरुरत लगती है किस्मत के हर मोड पर जीवन कि दुनिया खुबसूरत होती है
जीवन कि धारा तो सोच को बदलकर आगे लेकर चलती रहती है जब अपने मन को समझ लेते है तो अपनी दुनिया तो खुबसूरत बनती है
जब जीवन को परख लेते है तो जीवन कि दिशाए बदलती रहती है वह मन को उम्मीदों कि समझ देकर हर पल आगे चलती है
मन कि ताकद को समझकर और परखकर दुनिया हर बार बदलती है जब हमारी पूरे मन से कोशिश हो तो हमारी दुनिया बदलती है
जीवन कि हर एक सोच को सही मोड पर ले जाने कि जरुरत पडती है क्योंकि सही सोच से ही तो हमारी दुनिया बनती और बिघडती है
जीवन को समझ लेने कि हर मोड पर जरुरत होती है क्योंकि जीवन कि धारा को बदल लेने कि जरुरत हर पल पर होती ही है
जीवन मे सोच को परख लेने कि मन को हर बार जरुरत होती ही है अपने मन के सोच कि ताकद पर मन कि दुनिया मिलती है मन कि खुशियाँ बनती है

Tuesday, 7 June 2016

कविता ७२९. किसी तसबीर का मतलब

                                              किसी तसबीर का मतलब
किसी तसबीर को देखकर जीवन कि ख्वाईश जिन्दा होती है तो किसी तसबीर को देखकर नजर शर्म से झुक जाती है
तसबीर को समझ लेने कि जरुरत हर पल को होती है पर हर किसीके लिए वह तसबीर वही मतलब नही दे पाती है
जीवन मे तसबीर अलग एहसास देकर जाती है जिसे हर पल समझ लेने कि जरुरत हर बार जीवन मे होती रहती है
तसबीरों मे दुनिया हर बार अलग होती है जिसे परख लेने कि जरुरत जीवन मे तो दिखती ही है जिसमे दुनिया हर पल खास दिखती है
तसबीर को समझकर हम कुछ तो परख लेते है पर कभी कभी दूसरों कि परख कुछ और ही कह जाती है हमारी सोच कुछ अलग नजर आती है
तसबीर मे समझकर दुनिया कोई अलग असर कर देती है पर जो हम पर असर कर देती है जो जीवन को समझ देती है
तसबीर मे दुनिया को समझ जो दिखती है वही जीवन पर अलग तरह का असर हर बार करके आगे बढती जाती है
तसबीर को समझकर दुनिया हर बार असर कर जाती है पर हर बार वह उसी तरह से नही होता जिस तरह से हमारी सोच चाहती है
तसबीर  कई किसम के रंग जीवन मे देकर जाती है जिसे समझकर दुनिया आगे बढती रहती है जो जीवन को आगे लेकर जाती है
पर हर बार हर सोच एक जैसी नही होती है वह तसबीर से आगे बढती जाती है जिसमे जीवन कि सोच हर पल उम्मीदे नही देती है
पर हर पल जीवन कि गाडी समझाने से सही पटरी पर नही आती है कभी कभी उसे गलत राह पर चलने कि जरुरत होती है

कविता ७२८. किरणों को समझ लेना

                                           किरणों को समझ लेना
किरणों को समझ लेने पर जीवन का एहसास बदलसा जाता है जो हमे खुशियाँ दे जाये वह एहसास हर पल अलग ही होता है
हर किरण को समझ लेने कि जरुरत हर पल होती है जो जीवन को रोशनी अलग लगती है जो जीवन कि दिशाए बदलती रहती है
एक ओर से एक दिशा मे जीवन कि कहानी हर बार बदलती रहती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर पल अहम लगती रहती है
किरणों के अंदर कि दुनिया हर बार खुशियाँ देकर चलती है सिर्फ सूरज कि नही पर कई तरह किरणे जीवन मे होती है
कई बार जीवन मे उम्मीद कि किरण भी रोशनी देती है कभी हिंमत और ताकद कि किरण ग्यान के संग मिलकर जीवन को रोशन करती है
पर हर किरण को कहाँ समझ पाये हम इतनी दुनिया आसान होती है जो जीवन को परख सके वह सोच दुनिया को हर पल हासिल कहाँ हो सकती है
किसी किरण को समझले  उसे पेहचान लेने कि जरुरत होती है क्योंकि किरण सिर्फ सूरज से नही कई ताकदों से भी मिलती है
हर ताकद को हर हिंमत को समझ लेने कि जरुरत होती है जीवन कि किरण कई मोड पर होकर जीवन कि सोच को समझ लेती है
हर किरण मे एक रोशनी हर पल जीवन को सुबह दे चलती है जो जीवन को समझाती है कि जीवन कि सुबह हर बार किसी उम्मीद को दे जाती है
किरणों को परखकर जीवन के अंदर कोई अलग सोच होती रहती है क्योंकि किरणों से ही तो दुनिया बनती है पर किरणे सिर्फ सूरज कि नही होती है  ः

Monday, 6 June 2016

कविता ७२७. लब्जों का एहसास

                                              लब्जों का एहसास
हर लब्ज को परखकर जीवन को समझकर आगे बढने कि जरुरत हर पल होती है पर कई बार लब्जों को बिना परखे ही दुनिया आगे बढती है
लब्ज को समझकर जीवन को परख लेने कि जरुरत होती है जीवन कि धारा बडी खुबसूरत होती है जो दुनिया को अलग रंग देकर चलती है
जीवन मे लब्जों को समझकर आगे बढते रहने कि जरुरत होती है जिससे दुनिया बडी खुबसूरत बन जाती है जिसे समझकर चलने कि जरुरत होती है
लब्जों को समझकर दुनिया जीवन को समझ देती है जिसे परख लेने कि हर जरुरत होती है जो जीवन को खुबसूरत करती है उम्मीदे दे जाती है
लब्जों मे ही तो दुनिया कि एक अलगसी चाहत होती है जो दुनिया को खुबसूरत बनाकर हर मोड पर चलती है जिसमे अलग कि समझ होती है
लब्ज को समझ लेने कि दुनिया को सच्ची जरुरत होती है जो जीवन को हर मोड पर खुबसूरत बना देती है वही जीवन कि ताकद होती है
लब्ज को समझकर जीवन कि अलग सोच जो आगे चलती है उसे समझ लेने कि दुनिया मे कभी जरुरत होती है पर कभी कभी कोई सोच भुलाना बात बेहतर होती है
लब्ज को समझकर दुनिया के चाहत को परख लेने कि जरुरत होती है तो कभी जीवन को नई उम्मीदे देकर आगे चलती रहती है
लब्ज को समझकर आगे जाने कि जरुरत होती है पर कभी कभी लब्जों को समझे बिना ही दुनिया खुबसूरत होती है उसे परख लेने कि जरुरत होती है
तो जीवन कि कहानी अलग अलग होती है कभी लब्जों कि बात है तो कभी बिना लब्जों कि कहानी ही जीवन मे आगे बढती रहती है

कविता ७२६. रुकने का एहसास

                                        रुकने का एहसास
हर पल जीवन मे एक अलग प्यास आती है पर कुछ बातों मे एक बात के बाद बात नही बदलती है बात हर पल बस वही रहती है
हर बार बदलाव कि जरुरत नही होती है किसी मोड पर बस उस पल रुक जाने कि जरुरत मेहसूस होती है जो आगे लेकर चलती है
क्योंकि हर पल आगे बढने कि जरुरत नही होती है कभी कभी किसी किनारे पर रुकना ही सही चाहत होती है जो दुनिया कि जरुरत होती है
क्योंकि आगे बढते रहना जीवन कि सही राह हर मौके पर नही होती है किसी मौके पर रुक जाना ही सही बात होती है सही दिशा होती है
जीवन को परखकर आगे ले जाती है वह राह भी कभी कभी रुकने कि सलाह देकर आगे बढती जाती है क्योंकि रुकना ही सही बात नजर आती है
रुकने कि ही तो एक जरुरत हर पल होती है क्योंकि हर बार बदलते रहने कि बात सही नही होती है कई मोड पर वह गलत हो जाती है
जीवन को बदलाव कि जरुरत हर पल नही होती है कभी रुकना भी बात अहम होती है जो जीवन को साँसे दे जाती है
किसी मोड पर जाने के बाद आगे बढते रहने कि जरुरत नही होती है जो हमारे लिए एक अलग बात बन जाती है उस एतबार से बदल जाने कि जरुरत होती है
किसी पल मे रुक जाना ही सही बात होती है जीवन को एक अलग एहसास देती है जो जीवन कि ताकद बनती है जो रुकने पर ही तो सच्चा एहसास देती है
कुछ मोड पर रुकना ही जीवन कि जरुरत होती है जो जीवन को हर पल उम्मीद देकर आगे चलती है वही जीवन कि जरुरत होती है

Sunday, 5 June 2016

कविता ७२५. कही हुई बात

                                          कही हुई बात
कभी हम बारीश कि बूँदों को कहते रहते है कभी आसमान के बादल को भी मन कि बात कह देते है बूँदों को मकसद हर सोच दे जाती है
पर मन कि हर बात बूँदों तक ही कहाँ रुक जाती है धीमे धीमे बात वही जो जीवन को बदलकर जाती है उसे कह देने कि जरुरत मन को नजर आती है
कोई बात जो हमारी किस्मत हमे कह जाती है वह कहाँ हमारे अपनों से छुप पाती है वह छुपके से मुँह से कुछ ऐसे निकल जाती है कि उसमे हमारी दुनिया बदल जाती है
कोई बात जो हमारे दिल को छू जाती है वह हमारी दुनिया मे हर मोड पर कुछ सोच अलग होती है पर वह मन मे कहाँ रुक पाती है आगे बढती चली जाती है
जीवन के हर पल मे दुनिया बदल जाती है हर सोच को हर कोने मे दुआए अलग मिल जाती है जिसमे दुनिया एहसास अलग देती है जो जीवन को बदल जाती है
पर जीवन को परख लेने के पहले ही बात अपनों से परख लियी जाती है जो जीवन को नई उम्मीदे और एहसास देकर आगे बढती जाती है
जीवन को समझकर हमारी कहानी अलग नजर आती है हर कोने मे मन से छुपाना चाहते है पर वह बात मुँह से निकल जाती है कई उम्मीद मतलब दे जाती है
जीवन कि बाते जब मन मे आ जाती है तब वह सोच बदलकर आगे बढती जाती है जो जीवन को समझ अलग दे जाती है
जो चुपके छुपी बात भी होती है वह भी तो हर पल छुपाई नही जाती है वह भी तो चुपके से मुँह से निकल आती है जीवन कि दिशाए बदल जाती है
सोच जो जीवन कि सौगाद होती है वही तो जीवन मे बहार लेकर आती है पर कभी कभी कोई बात अहम हो जाती है जो जीवन कि सौगाद बन जाती है 

कविता ७२४. कागज मे लिखी कहानी है

                                      कागज मे लिखी कहानी है
किसी कागज पर लिखी कहानी जीवन कि दास्तान बता देती है जो जीवन को अलग तरीके से बता देती है जीवन कि दास्तान बताकर जाती है
वह बताती है कि जीवन कि कहानी हर बार दोहराने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है जो जीवन कि दास्तान समझा लेती है
शायद कोई अलग असर कर जाती है जो हमे साँसे देकर जाती है कोई अपनी दास्तान बताकर जीवन कि सच्चाई कह जाता है
जीवन कि दास्तान हर बार कागज पर लिखने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है क्योंकि वह तो हमारी आदत होती है मन को वह सोच तसल्ली देकर चलती है
कागज पर कई बार वह लिखी जाती है वह किसी मोड कि कहानी होती है जो जीवन को अलग समझ देकर हर पल आगे बढती है
जीवन मे हर पल कोई अलग कहानी जिन्दा होती है जो हमारी दास्तान अलग सोच मे लिखती रहती है जो उम्मीद दे जाती है
कागज मे ही तो वह दास्तान छुपी होती है जिसमे एक कहानी लिखी होती है जो जीवन को अलग एहसास हर पल देकर जाती है
जीवन कि दास्तान हर बार जरुरी होती है जिसे परखकर आगे जाने के पहले ही किसी और ने कही होती है वह कहानी कुछ अलगसी होती है यह कहने कि चाहत होती है
पर कैसे कह दे जब वह कहानी एकसी होती है तो जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है कि सच यही है हमारी कहानी अनजानी नही होती है
कागज लिखी कहानी बताकर जाती है कि गलती दोहराने कि आदत इन्सान को हर बार होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत होती है
पर हर बार गिरकर संभलने कि जरुरत हर बार होती है इसलिए ही तो जिन्दगी हर पल दोहराने कि जरुरत हर पल नजर आती है

Saturday, 4 June 2016

कविता ७२३. मोड को समझ लेना

                                            मोड को समझ लेना                                  
किसी मोड पर पहुँचने पर धूप नही जला पाती है उस मोड कि ताकद तो दुनिया बदलकर दिखाती है क्योंकि उस मोड मे ही तो दुनिया कि खुशियाँ नजर आती है
उस मोड पर जहाँ पर दुनिया बदल जाती है उसमे तो कोई ऐसा एहसास है कि हमारी दुनिया बदल जाती है खुशियाँ जीवन मे हासिल हो जाती है
उस मोड को परख लेना तो जरुरी है जिसमे दुनिया अलग असर दिखाती है जीवन के किसी मोड कि ताकद तो अलग रोशनी कि किरण बनकर नजर आती है
जीवन के कई मोड है जिनमे दुनिया मतलब दे जाती है मकसद कि कोई सोच हमे उम्मीदे देकर हर पल आगे बढती चली जाती है
हर मोड मे जीवन के हर पल दुनिया बदल जाती है वह जीवन को उम्मीद अलग चाहती है पर वह कई मुसीबतों से लढ ले ऐसी उम्मीद जीवन मे पाती है
मोड को परखकर जीवन कि किरण नई रोशनी दे जाती है वह जीवन कि कोई बडी ताकद बनकर जीवन मे आगे चलती जाती है
मोड को परख लेना ही तो दुनिया कि सही समझ नजर आती है जो जीवन मे हमे आगे लेकर बढती चली जाती है उम्मीदे देकर आगे जाती है
किसी मोड को समझ लेने मे ही साँसों कि ताकद दिख पाती है जो जीवन को आगे बढने कि उम्मीदे हर मोड पर जीवन को देती चली जाती है
मोड को समझकर जीवन मे कोई उम्मीद आने से पेहले बस उस मोड को देखकर ही वह उम्मीद जीवन मे आ जाती है रोशनी दे जाती है
मोड को परखकर जीवन कि साँसे हमेशा बन पाती है जीवन को परखकर ही तो हमे उम्मीदे देकर आगे बढती चली जाती है
क्योंकि उस मोड मे ही ऐसी दुआ होती है जो हमे उम्मीदे हर पल देकर आगे जाती है उनको पाने के बाद जीत कि जरुरत भी नही होती है 

कविता ७२२. कोई अंदाज जीवन का

                                                कोई अंदाज जीवन का
जीवन के राह पर तो सभी चलते है पर हम कितने खुश होते है जब वह साद सुनते है वह आवाज सुनते है उम्मीदे पाते है
किसी अंदाज मे कुछ ऐसा एहसास अलग होता है जो जीवन कि बात को बदल देता है जीवन कि बात बदलकर आगे जाता है
हर अंदाज को समझ लेना ही तो जीवन कि सबसे बडी जरुरत जीवन मे होती है जो आगे लेकर हर पल जीवन को खुशियाँ दे जाती है
किसी अंदाज को समझ लेना जीवन को समझ लेना जीवन कि अहम जरुरत होती है जो जीवन को आगे लेकर चलती जाती है
हर अंदाज को जीवन मे समझ लेने कि जरुरत होती है जो जीवन कि ताकद बनकर आगे बढती जाती है जो जीवन को मतलब दे जाती है
हर अंदाज को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत होती है जो जीवन कि एक अलग तरह कि साद होती है जो खुशियाँ दे जाती है
हर अंदाज को परख लेने कि जीवन को अलग किसम कि जरुरत हर बार होती है जो जीवन को रोशनी देकर आगे बढती जाती है
हर अंदाज मे ही तो अक्सर हमारी दुनिया बसती है जो जीवन का एहसास बदलकर आगे बढती जाती है रोशनी देकर आगे जाती है
हर पल जीवन कि राह उस अंदाज से मजबूत बन जाती है कभी कभी किसी के आँखों कि मासूमियत भी जीवन मे फौलाद बनकर नजर आती है
जीवन कि राह किसीकी मासूम चाहत से आगे बढती चली जाती है जीवन कि सोच ही तो हमारी किस्मत बनकर आगे बढती जाती है  ो

Friday, 3 June 2016

कविता ७२१. जीवन कि लकिर

                                          जीवन कि लकिर
जब किसी दिशा मे देखती हूँ जाने क्यूँ आपकी लकिर दिख जाती है जो जीवन मे खुशियाँ लेकर आती रहती है जो जीवन की दिशा बदलकर जाती है
किसी लकिर मे ही तो जीवन कि खुशियाँ बसी रहती है जो जीवन कि सोच को बदलकर आगे लेकर जाती है जो जीवन मे उम्मीदे देकर जाती है
हर लकिर मे ही तो जीवन कि मंजिल छुपी होती है जो जीवन कि उम्मीद बनती है आगे चलती जाती है वही तो जीवन कि नई किरण होती है
हमे लकिरों से उलझने कि जरुरत हर पल नही होती है जो हमे हर पल आगे बढना सीखाती रहती है जो हमे परखकर आगे चलती जाती है
जीवन कि किरण तो लकिरों से ही तो पैदा होती है जो दुनिया को हर बार अलग पेहचान देकर आगे बढती जाती है नई किरण देकर जाती है
हर लकिर मे ही तो दुनिया बनती है जो जीवन को मतलब दे जाती है जीवन मे नया मकसद देकर आगे बढती नजर आती है
हर लकिर जीवन कि सोच होती है जो साँसों को उम्मीदे देकर आगे बढती चली जाती है वही तो हमारी जरुरत नजर आती है
लकिर ही तो हमारे जीवन कि पेहचान होती है जो जीवन कि ताकद बनकर आगे बढती चली जाती है क्योंकि वही हमारी जिन्दगी होती है
हर लकिर मे किस्मत हर बार कोई सोच देकर आगे बढती जाती है जो जीवन कि ताकद बनकर आगे बढती जाती है उम्मीदे देकर जाती है
लकिर को बिना समझ जाये या समझ ले असर तो वह बस वही देकर जाती है क्योंकि लकिर तो हमारी किस्मत होती है जो उसे समझकर हस दे उसकी जिन्दगी खुशकिस्मत रहती है 

कविता ७२०. बात को समझ लेना

                                                बात को समझ लेना
किसी बात को समझ लेना जीवन मे मुश्किल बात होती है तो कोई बात आसानी से समझ आ जाती है जो जीवन को परख जाती है
बात को समझकर आगे बढने कि हर पल को जरुरत होती है अहमियत होती है जो जीवन को बदलकर आगे बढती जाती है
हर बात को परखकर हर पल दुनिया आगे बढ जाती है खुशियाँ देकर उम्मीदे देकर हर मोड पर आगे बढती जाती है ताकद देकर जाती है
बात के अंदर कई मतलब छुपे होते है क्योंकि बात ही तो जीवन कि ताकद बढा देती है जो जीवन को उम्मीदे देकर आगे बढती चली जाती है
पर जब उम्मीदों से भरी बात हो तो वह कहाँ समझ आ पाती है जो जीवन को कई बार अलग उम्मीदे देकर आगे चलती जाती है
कई बार बातों कि जो सोच बनती है जो जीवन को बदलकर रखती है जो जीवन कि एक किरण बनकर चमककर आगे बढती चली जाती है
हर बात कि कोई अलग कहानी हर मोड पर बनती और बिघडती नजर आती है पर कई बार उसकी बात ही समझ नही आ पाती है
बात को परखकर आगे चलने कि जीवन को हर पल जरुरत होती है जो जीवन को आगे लेकर चलती चली जाती है
बाते जीवन को कई मतलब दे जाती है मकसद उनके पास ही तो हमारी दुनिया पा सकती है पर कभी कभी दुनिया उन्हे समझ नही पाती है
जीवन को साँसे तो दुनिया देकर ही जाती है पर उस बात को समझ लेने कि जरुरत होती है जिन्हे परखकर आगे चलने कि हर पल जरुरत होती है 

Thursday, 2 June 2016

कविता ७१९. मुलायम सोच

                                              मुलायम सोच
कोई मुलायम सोच जीवन को अलग पेहचान दे जाती है जो जीवन की धारा बन जाती है वही जीवन को समझके आगे बढ जाती है
किसी मुलायम सोच को परखकर जीवन की धारा बदल जाती है किसी मासूम आवाज से भी जिन्दगी कुछ अलग रंग दिखाती है
जीवन कि पेहचान तो जीवन को मासूमसा एहसास देकर जाती है जिसे समझकर आगे बढती जाती है एहसास अलग बनाती है
मुलायम से एहसास कि दुनिया खुबसूरत बन जाती है उस मासूम सोच को समझ लेना दुनिया हर पल मन से चाहती है
मासूम खयालों कि दिशाए रंग नये लाती है हमारी दुनिया हमारी मुस्कान को एक दुआ अलग दे जाती है सोच बदलकर जाती है
जब जब मासूम आवाज उठती है तब तब दिशाए रंगों के अंदर के मतलब बदलकर जाती है जीवन कि साँसे कोई रंग अलगसा दे जाती है
मासूम सोच ही तो जीवन को आवाज अलग दे जाती है अंदाज बदलते रहते है जीवन के आवाज मासूमियत मे नजर आती है
मासूम ही एहसासों कि जीवन को जरुरत होती है उन्ही से दुनिया खुबसूरत होती है जो उन्हे ना समझे उनके जीवन का मतलब कहाँ समझ आता है
मासूम खयालों से ही तो जीवन कि दास्तान बनती है जिन्हे परखकर ही तो जीवन कि हर साँस बन पाती है जो खुशियाँ लाती है
जीवन कि वही सौगाद जरुरी होती है क्योंकि जीवन को उसकी उम्मीद हर पल हर बार होती है जिसमे जीवन कि साँसे बसती है

कविता ७१८. मन कि चोट

                                                   मन कि चोट
सूरज कि किरण कि गर्मी तन को जलाती है पर हर बार मन कि चोट जीवन को बदलकर आगे बढती चली जाती है दिशाए बदलती जाती है
तन कि चोट तो सह जाते है मन कि चोट दिशाए बदलकर आगे बढती जाती है जीवन कि दिशाए बदलकर रख देती है क्योंकि मन कि चोट ही तो जीवन बदलकर जाती है
कोई हार तो आसानी से समझ आती है पर दोस्त का धोका ही तो जीवन बदल देता है बाकी चीजों को मन हर पल सह जाता है
पर हर किसी के किस्मत वह नही होता है यही सोचकर जी खुशी से आगे बढ जाता है हर चोट को दर्द को आसानी से सह जाता है
जीवन को समझ लेना हर पल आसान नही होता है जो जीवन को हर पल बदल जाता है उस पल को ना पाये तो दुनिया खुबसूरत कह लाती है
पर गम कि बात तो यह है यह बात कही ना कही तो किस्मत मे आती ही हर बार हर राह पर संभल जाये इतनी आसान किस्मत नही होती है
कुछ रास्तों पर वह संभलती है पर कुछ रास्तों पर वह उलझ भी जाती है मुश्किल भी देकर जाती है किनारों को उलझन बनाकर जाती है
कभी सही तो कभी मुश्किल देकर भी जीवन मे आसान दिशाए देकर आगे बढती चली जाती है जीवन कि दिशाए बदलकर जाती है
सबकी किस्मत एकसी नही होती है वह हर पल बदलती जाती है कभी किसी मोड पर आसान तो किसी मोड पर उम्मीद देकर आगे बढती चली जाती है
क्योंकि किस्मत हमे हर गम देती नही तो क्यूँ डरे उस गम को जो हमे नही देती है जब तक उम्मीद है तब तक जीवन की आस नही छुटती है

Wednesday, 1 June 2016

कविता ७१७. भटकिसी राह

                                                 भटकिसी राह
कभी कभी कोई बात जो भुला दियी हो वह याद आती है कोई राह भटकीसी हमे पास बुलाती है हमारी साँसों को एहसास अलग दे जाती है
किसी भुली बिसरी याद भी मन को कुछ ऐसे छूँ कर जाती है जीवन कि सरगम दिशाए बदलती जाती है नये किनारे देकर आगे बढती जाती है
राह जिसे हम भुला चुके हो वह साँसे दे जाती है कोई राह जो किसी ओर भटक जाये वह एक अलगसी कहानी सुनाती है जीवन कि निशानी बदल जाती है
किसी दिशाए भटकानेवाली राह से तो अक्सर डरते है पर कभी कभी तो एक सीधी राह भी डराकर जाती है जीवन बदलकर चलती है
किसी गुम हुई राह को परख लेने कि जरुरत भी तो मन को अक्सर होती है जो खुशियाँ देकर आगे बढती जाती है क्योंकि जीवन कि राह आसान नही होती है
जो बदलती जाती है वह राह जीवन को परेशान नही कर पाती है वह उम्मीदे हर बार हर पल आगे तो लेकर ही जीवन मे चलती जाती है
किसी भटकती राह से हमे मुश्किल नही होती है क्योंकि उस राह कि सोच हर पल बदलती चली जाती है दिशाए बदल देती है
किसी कोने मे छुपी हुई राह अगर मन मे हो तो बिना उम्मीद नही होती है क्योंकि मन के हर कोने मे हर पल उम्मीद छुपी रहती है
राह को समझकर जीवन कि दिशाए बदलती रहती है जिसकी बजह से जीवन कि धारा हर पल सीधी नही चलती है किनारे पर बदलती रहती है
जब जीवन राह बदलता जाये तो जीवन को दिशाए बदलने कि जरुरत नही होती है हर कोने कि दिशाए अहम होती है कोई दिशा कम नही होती है 

कविता ७१६. खाली कागज

                                                खाली कागज                      
कागज को कई बार हमने बडे गौर से देखा है उस मे खाली पन नही देखा है उसमे कुछ ना कुछ लिखा होता है जो जीवन को बदल  देता है
कागज मे अक्सर कोई ना कोई मतलब जरुरी होता है क्योंकि वह मतलब कागज का ही तो कुछ एहसास होता है जो आगे लेकर चलता है
खाली कागज मे ही दुनिया कि कई सपनों कि कहानी लिखी होती है जो जीवन को बदलकर आगे बढती जाती है ताकद बनकर जाती है
कागज मे ही तो कई कहानियाँ बनती है जो जीवन को उम्मीदे देकर जाती है जिनसे ही जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है
क्योंकि खाली कागज मे ही तो जीवन कि उम्मीदे लिखी होती है जो जीवन कि कहानी बदलकर जाती है ताकद देकर आगे जाती है
कागज मे ही तो जीवन को समझ लेने कि जरुरत छुपी रहती है कागज मे ही तो जीवन कि कहानी हर पल जिन्दा रहती है जो जीवन पर असर कर जाती है
कागज मे एक नई कहानी लिखी होती है जो जीवन कि कहानी लिखती है जीवन को उम्मीदे देकर हर बार आगे बढती जाती है ताकद बन जाती है
कागज मे ही एक सोच छुपी रहती है जो जीवन कि कहानी हर पल अलग तरीके से लिख जाती है जो नई कहानी सुनाती रहती है
कागज मे ही तो जीवन कि कहानी अलग सोच से लिखी जाती है जो जीवन को नई सुबह देकर आगे बढती चली जाती है
दिशाए जीवन कि कोई बात बदल जाती है जो कागज मे दुनिया कि कोई अलग ही सोच देकर जीवन को आगे लेकर जाती है
क्योंकि खाली कागज मे ही तो जीवन कि कहानी लिखी होती है उनमे ही तो जीवन कि कहानी लिखने कि ताकद रखी होती है