Thursday, 31 March 2016

कविता ५९३. हर बाजी

                                                  हर बाजी
जीवन कि हर बाजी को दो तरफा मतलब से हम अक्सर समझ लेते है जीवन कि हर बाजी को हम हमेशा जीने कि चाहत रखते है
हर बाजी को समझकर जीना आसान नही होता है क्योंकि हर बाजी के अंदर अलग अलग किसम के मतलब अक्सर छुपे होते है
बाजी तो बदलती रहती है उस बाजी के साथ हमे जीवन के रंग बदलने होते है जो जीवन कि बाजी को पलटकर दुनिया बदल देते है
बाजी तो जीवन कि कहानी अलग बना देती है पर हम बस इतना चाहते थे कि हम बाजी चुने पर आजकल हमारी बाजी किस्मत ही चुना करती है
बाजी के रंगों को बदलकर जीवन को समझ लेने कि जरुरत हम अक्सर रखा करते है जो बाजी को समझ ले उन्हे हम समझ लिया करते है
बाजी के अंदर एहसास अलग से दिखते है जिन्हे हम हर बार परखकर जीवन मे समझ लेते है और फिर आगे कई खयालों से समझकर बढते जाते है
बाजी तो जीवन कि कोई नई शुरुआत देकर जाती है जो हमे जीवन मे चुनौती देकर जाती है आगे लेकर नई सोच दिखा जाती है
जीवन मे हर मोड पर बाजी को समझ लेना जरुरी होता है बाजी के अंदर ही जीवन का एहसास जिन्दा होता है जो हमे साँसे दे जाता है
जीवन कि हर बाजी मुश्किल नही होती है पर उसे चुनना मुमकिन नही होता है तो चुन लो उस बाजी को जो हमे मिल जाती है
क्योंकि यह जीवन एक ऐसा तोहफा है जिसमे कुछ मिल जाये तो उसे ठुकराना आसान नही होता है वह जीवन पर असर हर बार कर जाता है

कविता ५९२. बातों कि कहानी

                                                   बातों कि कहानी
बार बार किसी बात को अनदेखा करते है पर फिर भी जाने क्यूँ उसी बात के संग दुनिया को समझ लेते है बात को समझ लेते है
किसी बात को दोहराना तो नही चाहते है पर बात को जाने क्यूँ अनजाने मे दोहराते जाते है जिस बातको भुला देना था उसको सोचते रहते है
यही से तो हमारे दर्द कि बजह होती है कभी कभी बाते जो जीवन के लिए गलत होती है वही मन मे अक्सर घर बना के जाती है
जीवन कि सारी दिशाए बदल जाती है क्योंकि गलत बात जो याद रखने के काबिल ना हो उसे याद रखने कि जरुरत हर बार मेहसूस होती है
जिस बात से दर्द हो उसे जाने क्यूँ दुनिया जीना चाहती है जीवन कि हर बात को समझ लेना जीवन कि अहम जरुरत होती है
बातों को समझकर आगे जाने कि जरुरत हर बार होती है बात के अंदर कहानी की दिशाए हर बार बदल जाती है नई उम्मीदे देती है
बातों को समझकर जीवन को आगे ले जाने कि जीवन को जरुरत अक्सर होती है बाते ही जीवन कि ताकद बनकर आगे बढती जाती है
हर बार हर बात के अंदर एक सोच छुपी रहती है जिसे परखकर दुनिया नया मोड देती है तो हर बार बात को समझ लेने कि जीवन मे जरुरत होती है
बात सही और गलत दोनों ओर से होती है जीवन को मतलब देने कि जरुरत हर बात और हर राह पर अलग एहसास देती रहती है दिशाए बदलती रहती है
बातों कि कहानी अलग अलग एहसास देकर जीवन को रोशनी दे जाती है कई बार उम्मीदे  देकर जाती है बातों कि कहानी अक्सर मन मे जिन्दा रहती है

Wednesday, 30 March 2016

कविता ५९१. किसी खयाल को समझकर

                                              किसी खयाल को समझकर
जब किसी खयाल को समझकर आगे बढने कि चाहत उम्मीदे देकर जाती है जीवन को मतलब दे जाती दिशाए बदलकर आगे बढती जाती है
हर खयाल को समझकर जीवन कि कहानी अलग दिशा बदल कर आगे जाती है नई शुरुआत दे कर आगे चली आती है जो बदल जाती है
खयालों को मतलब देकर परख कर जीवन कि कहानी नया एहसास देकर जाती है खयाल मे ही तो जीवन कि ताकद मुठ्ठी कि तरह हर बार नजर आती है
जिस खयाल को परख कर आगे बढने कि जरुरत होती है उस खयाल मे ही दुनिया कि हकीकत छुपी होती है खयाल को समझ लेने कि कोशिश हर मोड पर होती है
खयालों के अंदर ही दुनिया कि हकीकत छुपी होती है खयाल को समझ लेने कि दुनिया मे हर बार जरुरत होती है जो हर खयाल को मतलब देने कि अहम जरुरत होती है
खयालों से ही तो दुनिया कि हकीकत बनती है हर खयाल मे ही तो रोशनी कि पेहचान बसती है पर कभी कभी किसी खयाल से मन कि दिशाए बदलती है
तभी सवाल यही आता है कि जीवन मे दुनिया को बदल जाने कि जरुरत होती है या उस से ही जीवन कि मुसीबत बढती है जो आगे लेके जाती है
खयाल को समझकर जीवन कि कहानी दिलचस्प बनती है खयाल के साथ जीवन मे नई उम्मीदे हर बार बनती और बिघड जाती है
खयालों को परख कर ही तो दुनिया आगे बढती है पर कभी कभी दिल चाहता है कि किसी खयाल को बिना समझे ही किस्मत बदल जाये पर दुनिया ऐसे कहाँ आगे चलती है
खयाल कि धारा ही जीवन को मतलब दे जाती है खयाल को समझकर आगे बढने कि जरुरत हर बार होती है क्योंकि हम समझे या ना समझे पर खयालों से ही दुनिया बनती है

कविता ५९०. हर सवाल का जवाब

                                                                हर सवाल का जवाब
हर सवाल में जवाब नहीं छुपा होता है जीवन के सोच को परख लेना मुश्किलसा होता है हर सवाल के अंदर का एहसास परख लेना होता है जो रोशनी देता है
किसी सवाल को समझ लेने की जरूरत तो होती है उसके जवाब को ढूँढ़ने की कोशिश कभी कभी हमारी दुनिया बदल देती है जीवन में सवाल को समझ लेना जरुरी होता है
हर सवाल को परख कर ही जीवन की  बुनियाद समझमें आती है कुछ सवाल में ही जवाब छुपे होते है तो कुछ सवालों की दुनिया ही अलग होती है
पर अलग तरह के सवाल के असर की तलाश अलग अलग होती है जिसके अंदर हमारी दुनिया बसती है जिसमे जीवन की जरूरत होती है हर सवाल के अंदर अलग अलग राहे दिखती है
सवाल को समझ के दुनिया को समझ लेती है हमें जीवन में सवालों के जवाब की तलाश होती है जिसमे दुनिया आसानी से बदल जाती है खुशियाँ बदल जाती है
पर जीवन में सवाल को परख लेने की जरूरत हर बार होती है हर सवाल को कई बार समझकर आगे बढ़ जाती है सवाल के अंदर दुनिया बदलती है
सवाल को समझकर ही तो दुनिया की सही सोच बनती है हमे जीवन में सवाल को परख लेने की जरूरत हर बार होती है तभी तो जवाब मिलते है
सवालों की ही तो दुनिया बनती है बिना सवाल के कहाँ खुशियाँ मिलती है इसीलिए हर पल सवाल को परख लेने की जरूरत हर बार होती है जो रोशनी दे जाती है
सवाल के बारे में सोच सोच कर ही तो यह जिन्दगी गुजर जाती है हमे जवाब को समझ के आगे बढ़ने की जरूरत होती है क्योंकि उनसे ही तो दुनिया बनती है
सवाल में जीवन को परख लेने की हर बार समझ लेने की जरूरत हर बार होती है क्योंकि सवालों के साथ ही जीवन की खुशियाँ मिलती है 

Tuesday, 29 March 2016

कविता ५८९. मन के पेहलू

                                                        मन के पेहलू
मन के एक छोटेसे कोने मे जीवन के कई रंग जिन्दा रहते है जिन्हे हम कभी समझना चाहते है कभी बिना समझे ही चुप रहते है
मन के हर कोने मे जीवन कि धारा को हम परख लेते है मन के हर हिस्सों से हम जीवन के कई किस्सों को हम अक्सर पढ लेते है
मन को परख कर हम जीवन को समझ लेने कि कोशिश मे हर बार हम आगे चलते रहते है जिसे समझकर आगे जाना होता है
उस मन के हर किनारे मे जीवन के कई पेहलू अक्सर जिन्दा रहते है जीवन मे हर बार खुशियों कि सौगाद कई दफा दे कर जाते है
मन के अलग अलग पेहलू मन कि दिशाए बदल देते है मन को समझकर जीवन के किनारे बदलकर आगे चलते रहते है
उम्मीदों के सफर पर हम कई तरीकों से जीवन को समझकर ही तो आगे चलते है मन मे कई पेहलू कई पडदों मे छुपे रहते है
हर पेहलू को जीवन कि जरुरत बनाकर हर बार जिया हम करते है जीवन को मन से हर बार ताकद दिया करते है हम आगे चलते है
मन के सारे पेहलू अलग अलग होते है जिन्हे हम चुपके से जिया करते है पर आजकल सोचते है कि क्यूँ चुपके से जिया हम करते है
जब हमे हक है उन खुशियों को जीने का जाने क्यूँ  उन्हे हम घूटघूट के जीते रहते है उन्हे कहाँ समझ पाते है उनसे ही किनारा करते है
मन के कई पेहलू हम अक्सर समझते रहते है कभी किसी राह पर तो कभी किसी राह पर चलने है पर सवाल तो बस यह है कि हमे हक है
फिर भी हालात कि बजह से हम चुप रहते है हम जीवन मे सबकुछ तो सहते रहते है नई दिशा मे हर बार चलते रहते है

कविता ५८८. छोटीसी बात का असर

                                                           छोटीसी बात का असर
बाते तो बडी छोटीसी है पर दुनिया बदलती है जीवन के हर मोड खुबसूरती कि नयी दिशा दिखाती है छोटीसी उम्मीद जीवन को किनारा दे जाती है
हमारे जीवन को अलग मतलब देकर खुशियों कि सौगाद दुनिया मे लाती है सोच जो हमे नया किनारा दे जाती है वही हमारी मंजिल बनकर आती है
छोटी बात हमे आगे लेकर जाती है छोटी बाते ही तो हमारा जीवन बनाती है छोटी बातों की सोच भी जीवन को नया एहसास देकर जाती है
छोटी बातों के अंदर कई खयाल छुपे रहते है जिन्हे समझकर दुनिया हमे आगे लेकर ताकद दे जाती है हमे समझ लेने जैसी सोच हमे ताकद देकर जाती है
छोटी छोटी बाते हमे नये एहसास देकर आगे नयी ताकद जो हमे उम्मीद देकर अलग सोच देकर हमे कोई नयी राह देकर आगे ले जाती है रोशनी दे जाती है
हमे जीवन में कई बाते समझ लेनी होती है जो जीवन की राह और जीवन में नयी ताकद देकर सही राह हमे आगे लेकर जाना चाहती है
छोटी छोटी बाते जो हमारा हिस्सा होती है जो जीवन की दिशा और मतलब बदलकर जाती है जीवन में अलग सोच देकर जाते है नयी रोशनी देते है
हर बार छोटी बात जीवन का किस्सा बदलकर जाती है जीवन के हर एक मोड़ पर कुछ ना कुछ दिशा देकर जाती है छोटीसी बात भी जीवन को दिशा देकर जाती है
छोटी बात तो हमे आगे ले जाती है बातों में कोई अलग सोच ही तो छुपी हुई होती है छोटी बाते जीवन को ताकद तो हर मोड़ पर रोशनी देकर ही जाते है
जीवन के अंदर छोटीसी बाते हमे आगे लेकर जाने की ताकद हर बार जीवन में होती ही है उस छोटीसी बात में जीवन में नयी ताकद और मतलब दे जाती है

Monday, 28 March 2016

कविता ५८७. नयी शुरुआत

                                                       नयी शुरुआत
कई बार नयी शुरुआत जीवन को एहसासों कि सौगाद दे जाती है जो हमे आगे ले जाती है हमारा जीवन बदलकर आगे बढती है
हर नयी शुरुआत जीवन को कई किनारे दे जाती है वह जीवन को वही एहसास दे पाती है जो जीवन को समझ लेने कि जरुरत बन जाता है
जीवन मे हर मोड कि शुरुआत हमारी दुनिया बनती है जीवन को समझकर उसे हर बार अलग अलग किनारों पर नया एहसास दे जाती है
हर बार जो शुरुआत हमे जीवन कि साँसे दे जाती है उसे समझकर आगे बढने कि उम्मीदे दे जाती है वही शुरुआत हर बार सही नजर आती है
शुरुआत को समझ पाना भी अक्सर आसान नही होता है क्योंकि कभी कभी कोई शुरुआत हमारे जीवन के खयालों मे चुपके से आती है
हर मोड पर आगे बढने कि जरुरत होती है शुरुआत के अंदर अलग एहसास की ताकद हर बार हर राह पर आती जाती है
चीजों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती ही है चीजों कि शुरुआत हमारी दुनिया बनाती है हमे अलगसी ताकद और मकसद दे जाती है
शुरुआत के अंदर जीवन को मतलब तो हर पल जीवन कि सोच दे जाती है वह हमे हर बार ताकद और उम्मीदे देकर आगे जाती है
शुरु मे ही जीवन को मतलब दे जानेवाली राह जरुरी होती है जो जीवन को हर बार एहसास कि नई कहानी बताती है वह हमे आगे ले जाती है
शुरुआत के अंदर ही हमारे अलग सोच के पेहलू छुपे होते है जीवन मे छुपी शुरुआत उतनी ही हमारी है जितनी सीधी शुरुआत जरुरी है

कविता ५८६. अफसाने को बयान करना

                                                   अफसाने को बयान करना
हर अफसाने को बयान करने के कई बहाने होते है जो हमे उम्मीदे देते है वही कुछ घाव पुराने होते है जो आगे चल कर मुसीबत बन के दिखाते है
अफसाने जीवन के अंदर अक्सर अलग असर दे जाते है अफसानों कि जीवन मे अलग कहानी हर बार हर मोड पर अक्सर बनती है जो हमे आगे ले जाती है
अफसाने जो जीवन को मतलब दे जाते है उनमे कई बहानों कि सोच छुपी होती है अफसानों कि कहानी जो हमे रोशनी तो हर मोड पर दे जाती है
उसे समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर दिशाए देती है हर अफसाने मे जीवन कि सोच हमे धारा तो अलगसी दे जाती है नई उम्मीदे अक्सर रोशनी ले कर आती है
अफसाने कि कहानी हमारी हकिकत हर बार बदलती है हमे जीवन मे कोई अलग मतलब दे कर दुनिया कि रीत बदल कर जाती है रोशनी कमजोर बनाती है
अफसाने तो जीवन कि दिशाए बदल कर खुशियाँ दे कर जाते है हर एक अफसाने के अंदर एहसास कई किसम के होते है जो जीवन कि कहानी बदल देते है
पर अफसाना हम कैसे बयान करते है उस सोच के बलबुते पर ही हम दुनिया मे जीते रहते है अफसानों को हर एक बार हम समझ लेने कि कोशिश मे आगे बढते है
अफसाने जो बनते है उनके अंदर हम दुनिया को समझ लेते है अफसानों को समझकर ही तो हम जीवन कि धारा मे आगे बढते जाते है रोशनी को परख लेते है
अफसाने हर बार जीवन को बयान तो करते है पर उसमे सही तरीके होते ही है जीवन के हर मोड को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है पर अफसाने हमे अलग दुनिया दिखाते है
जो अफसाने सही तरीके से बयान हो और सीधी राहे दे जाये वही जीवन कि सुबह बनते है गलत तरीकों से कहे तो सुबह मे भी अँधेरे के निशान मिलते है

Sunday, 27 March 2016

कविता ५८५. सही तरह का जुनून

                                सही तरह का जुनून 
हर बार जितनी जुनून से किसी को चाहते हो उस मजबूती से जीवन में नफरत ना हो जो जीवन की धारा होती है जुनून में अगर सही चीज हो तो ही जीवन में सही दिशा मिलती है  
जीवन में जितने प्यार से अच्छी चीज को चाहो हमे उतनी नफरत नहीं करनी होती है जिसे समज लो वह सोच हमे कई तरह की उम्मीदें देती है 
जीवन के अंदर एक अलग ही चाहत होती है जो सही दिशा में हो तो ही जीवन की उम्मीद बनती है जीवन में समज लेते है तो खुशियाँ आगे मिल पाती है 
जुनून के अंदर जीवन की अलगसी ताकद होती है जो हर बार जीवन की शुरुआत होती है जीवन में जुनून को समज लेने की हर बार जरूरत होती है 
जुनून को परख लेने की जीवन के अंदर अलग चाहत होती है जो जीवन को नये किनारे दे कर आगे ले जाती है जीवन में जुनून अलग ताकद होती है 
वह सही चीज के लिए हो तो खुदा हनिमत होती है क्योंकि नफरत से अगर जुनून हो जाये तो जिन्दगी सबसे बड़ी मुसीबत होती है जो जीवन की दिशाए गलत बनाती है 
अगर मन से सही चीज का जुनून हो तो दुनिया बड़ी खूबसूरत होती है जो हमे आगे ले जाने की सोच हर पल दे कर जाती है वह हमारी साँसे बनती है 
जुनून के लिए सही दिशा चुननी पड़ती है नफरत से जीवन में और किसी बात की जरूरत कम ही होती है जिसे समज लेते है वह रोशनी है वही हमारी जरूरत होता है 
जुनून हमारे लिए जरुरी होता है पर नफरत से नहीं अच्छी बातों से जुनून सही होता है जो रोशनी देता है जिसे परख लेना बड़ा अहम होता है 
जुनून को परख लेना जीवन में खुशियाँ देता है जीवन में परख लेना ही तो जरुरी होता है वही तो जीवन में खुशियाँ दे जाता है वही जुनून अक्सर सही होता है 

कविता ५८४. सोच कि राह

                                                                  सोच कि राह
सोच समज कर राह जो चल दे उसे परख लेने कि जरुरत हर बार होती है जो जीवन को साँसे और एहसास देती रहती है
सोच मे अलग तरह कि कहानी हर बार होती है जिसे समज कर परख लेने कि जरुरत जीवन मे एहसास देती है उजाले दे कर आगे बढती है
सोच को तो दुनिया कि हर राह कभी कभी समज पाती है कभी भूला कर जाती है पर हर बार सोच को परख लेने कि कोशिश तो रहती ही है
सोच को हर लब्ज मे समज कर आगे बढने कि जीवन के हर बार अहमियत होती है जो हमे समज लेती है रोशनी दे कर आगे जाती है
सोच मे कई बाते तो जीवन कि रोशनी बनकर झलक जाती है जिन्हे परख कर आगे बढने कि जरुरत हर मोड पर हर बार होती है
सोच मे जीवन कि ताकद अक्सर छुपी होती है सोच मे जीवन कि हर बार कोई ना कोई प्यास हर बार छुपी रहती है उजाले दे कर जाती है
सोच को समज लेने कि जीवन को हर मोड पर जरुरत तो जीवन को मतलब दे जाती है सोच ही तो जीवन कि कहानी होती है
हर बार सोच कितना भी बदले वह जीवन मे उम्मीदे हर बार दे ही जाती है जो जीवन को समज कर आगे ले कर आती है इसलिए वह अक्सर अहम होती है
सोच को समज लेने कि हर बार हमे जरुरत होती ही है क्योंकि सोच ही हमारी हर पल कि साथी होती है तो चाहे या ना चाहे उसे समज लेने कि जरुरत होती है
सोच ही तो हमारी किस्मत होती ही है तो सोच समज लेने से ही दुनिया कि हकीकत बनती है जो जीवन को हर मोड पर उम्मीदे दे कर आगे ले जाती है
इसलिए सोच के अंदर अलग एहसास को परख लेने कि हर बार कोई ना कोई जरुरत तो होती ही है जो हमे उम्मीदे दे कर आगे बढती जाती है

कविता ५८३. चेहरे कि झूठी पेहचान

                                               चेहरे कि झूठी पेहचान
चेहरे भी कई बार झूठी बाते बताते है जो ठिक से उनको ना पढ पाये उस बात को मतलब दे जाते है जो कई बार गलत होते है
जीवन कि धारा को बदल कर हम जीना चाहते है चेहरे को हर बार समझकर आगे बढना चाहते है पर अक्सर लोग उसे गलत पढ लेते है
चेहरे को मतलब तो हम ही दुनिया मे दे जाते है जिसे परख कर समझ लेने कि दुनिया कि हर मोड पर चाहत होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत होती है
पर अगर चेहरे के अंदर का एहसास हर मोड पर अलग होता है जो मतलब देकर आगे जाता है हमे बताता है जीवन मे नई किरण दे जाता है
जीवन को समझकर ही तो दुनिया को मतलब मिलता है जो जीवन मे ताकद बनकर बहता है जीवन को खुशियाँ और गम दे जाता है
पर चेहरा पढ लेना बहोत मुश्किल होता है जो हमे जीवन कि अलग चाहत दे जाता है चेहरा जीवन को मतलब देकर आगे ले जाता है
पर हर चेहरे के अंदर का विश्वास बहोत अलग होता है उसे समझ लेना हर बार बडा मुश्किल होता है जो जीवन को अलग मतलब देकर आगे जाता है
जीवन कि धारा को बदलकर कोई खयाल मे रोशनी लाता है उसे समझ लेना हर बार जरुरी होता है हमारी जीवन कि रोशनी होता है
चेहरा ही तो पढना जरुरी होता है जो हमे एहसास तो अलग देता है जीवन कि दिशाए भी बदलकर आगे चला जाता है ताकद देता है
चेहरे को पेहचान लेना ही जीवन कि सही उम्मीद होती है पर उसे ना पढ पाये उस से चेहरे को देखकर अनदेखा करे वह बेहतर होता है
क्योंकि बिना सोचे कुछ भी करना जीवन मे हर बार मुसीबत बन जाता है जीवन कि दिशाए परख लेने कि जरुरत है चेहरे कि जगह कोई और एहसास रोशनी दिखाता है

कविता ५८२. दिशाए बदलते रहना

                                          दिशाए बदलते रहना
बार बार जीवन कि दिशाए बदल लेना सही सोच नही है कभी रुकने कि जरुरत है हमे आगे बढने कि इतनी जल्दी नही है
जो बाते हम दोहराते है उन्हे परख लेने कि जरुरत है बार बार किसी बात को कहते रहना जीवन का सही अंदाज नही है
पर दो पल मे बदल जाना यह सोच भी सीधी नही है जो हमे अलग अलग एहसास दिखाये वह सोच समझ लेने कि जरुरत होती ही है
पर जब जब हम जीवन मे सोचे जीवन कि धारा अलग अलग दिशाओं मे बहती रही है हमे जीवन मे रोशनी नयी नयी राहे देती है
कोई दिशा सही है तो कोई दिशा गलत भी दिखती रही है दिशाओं को बदलते रहनेसे जीवन कि दुनिया कुछ बनती नयी है
पर सिर्फ दिशाए बदलती रही तो भी जीवन मे बनती उलझन नयी है जिन्हे समझ लेना है वह दिशाए कई बार समझे बगैर उम्मीदे देती नही है
बदलाव तो जीवन कि कहानी है जो हर पल जीवन को रोशनी देती है जिसे समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर पल होती ही है
बदलते रहने कि भी जरुरत हर बार जीवन मे होती है जिसे समझ लेने से ही दुनिया खुबसूरत हर बार हर मोड पर बनती है
हमे कभी दिशाए बदल लेनी पडती है तो कभी दिशाए वही रखनी पडती है दिशाओं मे ही हमारी दुनिया बनती है खुशियाँ मिलती है
हमे दुनिया समझ लेनी पडती है जो हमे खुबसूरती का नया मतलब दे जाती है जो हमारी दुनिया को सही रंग दे कर खुशियाँ दे जाती है

Friday, 25 March 2016

कविता ५८१. एहसास से भरा जीवन

                                         एहसास से भरा जीवन
हर एहसास देने कि जीवन को जरुरत होती है एहसास के अंदर ही तो दुनिया जिन्दा होती है जीवन मे एहसास कि जरुरत होती है
हर सोच के अंदर जीवन कि कहानी अलग ही जिन्दा होती है जिसे समझकर आगे जाने कि जरुरत हर बार पैदा होती ही है
एहसास को परख लेते है तो दुनिया बडी खुबसूरत लगती है जीवन कि कहानी हमे रोशनी दे कर आगे बढती रहती है
वह एहसास जिसे हम जिन्दा रखते है उस एहसास से ही हर बार दुनिया बनती रहती है कई एहसास को समझ लेने कि जरुरत होती है
हर एहसास को समझ लेने कि जरुरत हर बार हर पल मे होती है जिसे दुनिया हर मोड पर जीना हर बार चाहती रहती है
एहसास को समझकर जीवन कि दिशाए बदलती रहती है जो हमे नई शुरुआत देकर ही हर बार आगे ले जाती है नई उम्मीदे देती है
जीवन को कई एहसास दे दुनिया आगे जाती है उसे समझ लेने कि जरुरत हर बार हर मोड पर हर राह पर खुशियाँ देती है
एहसास के अंदर ही दुनिया कि ताकद हर बार जिन्दा रहती है समझकर जीवन को एहसासों को परख लेने कि हर बार जरुरत होती है
जीवन मे एहसास दे जाते है उस सोच को परख लेने कि हर बार हर मोड पर अक्सर जरुरत तो होती है जिसे समझकर दुनिया आगे बढती है
जीवन मे तरह तरह एहसासों मे ही तो दुनिया कि खुशियाँ जिन्दा होती है जो जीवन को अलग तरह कि यादे ताकद और जरुरी मन कि शांती भी दे पाती है
इसलिए जीवन मे सोच को समझकर आगे बढने से ही हमारी दुनिया आगे जाती है नई खुशियाँ जीवन मे रोशनी दे जाती है

कविता ५८०. कुछ कह देना है

                                                  कुछ कह देना है
कुछ कह देते है हम पर उसे समझ ले वह इन्सान अहम लगता है कुछ पर परख लेते है हम पर कही बाते समझ लेना मकसद लगता है
कई बार जीवन मे बस यही होता है जो बात कह देते है हम उसका मतलब बदलता जाता है कहना तो अक्सर आसान होता है
पर कोई सुनता है तो उस चीज को मतलब मिल जाता है कही हुई बातों को नया एहसास देकर जीवन हर बार आगे बढता जाता है
कह देना हर बार जीवन पर कुछ ना कुछ असर कर जाता है जो बात हम लोगों को कह जाते है वही बात हम जीवन मे समझ लेना चाहते है
कही हुई बातों को परखे तो कुछ लोग आगे जाते है पर कुछ बाते जीवन मे समझ लेना हम हर मोड पर चाहते है पर भुला कर जाते है
जीवन कि सही शुरुआत हम जीवन मे पाते है क्योंकि जीवन को जिन्दा हर बार हम चाहते है कही बातों से उसे समझ पाते है
फिर भी कभी कभी बाते समझसे परे निकल आती है जीवन का एहसास बदलती जाती है रोशनी देकर आगे ले जाती है
कहना अनदेखी बाते भी समझाकर जाता है क्योंकि कही बातों मे ही जीवन का मकसद निकल आता है जो नई दिशा दे जाता है
कहना तो जीवन कि शुरुआत होता है जो जीवन कि उम्मीदों का एहसास देता है क्योंकि कहना भी जीवन मे अहम हर बार होता है
बिना कही बाते भी तो जीवन को मतलब नया अलग दे जाती है जीवन कि हर राह को बिना कही बाते ही तो आगे ले कर जाती है

Thursday, 24 March 2016

कविता ५७९. पडदे के पीछे

                                                    पडदे के पीछे
पडदों के पीछे कई बार कोई खयाल तो छुपा होता ही है जिसे परख लेने से जीवन मे दुवाए कई बार मिलती है पर हर पडदे के पार कोई ना कोई बात छुपी रहती है
जाने क्यूँ सीधी राह पर भी कोई पडदा होता ही है क्योंकि अक्सर जीवन कि राह जितनी आसान हमे लगती है उस से मुश्किल उस राह से गुजरना होता है
पडदे जो जीवन मे अलग अलग रंग दे जाते है उनमे जीवन का एहसास छुपा होता है पर उनके बाहर आने का वक्त भी अलग अलग लिखा होता है
पडदों मे छुपी दास्तान का हिस्सा चुपके से जीवन बदल देता है उस दास्तान मे ही जीवन का मतलब और अलग किस्सा छुपा रहता है
पडदे तो जीवन को मतलब दे जाते है उन पडदों के पार जीवन छुपा होता है उस जीवन को समझ लेना बडा आसान अक्सर दिखता है
पडदा हर बार राज छुपा लेता है उसे समझ लेना जरुरी होता है पडदों के पीछे छुपी बातों को मतलब हर बार जीवन देता ही है
पडदे तो जाने क्यूँ जीवन को समझ लेते है उन पडदों के पार जीवन का किस्सा छुपा होता है जो हमे अक्सर रोशनी देकर जाता है
पडदों को परख लेना जीवन मे मतलब दे कर जाता है पडदों के पार रखे हुए राज को समझ लेना हर मोड पर उम्मीदे देकर जाता है
जीवन के अंदर हर सोच मे कई पडदों का एहसास छुपा है जो जीवन मे रोशनी दे कर जाता है पडदों के पीछे ही जीवन छुपा होता है
पडदा ही जीवन को वह ताकद देता है जिसमे जीवन का हर एक रंग हमे दिखता है जो  अलग एहसास और रोशनी देकर जाता है

कविता ५७८. बातों को समझ लेना

                                                 बातों को समझ लेना
बातों को समझ लेने से जीवन कि नई किरण दे जाती है बात के अंदर कई मतलब और कई तरीके हमे रोशनी दे जाते है
बात ही तो जीवन को मतलब दे कर जाती है बातों के अंदर हर बार वह अलग मतलब देकर  नजर आती है बाते तो हर बार समझ लेना जरुरी होता है
बातों के अंदर का एहसास ही तो हमे जीवन दे जाता है बात समझ लेने कि ही तो हर बार जरुरत होती है क्योंकि बात ही हमारे जीवन कि नसीहत होती है
बात जो जीवन कि दिशाए बदल कर जाती है हर बार उस बात को समझ लेने कि जरुरत हमारे मन को अक्सर होती ही है
बात जो जीवन के मतलब बदल कर जाती है उसमे ही तो अक्सर आगे बढने कि ताकद छुपी होती है जो जीवन को उम्मीदे देती है
एक बात जो जीवन मे दिशाए दिखाकर जाती है उस बात को तरह तरह से समझ लेने कि जरुरत होती है जो जीवन पर अलग अलग असर कर जाती है
एक बात को समझकर जी लेने कि हर बार जरुरत होती है पर बात जब बदलती है इन्सान कि किस्मत हर बार बदलती जाती है
बातों के अंदर कि दुनिया हर बार समझ कहाँ आती है हमे जीवन मे कई बार बाते समझ लेनी पडती है जो हमारी दिशाए बदलती है
बात जिसके अंदर कई खुशियाँ छुपी रहती है वह बात अक्सर हमारे जस्बात ही लेकर आती है जीवन मे हर मोड पर बाते समझ लेनी होती है
बात तो तभी सही है जब वह कोई सही दिखा जाती है एक बात के अंदर ही तो दुनिया कि कई उम्मीदे छुपी होती है क्योंकि बात रोशनी देती है
बातों मे ही तो जीवन कि सच्चाई छुपी होती है हर बार हर बात ही तो हमे जीने कि ताकद देती है सही बात ही जीवन कि उम्मीद बनकर आगे बढती है

Wednesday, 23 March 2016

कविता ५७७. करीब से देख लेना

                                                 करीब से देख लेना
करीब से देख लेते है तो सोच अलग एहसास दे जाती है जो जीवन कि धारा को कुछ अलग बताकर दुनिया बदल  जाती है
पर हम जीवन को समझ लेते है तो करीब से दुनिया बहोत अलग नजर आती है हर एहसास को बदलकर आगे चली जाती है
ध्यान से देख लेते है तो दुनिया रंग कई दे जाती है रोशनी कि अहम सौगाद बनकर जिन्दगी को बदलकर जाती है दुनिया अलग बनाती है
पर करीब से देखी हुई हर बात हमे कहाँ समझ आती है जो एहसास दे जाती है वह बात कहाँ जीवन को मकसद दे पाती है
जो करीब से जीवन को समझ लेते है उन्हे समझ हर बार होती है जो जीवन कि कहानी अलग बना के ही हमारी दुनिया बदल देती है
जिस चीज को समझ लेते है उस चीज के अंदर अलग सोच हर बार मतलब देती है सोच के कई किस्सों के संग दुनिया बदलती है
पर बहोत ध्यान से आगे बढने से भी दुनिया खुशियों कि सौगाद नही दे पाती है हमारी खुशियाँ हम से हर मोड पर दूर रह जाती है
कभी कभी जीवन मे ध्यान से चीजे बदल देने से ही दुनिया नई उम्मीदे देती है चीजे तो समझकर ही आगे बढने से ही दुनिया को मतलब देती है
कभी कभी जीवन मे ज्यादा ध्यान देने से भी चीजे बदलती है चीजे ज्यादा ध्यान से आगे बढे तो ही वह दुनिया को मतलब देती है
चीजे बडे ध्यान से जीवन मे करनी होती है पर कभी कभी  आसान चीजे दूर रखकर दुनिया हमे समझ लेनी होती है जो राह सही हो वही चुननी होती है

कविता ५७६. बिघडती बाते

                                                        बिघडती बाते
बिघडती बाते तो जीवन कि दिशाए बदलती जाती है जिन्हे समझ लेने कि जरुरत हर बार जीवन मे होती ही है चीजे बिघडती रहती है
बिघडती बाते ही तो हर मोड और हर पल बदलती है जीवन को अलग समझ देकर जाती है पर हर बार वह बात सीधी नही होती है
बातों कि गलत राह भी जीवन कि सौगाद दे जाती है वह भी कई बार जीवन को राह कई देकर आगे बढती है राह को समझ लेने कि जरुरत होती है
राह के किस्मत मे बनना और बिघडना हर बार लिखा होता है पर हर राह तो कुछ ना कुछ जरुर बता के हर बार जाती ही है
राह को समझ लेना जरुरी हो या ना हो पर जीवन मे दिशाए तो वह हर बार देती ही है जीवन कि बाजी हर बार समझ लेनी होती ही है
बिघड भी जाये बात तो वह बात मतलब बदल देती ही है क्योंकि हर बात कि अलग फिदरत होती है उसमे छुपी समझ होती ही है
चीजे तो अक्सर जीवन मे बदलती ही रहती है दिशाए हर मोड पर अलग तरह का एहसास देती है जिन्हे समझ लेने कि हर राह पर जरुरत होती है
जो बात बिघड जाती है उसे परखकर ही अलग बात कि ओर जीवन कि कहानी बढती है जीवन कि कहानी बदल जाती ही है
जो बाते सीधी हो उनमे भी अलग कहानी निकलती है जब वही बाते बिघडकर सामने आ जाती है जीवन कि कहानी बदल जाती है
बिघडी हुई बातों के भी मतलब हर बार अलग निकलते है जिन्हे समझ लेने के बाद जीवन के बदलाव को हर बार हम अक्सर मेहसूस करते है

Tuesday, 22 March 2016

कविता ५७५. जीवन कि समझ

                                          जीवन कि समझ
हर धारा को जीवन हर बार बदलकर जाता है कोई साथी बनकर तो कोई दुश्मन बनकर जीवन कि दिशाए बदलकर जाता है
जीवन को समझ लेना और मकसद दे जाना जीवन कि दिशाए बदलकर जाता है जीवन को समझ लेने कि चाहत हर बार रोशनी के किनारे बनकर आगे बढती है
जीवन को कोई अलग तरह कि सोच यादे और रोशनी दिखाकर जाती है जीवन कि कहानी अलग लब्जों मे हर बार लिखी जाती है
जीवन कि परख लेते है तो जीवन मे नई उम्मीदे दे जाती है वही रोशनी जीवन कि सौगाद बनकर उसे आगे ले जाने कि ताकद पाती है
जीवन को मतलब दे जाये तो जीवन कि कहानी अलग नजर आती है जीवन कि धारा को समझकर आगे ले जाने कि जरुरत हर बार हर छोर पर होती है
जीवन कि कहानी अलग अलग किस्सों मे बयान होती है जीवन कि सुबह हमे हर बार उम्मीदों कि राह दिखाकर आगे बढती है
जीवन कि कहानी और धारा जिसे समझ लेने कि चाहत हमे  हर बार आगे ले जाती है या जीवन को मतलब कई किसमके देती है
जीवन को कई तरीकों मे समझ ले यही जीवन कि जरुरत होती है या फिर बिना समझे जी लो क्योंकि बिना समझे भी जिन्दगी कई बार गुजरती है
जीवन मे कई दिशाओं मे दुनिया हमारी दिखती है जीवन कि हर रात और दिन मे किस्मत हमारी बनती और बिघडती है
जीवन के हर मोड और हर पेहलू मे दुनिया अलग दिखती है जीवन को बार बार समझ लेने कि हर राह पर अक्सर जरुरत होती है

कविता ५७४. सोच को बदल लेने कि जरुरत

                                       सोच को बदल लेने कि जरुरत
हर सोच को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत होती है जो जीवन मे रोशनी बन के छुपके से आती है पर मुश्किल बात यह होती है
जो हमे हर बार बताती है जीवन कि धारा सीधी कहाँ जाती है जीवन को तो हर पल हर मोड पर बदलने कि जरुरत होती ही है
हर सोच को परख कर आगे जाने कि जरुरत तो होती ही है जो सही दिशाओं मे ले जाती है जीवन कि हर बात मतलब अलग देती है
मुमकिन तो यह बात है कि जीवन का हादसा हर बार जीवन कि सोच बदलकर दिशा कुछ अलग दिखा के आगे लेकर जाता है
जीवन मे कई रंगों कि रंगोली बनाकर आगे बढकर जाता है जीवन मे अलग एहसास देकर जाता है रोशनी को समझकर हमे समझाता है वह जीवन कि दिशाए बदलकर जाता है
हर राह पर जीवन कि सोच एकसी नही रहती है वह जीवन कि दिशाए बदलती जाती है जीवन कि धारा बदल कर जाती है दिशाए बदल कर आगे बढती है
सोच मे कई रंगों कि बरसात जीवन भर होती ही है जीवन कि कहानी उस पर एक अलग असर करके आगे चलती जाती ही है
सोच के अंदर कई उम्मीदे होती है जो सोच को कई इशारे देकर आगे लेकर जाती है जो हमारी सच्ची ताकद होती है पर वह कई बार कमजोर हो जाती है
सोच मे ही जीवन कि लकिर छुपी रहती है जो जीवन को अलग दिशाओं कि उम्मीदे देकर आगे ले कर जाती है रोशनी बन जाती है
सोच कई मोड पर बदलती जाती है सोच को समझ लेने कि कई किनारों पर कई किस्सों मे कई तरीकों के अंदर अक्सर जीवन मे हर बार जरुरत होती है

Monday, 21 March 2016

कविता ५७३. पानी और जीवन

                                         पानी और जीवन
पानी के एहसास को समझ लेने से ही तो जीवन को मकसद मिलता है जीवन को समझ लेना हर बार जरुरी होता है क्योंकि जीवन पानी जैसा हर बार जरुरी होता है
जैसे हम पानी को पकड नही सकते जीवन को पकड लेना भी मुश्किल होता है जीवन के हर धारा को उंगलीओं से बह जाना आता है जीवन को वह नई साँसे दे जाता है
बहना ही तो पानी कि फिदरत होती है पर पानी मे ही तो जीवन रहता है बिना पानी का हर एक दिन बडे मुश्किल से गुजर पाता है
कितनी अचरज कि बात है उसी समुंदर का पानी हमे बादल तो दे जाता है पर उसी वक्त पीने के लिए वह बिना काम का नजर आता है
उसी तरह किसीके लिए किसीका जीवन बोझ नजर आता है पर समुंदर कि हर जीवन अहम हर बार हर छोर पर नजर आता है
पानी तो अलग एहसास तो जीवन मे दे जाता है पानी को अलग अलग मतलब दे जाता है जिसे परख कर आगे जाना जरुरी नजर आता है
पानी मे तो हर पल अलग एहसास है जो जीवन को समझ दे जाये वही छुपा होता है जो हमे समझाए वही सोच को मतलब जीवन हर बार देता है
पानी को पकड नही पाते है उसी तरह जीवन को पकड लेना बडा मुश्किल होता है जीवन तो उँगलियों के बीच से चुपके से निकल जाता है
जीवन को पानी कि तरह समझ लेना ही तो जीवन को मतलब दे जाता है जीवन को रोशनी कि ताकद वही हर बार दे कर जाता है
क्योंकि जीवन कि कहानी भी तो चुपके से जीवन मे हाथों से छुपके से फिसल जाती है जीवन पर अलग असर हर बार हर मोड पर करके ही जाती है

कविता ५७२. सच्चाई को छू लेना

                                                               सच्चाई को छू लेना
जब सच्चाई की बात हो तो वह एक छोर पर नहीं रूकती है उसे जाना होता है उस हर किनारे पर जिसको उसकी जरूरत होती है इसलिए वह कहाँ रूकती है
सच्चाई एक नदियाँ जो हर जगह पर बहती है उसे परखे यह जरुरी नहीं है क्योंकि वह अक्सर कहाँ रूकती है वह छू लेती है हमे और हमारी दुनिया आगे बढ़ती है
सच्चाई की ताकद कुछ ऐसी है जो जीवन को नदियाँ की तरह छू लेती है सच्चाई तो पानी की तरह है जो जीवन में हर शरीर के हिस्से में चली जाती है
सच्चाई को परख लेने की जीवन में हर मोड़ पर जरूरत होती है सच में जीवन को बदल लेना ही जीवन की जरूरत होती  है क्योंकि सच्चाई हर बार यह कर गुजरती है
सच तो वही बात है जिसमे दुनिया हर मोड़ पर मतलब देती है सच ही तो ताकद है जो जीवन को नया विश्वास दे जाती है वह जीवन को सही सोच देती है
सच्चाई तो वही ताकद जो हर मोड़ को बदल देती है सवाल तो यह होता है की हम सच्चाई को ढूँढते है या सच्चाई हमे तलाश लेती है
जीवन के हर छोर को समझ लेने की हमें जरूरत होती है सच्चाई की रोशनी हर बार हमारी दुनिया बनाकर हमें खुशियाँ दे जाती है सच्चाई में ताकद होती है
सच्चाई में हर सोच की जो ताकद होती है वह हमें अपना एहसास दिखाए बिना ही हमारा जीवन बदलकर आगे जाती है हमें ताकद हर बार देती है
सच के हर मोड़ पर दुनिया हमे अलग राह  दिखाती है सच ही बार हमें ढूँढ कर आगे ले जाती है सच्चाई हमारे जीवन की उम्मीदे लाती है नई दिशा दे जाती है
सच्चाई के अंदर अलग बात जो जीवन को रोशनी दे जाती है जीवन के अंदर नई सच्चाई हर बार अपने आप ही नजर आती है जो जीवन को बदल कर जाती है 

Sunday, 20 March 2016

कविता ५७१. एक बात के दो मतलब

                                                        एक बात के दो मतलब
सिर्फ एक बात होने से बात का मतलब एक नहीं होता है एक के मुँह से सही लगती है तो दुसरे के मुँह से वही गुनाह होता है बड़ी अजीब है यह दुनिया हर बात बदलती है
हथियार जवान के हाथ में हो तो सही पुलिस के हाथ में हो बात खूब लगती है पर वही चोर के हाथ में जाये तो कितनी आसानी से लोगों की दुनिया दो पल में उजड़ती है
जीवन की गाड़ी हर बार अलग मोड़ से चलती है कभी सही तो कभी गलत मोड़ पे जाकर अपनी दुनिया बदलती है जीवन की गाड़ी हर बार दिशा बदलती है
जीवन के अंदर अलग अलग सोच जब हमारी दुनिया बदलती है क्योंकि कभी सच्चाई के लिए तो कभी झूठ के लिए वही बात जीवन में कहनी पड़ती है
हमे जरूरत है उस बात को कहने की क्योंकि वही बात तो जीवन में मतलब देती रहती है जीवन की हर बात को अलग अलग दिशाओं में दुनिया समझती है
जिसे हम सीधी कहते है उसे दुनिया जाने क्यूँ टेढ़ी बनाकर समझ लेती है हर बात को तो मतलब से ही परखना पड़ता है क्योंकि मतलब से ही वह बनती है
जीवन की हर धारा को समझ लेने की जरूरत होती ही है अगर जीवन को समझे तो हर बात अलग अलग मतलब देकर ही बनती है
बाते को मतलब देनेवाली चीजे दुनिया को मतलब दे जाती है हमे समझ लेने से ही तो दुनिया जीवन को मकसद देती है जीवन को समझ लेने की हर बार जरूरत होती ही है
बात के अलग अलग मतलब जीवन को अलग एहसास दिलाते है जिनसे दुनिया बदलती है वही बात जो हमे जीवन दे वही बात किसी और के मुँह से मौत की सौगाद लगती है
अलग अलग बातें ही तो जीवन को मतलब देती है पर सच्चा मतलब तो वह बात देती है जो जीवन को एक बात हो कर भी अलग दिशा अलग बनाकर पेश करती है 

कविता ५७०. दिन के अंदर कि सोच

                                               दिन के अंदर कि सोच
हर दिन एकसा नही होता है दिन तो हर बार अपना रंग बदलता है हमे रोशनी देता है और कभी कभी अँधेरा भी जीवन कि सच्चाई होता है
पर अलग सही सोच हो तो जीवन का हर दिन गुजर जाता है नई उम्मीदों के किनारे हमे हर बार मिलते है हमे आगे ले कर जाते है
जीवन कि धारा मे कई बार हम अपनी सोच को समझ लेना चाहते है पर अगर दिशा सही हो दोस्त सही हो तो दिन बदल कर भी बदल कहाँ पाते है
दिन तो अलग अलग मतलब हर मोड पर दिखा देते है जिन्हे समझ लेना हम जीवन कि जरुरत हम हर बार समझ लेते है सोच को अलग तरीके से समझते है
दिन के अंदर अलग अलग रंग हमे रोशनी दे जाते है जिनमे कुछ सही रंग भी होते ही है कुछ सही तो कुछ गलत रंग लेकर हम जीवन जी लेते है
जीवन कि धारा को कुछ अलग ढंग से हम समझ लेते है जिसमे हम जीवन कि खुशियाँ और गमों कि कहानी एकसी हर बार पाते रहते है
हर दिन कि बाते कहाँ एकसी रहती है जीवन कि कहानी हर पल बदलती रहती है जिसे नई शुरुआत हर बार हम देते है जिनके अंदर खुशियों को हम ढूँढ लेते है
दिन का बदलते रहना ही तो दुनिया कि अहम रीत होती है जीवन कि हर बाजी हमे समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर हर मौके पर पडती है
हर बार दिन के अंदर अलग अलग किसम कि सोच हर बार छुपी रहती है जिसकी जीवन मे हर मोड पर चाहत होती है जीवन मे उसे समझ लेने कि जरुरत होती है
दिन के अंदर हर बार अलग एहसास कि दुनिया छुपी होती है जो हर बार हमारा जीवन बदलकर हमारी किस्मत बनती है और बिघाड कर जाती है
पर हर दिन को चाहे तो हि हमारी दुनिया रोशन बनती है क्योंकि कई दिन मिलाकर ही हमारी दुनिया बनती है जो जीवन को रोशनी दे जाती है


Saturday, 19 March 2016

कविता ५६९. दोस्त कि सलाह

                                                    दोस्त कि सलाह
आगे तो जाना है पर बिना हथियार नही जीवन को समझ लेना है पर बिना राह नही जब हतियार कि क्या जरुरत कलम ही काफी होती है
हमे हथियारों कि क्या जरुरत है जब कलम ही हमारे साथ देती है जो बात कहने से हो पाये उसके लिए हथियार कि जरुरत जीवन मे होती नही है
जब दुनिया को समझाने के मौके अभी बाकी है दुश्मन कि सलाह से हथियार उठाना सही नही होता है याद रखो वह दुश्मन है
पर जीवन मे अक्सर यही होता है जब दुश्मन हम पे चिल्लाता है और हमे अपने दोस्त कि आवाज सुनायी देती ही नही है
जो दोस्त हो वह तो अक्सर धीमे से ही कहना चाहता है सबसे सामने तो दुश्मन का चिल्लाना आता है जिसे सुनकर मन गलत राह पर जाता है
जीवन मे हर बार यही गलत राह हमारे जीवन कि राह बनकर आगे आती ही है क्योंकि दोस्त कि नही दुश्मन कि बाते हम सुन लेते है
और गलत राह को समझकर जीवन के अंदर ही हर दिशा आगे बढती है शायद हमारा रुकना सही होता है दोस्त को सुनना सही होता है
क्योंकि उस दोस्त कि बजह से ही तो हमारी खुशियाँ बनती है हमारी दुनिया बनती है तो दुश्मन कि चाल से बचकर दोस्त कि सुनना ही जीवन कि सही राह होती है
हथियार से भी ज्यादा हमारी कलम होती है पर उसे सही ओर ले जाने कि जरुरत होती है जो जीवन कि दिशाए बदलती है हमे सही सलाह कि जरुरत होती है
क्योंकि जब हमारी खुशियाँ मुश्किल मे होती है गुस्से कि आग मन मे जलती है उस पल सही दिशाओं को परख लेने के लिए दोस्त कि जरुरत होती है

कविता ५६८. दूसरों कि अहम बात

                                              दूसरों कि अहम बात
कहनी तो कई बाते जीवन मे होती है जिन्हे समझ लेने पर दुनिया कई बार सही दिशाओं मे मुडती है पर लोग कहाँ वह बाते सुन पाते है जीवन मे कई किनारे होते है
बातों को कहने कि जीवन मे जरुरत तो होती ही है पर कई बार किसी कि जिद्द कि बजह से ही जीवन मे वह बाते कह देनी होती है
जीवन कि धारा मे कई कश्तीयाँ बहती रहती है उन्हे समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर मोड पर होती ही है पर कभी कभी ऐसा भी होता है
बिना मतलब कि कोई बात जीवन दोहराता है पर कई बार कही बाते भी समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर मोड पर अक्सर होती ही है
जीवन मे हर बात जो दूसरे के लिए अहम हो वह हमारे लिए अहम नही होती है पर कभी कभी इन्साफ के खातिर वह बात हमे कहनी होती है
हम कई बाते कहते तो है पर कई बार दूसरे अहम बात हमारे लिए जरुरी होती नही है उस बात को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर होती ही है
बातों को समझ लेने कि जरुरत हर बार होती नही है कभी कभी बात इन्साफ कि होती है यही सोच जीवन के लिए काफी होती है
बात के कई मतलब होते है उन्हे समझ लेने कि जरुरत जीवन के अंदर होती ही है इसलिए ही तो जीवन कि कहानी मतलब पा जाती है
जीवन कि हर बात के अंदर नई सोच होती ही है जो जीवन को अलग सोच आगे ले जाती है क्योंकि जीवन मे हर पल आगे जाने कि जरुरत होती ही है
वह सोच तो हमे बस तब मिलती है जब दूसरों कि जरुरत हो वही सोच हमे मिलती है जो जीवन का हिस्सा बन जाती है जीवन को ताकद देती है

Friday, 18 March 2016

कविता ५६७. अपनी आजादी

                                                    अपनी आजादी
अपनी आजादी तो अक्सर अपने ही दिल मे होती है पर उसे भूला देने कि आदत हमारी मुश्किल बनती है अपनी आजादी तो अपनी ताकद होती है
पर खुद ही हम उसे खो देते है यह हमारी आदत होती है आजादी हमारे जीवन कि एक जरुरी ताकद होती है जो हमे आगे ले जाती है
जीवन मे खुद को समझ लेना हमारी जरुरत होती है आजादी तो हमारे मन के पंखों मे है हमे जीवन मे उन्हे मजबूत बनाने कि जरुरत अक्सर होती है
आजादी जब जीवन को साँसे बनकर मिलती है तभी उसमे दुनिया कि किस्मत जिन्दा रहती है मन कि आजादी ही तो सबसे मेहँगी अमानत होती है
इसलिए लोगों कि उस पर हर बार हर मोड पर गडी हुई नजर रहती है आजादी कि ताकद हमेशा दुनिया कि सच्ची जरुरत होती है
आजादी तो जीवन कि सबसे किंमती चीज होती है पेहचान लो उस आजादी कि अहमियत को क्योंकि उस से ही दुनिया मे किस्मत बनती है
आजादी तो सिर्फ हमारे सोच कि ताकद होती है उसे खो देते है तो दुनिया कि हर राह मुसीबत बनकर आगे बढती है वही हमारी जरुरत होती है
जब पंखोंमे आजादी हो हम उपर तक उड जाते है उनके सहारे से ही तो हम जीवनमे आगे बढते है क्योंकि पंखों मे जो ताकद होती है वह जीवन कि ताकद होती है
आजादीको छिन लेने कि कोशिश तो हर बार दुनिया करती ही है पर उसे बचाने कि ताकद हमे हर बार खुद के अंदर रखनी होती है
आजादी तो जीवन कि जरुरी नीव होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत तो हर बार होती है आजादी तो जीवन को ना खो दे तो दुनिया खुबसूरत होती है
आजादी तो वही सोच है जो जीवन कि कहानी बनती है जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार हमे उम्मीदे देकर आगे ले जाती है

कविता ५६६. भूलाने कि कोशिश

                                            भूलाने कि कोशिश
हर शुरुआत हमे नया एहसास देती है हमे पुरानी बातों कि याद नही रहती है बदले कि आग से दूर रहना ही हमारी आज तक कि राह रही है
पर कभी कभी कुछ बाते जीवन को बदल देती है जब किसी को फिर से आपका शिकार बनते यह नजर देख लेती है
शिकार तो हमे भी अच्छेसे समझ आती है अगर आप फिर से शिकार को निकले तो जीवन कि शिकार करने कि चाहत जिन्दा होती है
जीवन को मतलब तो अलग हर बार मिलते है जब जिन्दगी अपने आपको दोहराती दिखती है जो जीवन को नया मतलब दे जाती है
कई बाते तो भूल जाने लायक ही होती है पर जब गलती दोहराई जाती है तो वह जिन्दगी मे जुर्म बनकर हर बार नजर आती है
जीवन कि बाते तो समझ लेना बडी जरुरत होती है उनके अंदर ही जीवन कि खुशियाँ हर बार होती है जो आगे ले जाती है
जीवन मे ही तो आगे जाने ही कि जरुरत होती है जो हर बार अहम होती है जिनमे जीवन कि खुशियाँ छुपी होती है पर कोई फिर से पिछली बात दोहराये तो उम्मीदे मिलती है
जीवन कि गाडी आगे बढती है पर तभी जब उसे आगे ले जाने कि चाहत होती है जीवन मे जो अलग अलग रंग हर बार दिखाती है
जो बाते जीवन मे आगे ले जाती है उन्हे समझ लेने कि हर बार जरुरत होती है क्योंकि उन्हे समझकर आगे बढने कि जरुरत होती है
हर किनारे के साथ हमे आगे बढने कि उम्मीदे होती है पर कोई पीछे ले जाये तो उनकी गलती भी हमे याद होती है बस उसे भूलाने कि कोशिश होती है
कभी वह पूरी होती है कभी अधूरी रहती है पर दिल चाहता कोई वह याद ना दिलाये उसमे नफरत हर बार जिन्दा रहती है

Thursday, 17 March 2016

कविता ५६५. बातों को समझ लेने कि बजह

                                          बातों को समझ लेने कि बजह
हर बात कहने की कोई निजी बजह नहीं होती है कोई बात सिर्फ सच्चाई के खातिर भी कही जाती है जब जीवन की धारा बदलती है
वही बात जीवन को मतलब देने की बजह बनती है पर दुनिया कहाँ उसे समझ लेती है हर बार बात के कुछ मतलब ढूँढती है बातों को समझ लेने कि कोशिश तो करती रहती है
पर दुनिया को कई बार सीधी बाते समझ नही आती है बात को टेढी बात बनाने मे दुनिया को कि हर बात निकल जाती है नई राह नजर आती है
बातों को सीधी करने के कई तरीके दुनिया को तो आते है जिन्हे समझ लेने मे ही हम अपनी खुशियाँ पाते है पर यह बात दुनिया को हजम नही होती है
कोई बात जीवन को समझमे नही आती है क्योंकि सीधी बात दुनिया टेढी कर के दिखा जाती है बात को सीधी कि जगह टेढी बनाना दुनिया जानती है
पर राह सीधी हो तो डर किस बात का है सीधी राहे भी तो ताकद दे जाती है जीवन के हर पेहलू को बदलकर दुनिया हर मोड पर बदलती जाती है
बातों को कहते रहना जीवन कि कहानी हर बार जीवन को मतलब देना चाहती है जीवन को समझ लेना हर बार अहम तरह कि चीजे जीवन मे रोशनी दे जाती है
सीधी बाते जीवन को टेढी राह को सीधी करना हर बार चाहती रहती है पर दुनिया उन्हे नही समझती है तो क्या सीधी राहे तो सीधी ही रहती है
सीधी राहे तो जीवन मे सीधी बाते दे जाती है टेढी बाते पर जाने क्यूँ दुनिया मन से ही लाती है पर जो सही सोच रखता है उसकी ही सोच आगे बढती है
सीधी राहे तो हमारे मन को अक्सर भाती है तो उन्हे चुन लो क्या फर्क पडता है कि उनमे दुनिया गलत बात ढूँढती है पर सही बाते तो जीवन मे सही ही साबित होती है

कविता ५६४. राह जिसमे हर सोच रहती है

                                              राह जिसमे हर सोच रहती है
जीवन कि हर राह सीधी नही होती है कभी उलझन देकर जाती है कभी कभी अलग सुबह देकर आगे लेकर जाती है
जीवन कि राहों को कई बातों को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर अक्सर होती है उस मोड पर ही तो हमारी दुनिया जिन्दा रहती है
जीवन मे अलग अलग मतलब कि कहानी बनती है जो हमे कई दिशाओं मे लेकर आगे बढती है वह राह मायने रखती है
जीवन मे नई दिशा दिखाती है जो जीवन कि ताकद बनकर आगे चलती जाती है उस राह पर ही तो कई दिशाओं कि सोच मिलती है
कोई राह तो ऐसी होती है जिसमे जीवन के हर किनारे का रंग मिल जाता है जो जीवन मे खुशियाँ पाता है आगे लेकर जाता है
वही राह सबसे बडी होती है जो हर किनारे हर मोड को अपने साथ ले चले उसकी ही तो हमे हर मोड पर जरुरत होती है
जो हमे रोशनी देकर जाती है वह राह होती है जो सबकी बात हमे समझा लेती है हमे आगे लेकर उम्मीदे देकर हर बार जाती है
राह पर अलग सोच जीवन को मतलब तो अलग अक्सर देकर आगे ले जाती है पर जीवन मे एक सोच रखनी होती है
जो हमे कहती है कि जो हर सोच को समझ ले उसी सोच मे अक्सर जीवन कि नई दुनिया जिन्दा रहती है जो साँसे देकर जाती है
आखिर जो सोच हर किनारे पर ले जाती हो उसमे ही हमारी दुनिया जिन्दा रहती है तो उस राह को चुनो जिसमे हर सोच रहती है

Wednesday, 16 March 2016

कविता ५६३. किसी राह को छोडना

                                             किसी राह को छोडना
किसी राह पर चल दे तो जब तक जीवन उसे गलत साबित नही करता हमे उस राह से पीछे मुडना नही आता है राह को समझ लेना नही आता है
जीवन कि धारा मे बदलाव को समझ हम लेते है उस पर जीत और हार को मान भी लेते है पर सिर्फ क्योंकि हम हार गये मुड जाना हमे नही आता है
राह पर हर बार कुछ ना कुछ तो जरुरी होता है उस राह को समझ लेना हमे आसानी से नही आता है जिसमे सिर्फ जीत के लिए सही सोच को छोडना होता है
जीवन मे कई राहे तो आती है कई मोड और कई बाते हमे दे कर जाती है उस राह को जिसमे हमे सही दिख जाए उसे भुलाना हमे नही आता है
जीवन को तो कई बार कई दिशाओं मे हम समझ तो लेते है जीवन कि कहानी को खुदके फायदे के लिए मोड देना हमे नही आता है
राहों मे तो अक्सर लोग सोच को बदलते है पर असल सोच वही है जो जीवन को सही राह दे उसे सिर्फ छोटीसी जीत के खातिर भुला देना हमे नही आता है
जीवन कि राहों पर अलग अलग किस्से तो होते है पर किसी खयाल को समझ लेने के खातिर जीवन का मतलब गलत दिशा मे मुडना हमे नही आता है
सही राह को समझ तो हम लेते है पर उस राह को परख लेना और फिर जीत के खातिर उसे छोड देना हमे नही आता है
जीवन कि हर साँस मे सिर्फ सही का एहसास हो वह राह समझ लेना हमे आता है पर उस राह को किसी के कहने पर बदलना हमने नही सीखा है
जब सही राह पर हो तो हम सोचते है मुश्किल जिन्दगी आसान होती है हर बार हमारी जरुरत बनकर दुनिया मे खुशियाँ दे जाती है
जिन्दगी मे हर बार जरुरत सिर्फ खुशियाँ होती है जो जीवन को हर बार सही मोड पर हमे आगे ले कर जाती है रोशनी दे कर आगे बढती है

कविता ५६२. खुशियाँ और नफरत के किनारे

                                              खुशियाँ और नफरत के किनारे
किसी बात को भुलाने कि जब नौबत आती है वह नफरत कि जगह खुशियाँ होती है यही तो जीवन कि गलत राह होती है पर उस पर ही दुनिया चलती है
पर आजकल यही हमारी दुनिया सोचती है हमे सही दिशाओं का इन्तजार रहता है खुशियों को भूल जाने से जाने क्यूँ हमे एतराज होता है
बातों के हर बार अलग मतलब जीवन मे अक्सर निकल आते है बातों मे ही तो जीवन के किस्से छुपे होते है जो जीवन को आगे ले जाते है
हर बात के अंदर अलग अलग एहसास होते अगर प्यारे एहसासों को साथ मे रखो तो दुनिया सुंदर बन जाती है जीवन को साँसे दे जाती है
खयालों मे नफरत कि नही बस खुशियों कि जरुरत होती है आखिर खुशियाँ ही हमारी जिन्दगी होती है जीवन मे जरुरी होती है
जीवन मे हर बार हमे बस उम्मीदे मिल जाती है वही राह जीवन मे सही होती है जो हमे आगे हर बार ले कर जाती है
खुशियाँ और नफरत दोनों किनारों पर ही तो होती है हमे हमारी कश्ती सही किनारे लगानी होती है खुशियाँ ही हमे ढूँढनी होती है
जीवन कि गाडी हर बार अलग अलग सोच दे कर आगे बढती है सोच को परख लेने कि हर बार हमे जरुरत होती है बस खुशियाँ रखने कि ही जरुरत होती है
पर गलती से अक्सर जीवन मे यह बात हम भुल जाते है नफरत ही तोहफा बन कर जीवन का साथ निभाने चली आती है
नफरत हर बार गलत सोच ही होती है अगर उसे अपने पास रखने कि आदत हमे हो जाती है क्योंकि हमारी कश्ती अक्सर गलत किनारे पर रुक जाती है

Tuesday, 15 March 2016

कविता ५६१. दिल का गुस्सा

                                                     दिल का गुस्सा
क्या कहे कोई कुछ धमका दे मन सह नही पाता रोकना तो चाहता है खुदको पर मुँह रुक नही पाता कह देता है मन भी क्योंकि मन चुप नही रह पाता
हम जानते है कि आग से आग बढती है पर पानीकी तलाश मे रुकना पडता है थोडा मुश्किल है हो जाता जीवन मे आँधी से गुजरना आता है पर गुस्से को पी जाना नही आता
कोई गलती से कितनी भी बडी चोट दे जाए तो उसे सहना हमे है आता पर समझकर मारा हुआ कागज भी हमे पत्थर है नजर आता
जीवन को कोई खेल समझकर खेले पर हम उसे किताब समझकर पढते है और किसी भी पढी हुई किताब फेक देना हमे नही आता
जिसे डर लगता है जीवन मे उस हर एक चीज से लढना हर बार हमे है भाता तो कोई धमका दे तो बिना जवाब के आगे बढना हमे नही आता
जिस सोच मे शांती हो उसी पर चलने कि चाहत है पर अगर कोई हमारी राह को काटे तो जाने क्यूँ शांत रहना हमे नही आता
कई बार समझा लिया इस मन को कि तू रुक जा थप्पड का जवाब थप्पड नही होता इसलिए वह रुका है पर गुस्से भरी आँखों को वह रोक नही पाता
जीवन मे कई बार सुनी है लोगों कि कैसी बाते कि समझ गये है हम उपरवाला ही जिन्दगी और मौत है देता इसलिए डरना हमे नही भाता
जीवन मे धमकाना तो हर किसी को आता है जो मुसीबत मे साथ दे वह मुश्किल से मिल पाता है ऐसे इन्सान के खिलाफ दिल कहाँ कुछ समझ है पाता
पर फिर भी एक बार कुछ कह देने पर दिल पीछे हट जाना चाहता है क्योंकि कि हमारा दिल हर बार गलत सोच को रखता है दिल उसे सही रखने कि उम्मीद है पाता

कविता ५६०. बंजारे कि किस्मत

                                                       बंजारे कि किस्मत
हर बार दुनिया का रंग बदल देती है उसे एहसास नही होता है हम भी उस वक्त हम बदलते जा रहे है काश उस पल यही बात दुनिया समझ लेती
पर जीवन कि कहानी इतनी आसान नही होती है वह सीधी राहे हर बार नही देती है या फिर यह कह दे जिन्दगी समझ देती है पर समझदारी नही आती
दुनिया तो अपनी ही धून मे जीती है हमे कोसती रहती है अपनी जीत कि खुशियाँ मनाती रहती है यह नही कभी समझ पाती सिर्फ एक ही दुनिया नही होती
एक बंजारा मन जब दर्द पाता है अक्सर खुशियों कि तलाश मे कही दूर निकल जाता है दुनिया उसकी प्यास मे लोगों को तरसते देखना है चाहती
दुनिया हमे कई राहे देकर जाती है पर उन राहों को समझ लेने कि जरुरत हर बार हमे होती है पर हम कोई अलग राह चुन लेंगे यह दुनिया नही समझ पाती
जब आप इन्कार कर देते तो राह बंद हो जाती है पर दुनिया को लगता उनकी राहे हर पल जिन्दा रहती है जो उनको जीवन मे हर पल रोशनी देगी
दुनिया को कई रंगों के एहसास को समझ लेने कि आदत नही होती चोट दे कर अक्सर गलती भुला देने कि जीवन मे बडी बूरी आदत है होती
जब कोई दरवाजा बंद कर दे तो बंजारा कोई ना कोई घर ढूँढ ही लेता है दुनिया को लगता है बंजारे को घर ना मिल पायेगा पर बंजारे कि किस्मत वह उसे दे जाती है
दुनिया यह नही समझ पाती कि बंजारे कि किस्मत दुनिया नही उपरवाले की मर्जी करती है वही उसे कई बार उम्मीदों कि कश्ती है देती
बंजारे कि उम्मीद अक्सर हर बार उसे बदल देती है उसे बंजारा नही रखती पर जीवन मे दुनिया को उसे समझ लेने कि जरुरत हर बार नही लगती
पर जब कभी उसे उम्मीदे मिलती कई ओर दिशा मे उसकी किस्मत बनती है उस किस्मत पे रंज करना दुनिया अक्सर भुला नही पाती 

Monday, 14 March 2016

कविता ५५९ रेत और पत्थर

                                                     रेत और पत्थर                              
रेत के महल बनाना और मिट जाना जीवन मे होता ही है रेत को समझाने से अच्छा है हम खुद ही समझ ले उनका टूँट जाना अच्छा ही है
क्योंकि रेत कि फिदरत होती है टूँट बिखर जाना है उसे समझ लेने तो हो सकता है पर उसे समझ लेना जरुरी होता है जो जीवन को मतलब दे जाता है
रेत तो फिसलती रहती है जिसे समझ लेना हर बार हम चाहते है पर कभी कभी रेत को परख लेना जरुरी हर मोड पर होता ही है
रेत को समझ लेना जीवन कि जरुरत होती है क्योंकि रेत को बदलना नामुमकिन बात ही होती है रेत जो हमारे जीवन को अलग एहसास देती है
जो महल मे बदल कर सपने जोड लेती है उसे समझ लेने कि जरुरत हर बार होती है क्योंकि वही रेत फिसल कर हाथों से छुट भी जाती है
रेत को समझ लेना जीवन कि जरुरत होती है जो हमे नया एहसास दे जाती है फिसल जाना ही तो रेत कि हर मोड कि जरुरत होती है
रेत अपनी जगह सही होती है नये महलों के लिए पुराने महल को मिटाना जरुरत होती है पर हमारी दुनिया वह बात कहाँ समझ पाती है
रेत को समझाने कि नही शायद हमे समझ लेने कि जरुरत होती है राह वही देने कि जरुरत होती है जो हमे नई सुबह दे कर जाती है
हाथ से फिसल जाना ही रेत कि आदत होती है उसे मजबूती कि जरुरत नही होती है मजबूती तो पत्थर फिदरत होती है
आखिर रेत से ही पत्थर बनते है और पत्थर से ही रेत बन पाती है दोनों कि कहानी अलग अलग ही होती है जो जीवन मे असर कर जाती है
पत्थर को रेत या रेत को पत्थर बनने कि जरुरत नही होती है क्योंकि जीवन मे अलग अलग मोड हर बार दिखा जाती है

कविता ५५८. मौके पर अनसुनी आवाज

                                                मौके पर अनसुनी आवाज
किसी मौके पर किसी आवाज ने हमसे कुछ कहा था हमने अनदेखा कर दिया उस पल से इस पल पर उस आवाज को सुनना जरुरी लगता है
जिस मौके पर जीवन मे अलग एहसास सुनना है उस पल जीवन कि धारा को उस मोड पर ही तो चुनना है जीवन के अंदाज को उस पल ही सुनना था
जीवन को परख लेते है तो जीवन को अंदाज जुदा होते है जीवन को हर पल वही अलग साँस दे जाते है एहसास दे कर आगे बढ जाते है
जीवन को मतलब तो हर बार मिलता है जिसे समझकर जीवन को जिन्दा रखना हमे एहसास देता है जो हमे हर पल रोशनी दे जाता है
जो हमे जीवन को मतलब तो हर पल आगे ले जाता है पर जीवन कि बाते कभी कभी अनदेखी रह जाती है दिशाए बदल देती है
हर मौके मे ही अलग अलग एहसास होते है जो हमे आगे ले जाते है पर कभी वही एहसास हमे समझ नही आते है वही ताकद दे जाते है
मौके के अंदर ही तरह तरह के मतलब छुपे होते है जो जीवन मे नया मकसद दे जाते है पर कभी कभी कुछ मकसद देर से समझ आते है पर वह बात बूरी नही होती है
बातों मे ही तो दुनिया कि सच्ची ताकद होती है पर कभी कभी वह बात उस वक्त समझ नही आती है गलत समझकर जिन्दगी निकल जाती है
पर जो वक्त पर उसे फिर से समझ जाता है उस मे ही जीवन कि सही ताकद होती है जो हमे रोशनी दे जाती है खुशियाँ देकर आगे ले जाती है
क्योंकि वही तो जीवन को मतलब दे जाती है कभी कभी गलती से भूल जाये तो भी वह जिन्दगी अहम हर बार होती है
उसे जो वक्त रहते ही सुन लेता है उसकी दुनिया रोशन होती है जो जीवन को मतलब और मकसद देकर आगे लेकर जाती है

Sunday, 13 March 2016

कविता ५५७. किसी और कि कहानी

                                                 किसी और कि कहानी                                      
कितनी बाते होती है जिन्हे समझ तो लेना चाहते है कितने मामलों को हम परख तो लेना चाहते है पर हर यह बात मुमकिन नही होती है हर बार जीवन कि हर कहानी हमारी अपनी नही होती है
ऐसी कहानी को बेहतर है के अंदर हर जीवन मे वही छोड दे क्योंकि ऐसी कहानी जीवन का हिस्सा नही होती है जिसे समझ लेने कि जरुरत नही होती है
क्योंकि हर कहानी को समझ लेने कि जरुरत हर बार जीवन को मतलब दे जाती है जिसे परख लेने कि अहमियत हर बार जीवन मे होती है
कहानी तो हर बार अलग अलग मोड से बनती है उस कहानी को समझ लेने कि जरुरत जीवन को हर किनारे मे हर मोड पर जरुर होती है
पर जब कोई कहानी हमारी नही होती तो वह हमे अंदर जाकर जीवन को बदल देने का हक्क कभी नही देती है वह जीवन मे हमे चुप रहने कि सलाह हर बार देती है
जिसे हम समझ लेने कि आदत हमे तो है पर हर बार उसे परख कर सही करने कि जरुरत हमे नही होती है क्योंकि वह कहानी हमारी नही होती है
कहानी मे हर बार कई मोड तो आ जाते है पर वह कहानी जीवन कि निशानी सही नही कर पाती है क्योंकि वह कहानी तो किसी ओर को सुननी और सुनानी है
जीवन कि हर धारा को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर हमे तो होती है पर फिर भी जीवन कि कहानी सीधी नही बन पाती है आसान नही होती है
कहानी के हर मोड को समझ लेने कि जीवन मे चाहत जरुर होती है पर फिर भी उस कहानी कि दिशाए हमारी समजझमे नही आती है सही मोड नही देती है
कुछ बाते हम कह दे पर फिर भी दूसरे कि आवाज समझ लेने कि जरुरत हर बार हमे होती है पर हर कहानी को हमारी जरुरत नही होती है तो उसे क्या सही बताए जिसे हमे सुनने कि चाहत नही है

कविता ५५६. बातों को ना दोहराना

                                                   बातों को ना दोहराना
हर बार बात दोहराने से अच्छा है किसी पल चुप ही रह जाये तो वही एहसास बडा सही लगता है पर मन कहाँ चुप कर पाते है
मन कि सोच को कहाँ समझ पाते है बरदाश तो करने को कहता है पर मन हर बार अंदर अलग सोच ही जिन्दा रखता है
जब कोई बात दुबारा कही जाये तो वह अक्सर जीवन मे मतलब नही रखती है जो जीवन को अलग आईना हर बार हर मोड पर दिखा जाती है
बात को फिर से कहना जीवन कि जरुरत होती है जो हमे हर बात बताती है जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर मोड पर आगे ले जाती है
क्योंकि जिसे सुनने कि चाहत ना हो उसे बात बताने से मन कि सोच हर बार रोकती है जीवन मे कई बाते समझ लेनी पडती है
बातों को बार बार कहने से मन को वह बात दर्द देती है अलग एहसास दे जाती है बातों को समझ लेने कि जरुरत जीवन मे हर बार होती है
जीवन कि हर पल एक अलग सुबह होती है जो हमे नई शुरुआत देती है जिसे परख लेने कि जीवन मे जरुरत होती है जो जीवन को नई शुरुआत देती है
कोई बात समझ लेने कि चाहत ना हो तो जीवन मे बस रात ही रहती है जीवन मे सुबह को समझ लेने कि हर पल जरुरत होती है जो हमे आगे ले कर जाती है
जीवन मे अक्सर सतरंगी दुनिया कि रोशनी हर किरन मे होती है पर अलग कोई सच बात दब जाये तो जहर बन कर बाहर निकल आती है
मन मे कहाँ बात दब पाती है बात तो हर बार अलग सोच लेकर बाहर ही आ जाती है तो दबी बात ही हर बार अलग कहानी बनाती है

Saturday, 12 March 2016

कविता ५५५. सतरंगी दुनिया

                                                सतरंगी दुनिया
सात रंगों से ही दुनिया कि बहार बनती है जो जीवन को खुशियों कि सौगाद देती है हर रंग मे ही हमारी किस्मत बनती है जिससे हमे साँसे मिलती है
हर रंग मे ही जीवन कि धारा बन पाती है जो हमे नई शुरुआत देती है हर रंग मे ही तो जीवन कि कहानी रंगीन होती है
रंगों मे हर पल नया एहसास जिन्दा होता है जिससे हमारी दुनिया बनती है हर रंग मे जीवन का अलग एहसास जिन्दा होता है
उन सतरंगी एहसासों को जीना हमारी आदत होती है हर रंग मे अलग मुस्कान होती है जिसमे खुशियों कि लहर हर बार जिन्दा होती है
रंगों मे ही जीवन को मतलब देनेवाली सौगाद होती है जो हमारे जीवन कि जरुरत होती है जो जीवन कि कहानी हर मोड पर होती है
रंगों मे ही तो हमारी दुनिया बसती है जो जीवन कि नई शुरुआत और नई धून होती है जो जीवन का संगीत बनकर जीवन मे आगे जाती है
रंगों मे ही तो हमारी किस्मत रहती है जो जीवन को नई शुरुआत होती है उन रंगों से ही जीवन कि कहानी बनती है जो हमे ताकद देती है
हर रंग मे जीवन कि ताकद होती है उन रंगों को समझ लेने कि चाहत तो है पर जीवन मे उन्हे जीने के सिवा किसी चीज कि फुरसत कहाँ है
पर रंगीन ही जीवन कि हर बाजी होती है जीते चाहे हारे दोनों से ही हमारी कहानी बन पाती है हमारी दुनिया बन जाती है
किसी रंग को समझ या ना समझे रंग हम पर असर हर बार जरूर कर जाते है क्योंकि वही तो उन रंगों कि आदत होती है फिदरत होती है
कभी हमे उनसे चाहत होती है तो कभी नफरत होती है पर उन्हे जीने कि हमे हर बार जरुरत होती है वही हमारे जीवन कि चाहत होती है

कविता ५५४. दुनिया ने दियी चोट

                                                       दुनिया ने दियी चोट
कितना सुने हम इस दुनिया कि, अपनी बात तो बतानी ही थी कब तक चुप रहते हम आवाज कभी ना कभी तो मुँह से आनी ही थी
इस दुनिया कि रीत निराली है चोट तो हर बार मन को लग जाती ही है जिसे समझकर आगे बढ जाते है तो ही दुनिया मिल पाती है
कितने देर चुप रहते है हम जीवन मे कुछ पलों के बाद जीवन कि बाते हमे कहनी ही पडती है हमे हर पल हर कदम दुनिया कि हकीकत समझ लेनी पडती है
जीवन को समझ लेते है तो जीवन कि धारा को बदल कर आगे जाने कि जरुरत पडती है दुनिया हर बार अलग अलग रंग देती है
जीवन मे अलग तरह कि ताकद दे जाती है जो जीवन मे हमारे एक दर्दसा देती है जो हमारी चोट को मतलब देती है वह हमारी ताकद होती है
जो हमे एक कोशिश दे जाती है जो जीवन मे रोशनी दे जाती है जिसे समझ लेने कि जरुरत हर बार हमे होती है और उसकी चाहत मे तकलिफे सहनी पडती है
चोट ही तो किसी मोड पर जीवन कि सच्चाई होती है वही तो आखिर हमारी आवाज और आदत बनती है जीवन मे उसकी जरुरत होती है
जीवन कि कहानी साँसों मे एक पेहचान देती है जो हमारी जीवन कि कहानी मे दर्द कि शुरुआत हर बार बन कर आगे बढती है
चोट से ही दुनिया कि हकीकत बनती है आखिर चोट से ही तो दुनिया कि समझ बनती है जो हमारे जीवन कि कहानी बनती है
पर आखिर एक सवाल तो अक्सर हमारी सोच पूछती है हमारा तो भला भी हो जाये पर हमेशा चोट देनेवाले बरबादी ही पाते है
फिर भी जीवन कि धारा मे लोग जाने क्यूँ चोट तो देते ही रहते है दूसरों को जीवन मे हर बार जाने क्यूँ दर्द देना ही हर बार चाहते है

Friday, 11 March 2016

कविता ५५३. अलग तरीके

                                              अलग तरीके
हर बार जीवन को अलग तरीके से समझाते पर जाने क्यूँ जीवन मे कुछ किस्से बाकी ही रह जाते है जीवन को हर बार अलग तरीके से पाते है
हर सुबह फिर अलग तरीके हमे दिख जाते है जीवन को हर एक सुबह हम समझ लेना चाहते है उसे परख कर हम आगे ले जाना हर पल चाहते है
अलग अलग दिशाओं मे तो हम जीवन मे जाते है उनके अंदर ही दुनिया को जिन्दा रखना हम हर बार हर मोड पर चाहते है
जीवन के कई तरीके है जो जीवन को मतलब दे जाते है हर सुबह हम जीवन को समझकर हर बार हर बात को परख लेना चाहते है
कई तरीके जिन्हे हम समझ लेना जरुरी समझते है जो हर बार समझ लेते है हम जीवन को मतलब हर मोड पर अलग मतलब दे जाते है
तरह तरह के तरीके से हम जीवन को समझ तो लेते है पर हर बार किसी अलग खयाल के साथ हमे नये मोड पर पाते है
कई किनारे और कई तरीके अपनाकर हम जीवन कि सोच बदलते जाते है जीवन को समझ लेना चाहते है उसकी दिशा बदलते जाते है
जीवन को एक तरीके से समझ तो हम लेते है पर जीवन को हर सुबह कुछ अलग ही पाते है उसमे अलग अलग किनारे नजर आते है
कई तरीके तो जीवन कि कहानी बताते है जिन्हे हम समझ लेना चाहते है पर कुछ तरीकों से ही तो जीवन कि दुनिया आगे बढती है
एक तरीके से कहाँ किस्मत बनती है जीवन को जो हर सुबह समझे उसकी तो दुनिया रोशन होती है उसे सच्ची खुशियाँ मिलती है

कविता ५५२. कोई खयाल

                                                     कोई खयाल
हर मोड पर कुछ तो असर होता ही रहता है जब कोई खयाल जीवन को जिन्दा कर जाता है जिसे पाने पर जीवन बदल जाता है
सोच को समझ लेना हर बार सही एहसास और मकसद दे जाता है जो हमारी जीवन के किनारों से बदलाव हर बार नजर आता है
किसी खयाल को समझ लेना ही जीवन को मतलब दे कर आगे बढाता है जीवन मे खयालों से ही रोशनी होती है जिन्हे जीने से ही किस्मत बनती है
हर खयाल मे ही जीवन मे अलग अलग मोड आते है जिनमे दुनिया कि जरुरत होती है हर साँस हर सुबह छुपी होती है
हर लम्हा उस खयाल का एहसास होता है जो जीवन को नई दिशा दिखाता है जीवन मे रोशनी कि शुरुआत देता है
किसी खयाल को बार बार परख ले तो दुनिया कि रोशनी बनती है पर हर खयाल उतना प्यारा नही होता है कोई खयाल चोट कि बजह बन जाता है
पर किसी खयाल पे रुकना ही सही मकसद दे जाता है उस खयाल कि आवाज से ही दुनिया मे अलग एहसास मिल जाता है जो मतलब दे जाता है
हर खयाल मे तलाश तो जीवन कि हर बार होती ही है जिसे समझकर आगे बढने मे ही हमारी किस्मत बनती है उसमे ही कई परछाई दिखती है
किसी खयाल से ही जीवन को मतलब दे जाती है जिसमे जीवन कि अलग कहानी हर बार हर राह पर आसानी से जिन्दा हो जाती है
उस खयाल मे ही जीवन कि ताकद छुपी होती है जो हमे नई शुरुआत दे के साथ ले जाती है नई उम्मीदे और रोशनी कि ताकद दे जाती है
किसी खयाल मे ही जीवन कि कहानी खुबसूरत होती है जो हमे सच्ची ताकद देकर आगे ले जाती है जीवन कि कहानी को अलग समझ दे पाती है

Thursday, 10 March 2016

कविता ५५१. मौसम कि आवाज

                                           मौसम कि आवाज
हर मौसम कि आवाज कोई कहानी तो कहती है कोई किस्सा सुनाती है हमे जीवन का हिस्सा चुपके से बना लेती है
हर मौसम के सहारे जीवन कि कहानी बदलती है जो जीवन कि हर लहर को अपनी सौगाद बना देती है जीवन कि अलग मिसाल बन जाती है
मौसम के अंदर जीवन को समझ लेने कि जरुरत हर बार लगती है जो हमारी दुनिया को मतलब दे जाती है पर एक बात तो बहोत बूरी है
उस बात को समझ लेने कि जरुरत हर मौसम मे होती है मौसम के बदलाव को ही समझ लेना जीवन कि सबसे बडी अहमियत होती है
मौसम तो बदलते जाते है पर उनके अंदर ही साँसे उम्मीदे भर देती है जिन्हे समझ लेने कि हर मोड पर अक्सर जरुरत होती है
मौसम कि हर परछाई हमे आँसू और मुस्कान दे जाती है चाहे कितना भी इन्सान आगे बढ जाये पर उसके मन के कोने मे मौसम कि हुकूमत होती है
बदलते मौसम के साथ हमारी किस्मत हर पल बदलती है उस मौसम को समझ लेने कि दुनिया मे हर मोड हर राह पर जरुरत होती है
मौसम के ताकद पर ही कई बार हमारी किस्मत बनती और बिघड जाती है मौसम के अंदर ही दुनिया कि जीवन कि हकीकत छुपी होती है
मौसम तो हर मोड पर बदलता है जीवन मे मौसम को समझकर जी लेने कि हर बार जरुरत होती है मौसम के अंदर ही जीवन को सही करने कि ताकद होती है
मौसम के बदलाव से ही दुनिया बदलती है जीवन मे मौसम को बदल लेने कि हर बार जरुरत पडती है जो जीवन पर हर बार असर करती है

कविता ५५०. आवाज कि पेहचान

                                               आवाज कि पेहचान
आवाज को पेहचान लेते है तो दुनिया मे बस नया साज सुनने को हर बार मिलता है जिसमे जीवन को समझ लेने का मकसद उस आवाज से ही मिलता है
आवाज को परख लेने कि कहानी जीवन को नया एहसास दे जाती है आवाज मे ही जीवन कि कहानी हर बार बनती और बिघड जाती है
हर धून मे जीवन कि आवाज जब जीवन को समझ लेने मे ही खुशियों कि सौगाद देती है जीवन मे नई धून हर मोड पर मिलती है
आवाज को समझ लेने मे ही कभी कभी दुनिया भर कि खुशियाँ मिलती है आवाज के अंदर जीवन को मतलब देने कि ताकद होती है
कभी कभी वही आवाज दुनिया को चोट दे जाती है कोई आवाज जो गलत नजर आती है हमारी दुनिया हर पल बदलती नजर आती है
आवाज को समझ लेना ही तो जीवन कि जरुरत होती है पर अगर वही गलत हो तो दुनिया बिघड जाती है गलत ओर चली जाती है
जीवन मे आवाज को मतलब दे जाने कि ही दुनिया को जरुरत होती है जो हमे सही दिशाए हर बार देकर आगे बढती चली जाती है
जीवन कि राह सीधी नही होती जब वह कोई मतलब खयाल दे जाती है आवाज के अंदर कि ताकद ही तो दुनिया का एहसास होती है
पर उसे चुनना बडी मुश्किल बात होती है जो जीवन कि कहानी को अलग मोड हर बार देकर आगे बढती चली जाती है जब मुस्कान को पाने कि चाहत होती है
जीवन मे मुस्कुरा लेने कि जरुरत कुछ ज्यादा ही होती है आवाज से ही तो हमारी दुनिया अलग दिशा लेती है उसे समझ लेने कि जरुरत होती है

Wednesday, 9 March 2016

कविता ५४९. सुबह कि रोशनी या रात कि चांदनी

                                         सुबह कि रोशनी या रात कि चांदनी
सुबह कि रोशनी या रात कि चांदनी दोनों मे चुनने की नौबत कभी कभी आती है जो जीवन को शुरुआत दे कर आगे बढ जाती है
दोनों ही जीवन मे अक्सर जरुरी नजर आते है उनसे ही हमारी दुनिया बनती है क्योंकि उनमे ही तो सच्ची खुबसूरती दिख पाती है
हर बार जीवन मे चीजों को चुनने कि जरुरत नही होती है कभी कभी कई चीजे मिल जाती है यह खुदा कि रहमत होती है
क्योंकि दोनों रोशनीयों कि हमे जरुरत होती है उनमे ही तो हमारी किस्मत होती है इसलिए तो दोनों मिलती है हमे क्योंकि यह हमारी खुश किस्मत होती है
दोनों ही तो हमारी जरुरत होती है ताकद होती है उनसे ही हमारी दुनिया जन्नत होती है उनमे ही तो हम जीवन को मतलब देते है
कभी रात तो कभी दिन हमारी जरुरत होती है जीवन मे दोनों कि हमे चाहत होती है उनमे से एक को भी खो दो तो दुनिया मे मुसीबत होती है
तो क्यों चुने किसी एक सोच पर कहाँ दुनिया निर्भर होती है रात और दिन दोनों कि हमे जरुरत हर बार हर वक्त होती ही है
जीवन मे दोनों पलों कि रोशनी अहम होती है जिसकी हमे जरुरत हर बार होती है उस रोशनी कि ताकद पर ही हमारी दुनिया जिन्दा होती है
जीवन मे दोनों किनारों को दोनों रोशनीयों कि कहानी हमारी जरुरत होती है क्योंकि वही कहानी हमारे लिए खुबसूरत होती है
सिर्फ लोग कह रहे है इसलिए क्यूँ चुने हम जब के हमारे लिए दोनों चीजों को दिया हुआ है तो उनकी कदर करने कि हमे जरुरत होती है

कविता ५४८. जाने की राह

                                                                जाने की राह                                   
कुछ लोगों को गिराने की क्या जरूरत है हमे सिखाया गया है गिरे हुए लोगों को गिराया नहीं करते है हम तो वह है जो राह ढूँढ ही लेते है अपनी राह के लिए किसी को गिराया नहीं करते है
राह तो हमारी बनाता है वह खुदा जिस से जिन्दगी में हम कभी नहीं डरते है जीत तो उसकी होती है जो जीवन में अपनी हार से किसी पल भी डरा नहीं करते है
पत्थर तो अापने बिछाए है इतने हमारे राह में की अब हम काटों से भी डरा नहीं करते है चोट तो लगती है हर पल पर दर्द में रोने की फुरसत कहाँ हमारे जिन्दगी में आपकी मेहरबानियों से अब हम डरा नहीं करते है
अजी रास्तों पे पत्थर बिछाना आपका शौक था तो हम पे इल्जाम क्यूँ है हमारी छोटीसी चोट से डर गए हो के हमारी आवाज अभी आपके लिए एक मौत का पैगाम लग रही है
उस नाटक को बंद कर दो कही भगवान इस पे हस के न कह दे इस इन्सान को बनाया सिर्फ तेरे पहले इम्तिहान के लिए अभी हस लो इस पे ही आगे के इम्तिहान इतने आसान ना होगे आपके लिए
जीवन को समझ लेना जरूरत है हमारी क्योंकि दूसरों के आँसू मजाक नहीं होते है हमारे लिए जो खुद के जिम्मेदारिओं से भागे वह क्या कर सकेंगे ज़माने के लिए
अजी बात तो आपकी सुनकर लगता है पहली बार तूफ़ान की आवाज गूँजी है जिन्दगी में आपके लिए पर हमने तो सुना था आपने बहोत साहा है पर अल्फाज बताते है वह बात थी दिखाने के लिए
जो चोट खाते है उनके पास आँसू नही होते दिखावे के लिए जनाब यह तो बस शुरुआत है अभी कई शेर बाकी है लोगों को सुनाने के लिए आपकी सच्चाई दिखाने के लिए
सुना है आपकी तारीफे होती है पर लोगों का क्या है भगवान की मूरत को भी ठुकराते है कभी दौलत के लिए हमें उम्मीद है कम से कम आप उन्हें वह तो देंगे पर हम यह भी जानते है
जो भगवान को लुटे वह क्या देगा किसीको बहाने के लिए उस गिरे हुए के क्या पास जाना दूर से हम बना लेंगे अपनी राह आगे जाने के लिए उसका करम रहा तो जीवन में कई राहे मिल जायेगी जाने के लिए 

Tuesday, 8 March 2016

कविता ५४७. जिन्दगी को समझ लेना

                                                  जिन्दगी को समझ लेना
जब कुछ समझ जाये तो जिन्दगी अक्सर बदल जाती है जीवन कि समझ लेना हर बार जरुरी होता है जो हमे रोशनी दे जाता है
क्या हम समझ पाते है वही तो हमे आगे ले जाता है नई रोशनी दे जाता है नई शुरुआत देता है समझ देता है उम्मीदे दे जाता है
समझ का हर एहसास हमारी दुनिया बदल देता है हमे आगे ले कर जाता है जीवन मे कई रंगों कि ताकद दे जाता है
अलग कहानी बना कर जीवन को खुशियों कि सौगाद दे कर जाता है जो हमारी दुनिया बनती है उसे समझ दे जाता है
दुनिया को तो हर पल समझ लेना ही होता है क्योंकि पल पल हमे जीवन का सफर अलग एहसास देता है रोशनी कि ताकद दे जाता है
हर पल मे ही जीवन कि कहानी लिखी होती है जिसे परख लेने कि जरुरत हमे हर मोड पर अक्सर होती ही है जीवन मे कोई खयाल जिन्दा हो जाता है
जिन्दगी कि हर कहानी समझ लेना जरुरी होता है जो जीवन को उम्मीदे दे जाता है हमारे आसमान मे सतरंग देनेवाली समझ ही मायने रख जाती है
समझ तो अक्सर हर किसी कि अलग होती है पर उसे परख लेने कि जीवन को जरुरत होती है जो बात हमे सच्चाई दिखा सकती है
सही सोच समझ लेने कि हर बार जरुरत होती है पर सही सोच से जीवन कि हर बात बदल जाती है जीवन कि सही सोच समझ लेनी जरुरी होती है
पर लगातार सोच को सही बना लेने कि जीवन को जरुरत होती है जिसमे जीवन को समझ लेने से ही दुनिया बन पाती है जो रोशनी दे जाता है
जीवन कि समझ सही हो यही तो हमारी दुनिया कि सही सोच या जरुरत हर बार होती है जो हमे आगे ले जाने कि उम्मीदे दे जाती है

कविता ५४६. कोई खयाल

                                                   कोई खयाल
किसी खयाल से क्यूँ डरना जब उसमे ही जीत होती है किसी खयाल से ही तो दुनिया कि रीत बनती है उसमे ही जीत होती है
हर खयाल को परख तो लेते है हम क्योंकि उनमे ही जीवन कि कोई धून दिखती है जीवन कि अधूरी कहानी ही तो दुनिया कि रीत बनती है
हर खयाल मे कई कोने होते है जिनमे दुनिया कि जीत दिखती है हर कोने को समझ लेते है तो हमे एक अलग मतलब कि ताकद दिखती है
जीवन मे कई किनारे तो होते है जिनमे जीवन कि कहानी बनती और बिघड जाती है पर जीवन मे आगे जाना ही दुनिया कि रीत होती है
किसी खयाल पे रुकने से दुनिया कहाँ बनती है जो जीवन को रोशनी दे जाती है वह कहानी दुनिया मे अक्सर कम ही बना करती है
जिसे हर साँस मे समझ ले वही दुनिया हमारी होती है जो समझ न पाये वह सिर्फ उलझन है उसमे कहाँ दुनिया कि कोई समझ होती है
जो खयाल सही बन जाये उसे समझ लेने मे ही तो दुनिया को मतलब दे पाने कि बाते मुमकिन होती है सही मकसद से ही तो दुनिया मे हमारी जीत होती है
खयालों के कई दायरों मे जीवन कि दास्तान बनती है उनसे ही जीवन कि कहानी हर बार शुरु हो जाती है जीवन मे खयालों से वही कहानी बनती है
खयालों कि सौगाद तो तभी तोहफा बनती है जब जीवन कि कहानी बनती है बिना खयालों को समझे दुनिया कहाँ बन पाती है
जो खयाल समझ मे आ जाये उनसे ही हमारी हस्ती बनती है जिन्हे नही समझ पाते उन्हे साथ रखने से किस्मत नही बदल सकती है

Monday, 7 March 2016

कविता ५४५. जगह से जुडती सोच

                                               जगह से जुडती सोच
कोई जगह मन को कुछ इस कदर पसंद आती है उसे देखना हर बार नजर चाहती है जो हमे आगे ले जाती है अहम नजर आती है
किसी जगह के ओर नजर हर बार मुडती जाती है जो हमे रोशनी दे जाती है जो हमे जीवन मे नई दिशा दे कर आगे ले जाती है
हर जगह के अंदर अलग एहसास हर बार मिलता है क्योंकि हर जगह नई शुरुआत हमे मिल जाती है उस जगह से ही तो रोशनी आती है
शायद कोई प्यारी याद वह जगह अपने मे छुपा कर रख जाती है जो जीवन को नई साँसे दे जाती है हर पल आगे ले जाती है
किसी जगह से जब हमारी सोच जुड जाती है हर जगह के साथ यादे जिन्दा हो जाती है जीवन कि जो बाते उस जगह से जुड जाती है
वही बाते तो जीवन को बनाती है जीवन कि हर सोच को किसी जगह से बडी खास नजर आती है क्योंकि वही तो जीवन का एहसास बदलती जाती है
जगह के अंदर ही साँसे उम्मीदे देकर जिन्दा हो जाती है हमे हर बार जीवन कि कहानी ठिक से लिखने कि उम्मीदे वह जगह दे कर जाती है
जीवन कि धारा हर बार अलग मोड देती है जिसे समझ लेने कि जीवन को जरुरत होती है जो साँसे जीवन कि अहमियत होती है
कभी कभी वही साँसे किसी जगह से जुडती है वह जगह हर पल रोशनी दे जाती है जिसे समझ लेने से जीवन कि कहानी उजागर होती है
साँसे के अंदर कई तरह कि यादे जुडी होती है अगर उन्हे उम्मीद के साथ समझ लेते है तो जीवन कि सुबह होती है जो हमे रोशनी देती है
उस सोच को जीवन मे समझ लेने कि जरुरत होती है पर जगह से सोच को जोड लो तो जीवन मे मुसीबत होती है
क्योंकि जगह को कभी ना कभी छोडने कि जरुरत होती है पर सोच और यादों से जुडी उम्मीद जीवन भर पास रखनी होती है

कविता ५४४. अंदर का एहसास

                                              अंदर का एहसास
किसी सोच के अंदर एहसास जुदा होते है जिन्हे हम समझ ले वह किनारे जुदा होते है जिन्हे परख तो लेते है पर दुनिया के वह किस्से जुदा होते है
सोच के अंदर हम संभल कर आगे जाते है वह हिस्से जुदा होते है जो सोच से आगे बढ जाते है उस एहसास के किस्से अलग हर मोड पर होते है
मन को समझ लेने कि जरुरत हर बार सोच को बदल लेती है उस सोच कि कहानी हर बार जुदासी होती है उसकी निशानी जुदा लगती है
जब हम जीवन को समझ लेना चाहे तो जीवन मे हमारे एहसास अलग होते है जो सोच कि ताकद से जीवन को मतलब हर बार दे जाते है
सोच के अंदर जो एहसास दे उसे समझ लेने कि चाहत जुदा होती है हर सोच कि कहानी खुदके एहसास को बदल देने का किस्सा बता देती है
सोच के हर पेहलू को समझ लेना तो जीवन कि कहानी कुछ अलग बनती है सोच के पेहलू का हर हिस्सा हर बार कुछ नया होता है
हर सोच को जिन्दा रखने कि जरुरत से जीवन मे हमारे एहसास अलग होते है क्योंकि सोच को परख लेने कि जरुरत मे ही हर बार हम अपनी दुनिया जी लेते है
सोच के पेहलू हर बार बदलते रहते है सोच के बदलाव को हम कहाँ दुनिया मे समझ पाते है उनसे अलग अलग नतीजे हम हर बार जी लिया करते है
सोच को अलग अलग दिशाओं मे हम समझ लेते है उस सोच के अंदर कई किनारे हमे हर बार दिखते है जिन्हे हम समझना भुल जाते है
सोच को हम जीवन मे समज लेते है तो जीवन मे हम खुशियाँ हासिल किया करते है जीवन को समज लेते है तो बस तभी जब सोच को अच्छेसे समज लिया करते है